गणगाैर अाज, प्रतिमा घर में ही पूजें पूजा में सामग्री नहीं भाव जरूरी है

Bhilwara News - भीलवाड़ा | काेराेना संक्रमण के चलते कर्फ्यू लगने का प्रभाव नवरात्र के साथ ही गणगाैर पर्व पर भी पड़ रहा है।...

Mar 27, 2020, 07:05 AM IST

भीलवाड़ा | काेराेना संक्रमण के चलते कर्फ्यू लगने का प्रभाव नवरात्र के साथ ही गणगाैर पर्व पर भी पड़ रहा है। पंडिताें ने सभी से त्याेहार घर पर ही मनाने की सलाह दी है। कर्फ्यू के कारण पूजा-अर्चना में उपयाेग हाेने वाली वस्तुअाें के उपलब्ध नहीं हाेने से श्रद्धालु असमंजस के साथ ही अपने अाप काे असहज महसूस कर रहे हैं।

नगर व्यास पंडित राजेंद्र कुमार व पंडित अशाेक शर्मा ने नवरात्र के तीसरे दिन तृतीया पर हाेने वाली गणगाैर पूजा के लिए महिलाअाें काे सलाह दी है कि यदि गणगाैर शिव-पार्वती की प्रतिमाएं नहीं मिल पाएं ताे घर में ही कागज या मिट्टी से खुद उन्हें बनाकर पूजा कर लें। मंदिराें में राेज सुबह-शाम नवरात्र की पूजा ताे हाे रही, लेकिन भक्ताें की भीड़ नहीं लगने दी जा रही हैं। पंडिताें ने महिलाअाें काे सलाह दी है कि वे शुक्रवार काे गणगाैर की पूजा घराें में ही करें। गणगाैर की प्रतिमा नहीं ला पाएं ताे घर में ही मिट्टी से प्रतीकात्मक प्रतिमाएं बनाकर पूजा कर लें। कर्फ्यू के कारण गणगाैर प्रतिमा का विसर्जन तालाब, झील अादि पर जाकर करने के बजाय घर मे गमले में या फिर पीपल के पेड़ के नीचे रखकर उन्हें जल अर्पण कर किया जा सकता है।

गणगाैर पूजन का मुहूर्त

सुबह 6.38 से 11.12 बजे तक व दाेपहर 12.19 से 2.10 बजे तक गणगाैर पूजन करना श्रेष्ठ है। पूजन के लिए घर से बाहर जाने की अावश्यकता नहीं है। घर में जाे सामग्री उपलब्ध है उससे ही पूजन करें। नवरात्र में उपवास रखने के साथ ही घराें में रहते हुए पूजा-अर्चना व अारती करें। पूजा के लिए सामग्री उपलब्ध नहीं हाे ताे घर में जाे सामग्री है उससे ही पूजा की जा सकती है। पूजा में अापके भाव व श्रद्धा का महत्व है। हवन सामग्री कम पड़ने पर घी अाैर गुड़ से भी अाहुतियां दी जा सकती है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना