भीया गांव में इस बार नहीं सुनाई नहीं देगा डू-डू-डू डूई

Bundi News - जिले की पहचान हडूडा का गणगौर पर खास आयोजन होता है। भीया में पहलवान भगवान शर्मा की याद में 800 साल से यह परंपरा कायम...

Mar 27, 2020, 07:15 AM IST
Bundi News - rajasthan news doe doo doo doi will not be heard this time in bhiya village

जिले की पहचान हडूडा का गणगौर पर खास आयोजन होता है। भीया में पहलवान भगवान शर्मा की याद में 800 साल से यह परंपरा कायम है, पर इस बार करोना की वजह से परंपरा टूट गई।

हडूडा चौक पर सामूहिक कुश्ती को देखने के लिए जिलेभर से लोग जुटते हैं, एक तरफ दंगल होता है, पीछे महिलाएं गणगौर के लोकगीतों से मंगलकामना करती हैं। छाती ऊपर सेलड़ा, माथा ऊपर भार...बोलते हुए जोश के साथ पहलवान दंगल में उतरते हैं। दांवपेच से एक दूसरे को मात देते हैं। ढोल-नगाड़ों से पहलवानों का जोश परवान चढ़ता। आवाज गूंजती है डू-डू-डू-डू डुई...लोगों का हुजूम उमड़ने लगता है। शाम चार बजे दंगल शुरू होता है। देरशाम सांस्कृतिक आयोजन में विजेताओं को पुरस्कार में वस्त्र दिए जाते हैं। गणगौर पर विशेष पूजा का महत्व रहा है। इसके चलते गणगौर पूजन के दौरान छोटी कन्याओं को दूल्हा-दुल्हन बनाया जाता है। कन्याएं तालाब-हैंडपंप से सिर पर जलेरी धारण कर 9 दिन तक गणगाैर पर जल चढ़ाती हैं।

गांव के बुजुर्ग बताते हैं कि कुश्ती में भीया गांव को कोई हरा नहीं पाया था, यहां के पहलवान स्व. भगवान शर्मा से कोई नहीं जीत पाया। एक बार गांव में दंगल था, जिसमें जेठिया परिवार की ओर से कुश्ती के लिए बुलाए गए पहलवानों को भगवानजी ने खेत पर ही रोक लिया। गेहूं से भरी गाड़ी का पहिया निकला हुआ था, उसे गाड़ी में लगाने की शर्त रख दी। उन्होंने कहा कि अगर पहिया फिट कर दें तो दंगल में उतरना नहीं तो लौट जाना। पहलवान नहीं माने, खेलने की जिद कर दंगल में आए। पहलवान भगवानजी ने दोनों पहलवानों को अपनी बाजुओं में लेकर गर्दन मरोड़ दी, जिनकी मौत हो गई। उसके बाद फिर कभी बाहर का कोई पहलवान भीया गांव में कुश्ती के लिए नहीं आया। आज भी गांव के तालाब के किनारे एक शिलालेख में उनकी पहलवानी के किस्से दर्ज हैं। गांववालों की यादों में उनके किस्से हैं।

गणगौर पूजने के लिए बांटे मास्क-मेहंदी के कोण

लाॅकडाउन के चलते शुक्रवार को गणगौर पूजने के लिए विजयवर्गीय समाज की ओर से महिलाओं को मास्क अाैर मेहंदी के कोण बांटे जा रहे हैं। समाज के अध्यक्ष माधवप्रसाद विजयवर्गीय ने बताया कि समाज द्वारा महिलाओं को माक्स-मेहंदी के कोण बांटे गए।

X
Bundi News - rajasthan news doe doo doo doi will not be heard this time in bhiya village

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना