लाॅक डाउन पर भारी मंडी की भीड़, ताश खेलने वालों का मजमा

Sawai Madhopur News - कोरोना का संक्रमण एक दूसरे के संपर्क में आने से ही फैलता हैं। यही कारण है कि सभी से इस बात की अपील की जा रही है कि एक...

Mar 27, 2020, 09:41 AM IST

कोरोना का संक्रमण एक दूसरे के संपर्क में आने से ही फैलता हैं। यही कारण है कि सभी से इस बात की अपील की जा रही है कि एक दूसरे से दूर रहने के लिए सभी घरों में रहें। अगर मजबूरी में घरों से बाहर निकलना भी पड़े तो कम से दूसरे व्यक्ति से एक मीटर की दूरी बना कर रखें। बजरिया क्षेत्र के जागरूक लोग काफी हद तक इसकी पालना भी कर रहे हैं, लेकिन शहर सवाई माधोपुर में हालात ठीक नहीं हैं। यहां गुरूवार की शाम कई जगह लोग चौराहों पर खासी भीड़ जमा कर ताश खेलते दिखाई दिए। सब्जी मंडी में लोगों की भीड़ का आलम यह था कि वहां दूरी बनाना तो दूर लोग एक दूसरे से इस प्रकार फंस कर सब्जी खरीद रहे थे जैसे आज और अभी सब्जी नहीं खरीदी तो शायद जीवन में फिर कभी सब्जी खरीदने का मौका ही नहीं मिलेगा।

शहर की सब्जी मंडी का देखना होगा विकल्प

पुराने शहर में आबादी घनी हैं और सौ बाई सौ फीट के एक छोटे से दायरे की चार दीवारी में सीमित हैं। इस में आने जाने के लिए दो छोटे गेट हैं। इसी से पूरे शहर के लोगों को आना जाना होता हैं। इन हालातों में अगर लोगों को मंडी में प्रवेश करना या निकलना है तो इन्ही ही दोनों सकरे दरवाजों से निकलना होगा। आलम यह हैं कि शाम पांच बजे से सात बजे के बीच ही लोग पुरानी आदत के अनुसार सब्जी खरीदने पहुंच रहे हैं और इस दौरान वहां भीड़ का जो नजारा होता है उसे देख कर लगता है, लोग कह रहे हैं कोरोना आवों आपका सवाई माधोपुर की जनता इंतजार कर रही हैं। जिस प्रकार प्रशासन किराना एवं मेडिकल स्टोर पर गोले बना कर लोगों को दूरी बनाते हुए खड़े रहने की हिदायत दे रहा है, उसी प्रकार एक बार सब्जी मंडी में भी प्रशासन को कुछ अहम निर्णय लेने होंगे।

ताश वालों को किस भाषा में समझाए

शहर में कई जगह ऐसी हैं जहां लोग सड़कों एवं मुख्य चौराहों पर मजमा लगा कर ताशपत्ती खेलते देखे जा रहे हैं। इन में गंभीर बात यह है कि ज्यादातर लोग अधिक उम्र वाले एवं कमजोर भी है। शहर के मनिहारी बाजार स्थित अखाड़ा हनुमान मंदिर के सामने इसी प्रकार से करीब 40-50 लोग पूरी भीड़ लगा कर ताशपत्ती खेल रहे थे। इनको दूसरे लोग चारो तरफ से घेर कर तमाशा देख रहे थे। कैमरा अपनी तरफ देख कर करीब 15 लोग तो वहां से हट गए, लेकिन फिर भी करीब 25-30 लोग न तो वहां से हटने को तैयार थे और न ही समझने को। उनको कोरोना का खौफ नहीं केवल गुलाम, बेगम, बादशाह ही समझ आ रहा था। इसी प्रकार पुरानी अनाज मंडी, ठठेरा कुंड एवं मनिहारी बाजार में भी लोगों के झुंड भीड़ जमा कर ताशपत्ती खेलते देखे गए।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना