ग्रामीण इलाकों में निगरानी की जरूरत झाेलाछाप कर रहे हैं मरीजों का इलाज

Jaisalmaer News - काेराेना के चलते जहां अस्पतालों में प्रशासन अाैर स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह सक्रिय है वहीं ग्रामीण इलाकों में...

Mar 27, 2020, 07:00 AM IST

काेराेना के चलते जहां अस्पतालों में प्रशासन अाैर स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह सक्रिय है वहीं ग्रामीण इलाकों में झाेलाछाप लाेग मरीजों का उपचार करने में जुटे हैं। इन झाेलाछाप के कारण पहले जैसलमेर जिले में मरीजों की माैत हाे चुकी है। इसके बावजूद प्रशासन उपखण्ड क्षेत्र में निगरानी नहीं रख रहा है। झोलाछाप डॉक्टर भणियाणा क्षेत्र में अवैध रूप से मरीजों का उपचार कर रहे हैं। वहीं अभी चल रहे कोरोना वायरस व बार-बार बदल रहे मौसम ने लोगों को बीमार करना शुरू कर दिया है। इस समय बड़ी संख्या में लोग खांसी-जुकाम और अन्य मौसमी बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। इस वजह से फलसूंड, राजमथाई, रातड़िया, माडवा, जालोड़ा पोकरणा, बान्धेवा, भीखोडाई, भणियाणा क्षेत्र में कोरोना वायरस के डर से झोलाछाप डॉक्टरों के क्लीनिकों पर लोगों की लाइन लगनी शुरू हो गई हैं। इस वजह से उनकी चांदी हो रही है। लेकिन स्वास्थ्य विभाग इस तरफ बेखबर नजर आ रहा हैं। झोलाछाप फर्जी डिग्री का सहारा लेकर लोगों का सस्ता इलाज कर रहे हैं। ऐसे डॉक्टर को कोई फर्क नहीं पड़ता कि उनके द्वारा दी जा रही दवा से लोगों के स्वास्थ्य पर क्या असर पड़ेगा। उन्हें तो सिर्फ कमाई से मतलब रहता हैं। इस प्रकार के झोलाछाप डॉक्टर लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ करने में जरा भी नहीं हिचकते। यहां तक की लोगो के छोटे-मोटे ऑपरेशन तक कर डालते हैं। इन झोलाछाप के चंगुल में गरीब ही फंसते हैं। जिनके पास बड़े डॉक्टरों की फीस व महंगी दवाई के लिए राशि नहीं होती हैं। झोलाछाप डॉक्टरों के इलाज से कोई हादसा होता हैं तो स्वास्थ्य विभाग अभियान चलाकर कार्रवाई भी खानापूर्ति के रुप में करता है। कारण कमीशन के चक्कर में अधिकारी ठोस कार्रवाई नहीं करते हैं और ऐसे डॉक्टरों के हौंसले बुलंद होते हैं। इससे झोलाछाप डॉक्टर जगह-जगह अपने क्लीनिक संचालित कर रहे हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना