हे भगवान... हमें अपनों तक सुरक्षित पहुंचा दो...

Rajsamand News - कोरोना वायरस के कारण गुजरात से पलायान कर राजस्थान आ रहे बहुत से प्रवासियों के चेहरे पर खौफ और अपनों के बीच...

Mar 27, 2020, 09:00 AM IST
Nathdwara News - rajasthan news oh god give us safe to our loved ones

कोरोना वायरस के कारण गुजरात से पलायान कर राजस्थान आ रहे बहुत से प्रवासियों के चेहरे पर खौफ और अपनों के बीच पहुंचने की जद्दोजहद रतनपुर बॉर्डर पर दो दिन से दिखाई दे रही है। हर किसी की जुबां पर एक ही दुआ है कि हे भगवान हमें सुरक्षित घर पहुंचा दाे। लोगों को उनके छोटे-छोटे बच्चों के साथ बॉर्डर पार करते देखा। प्लेग महामारी और गुजरात दंगों के बाद सबसे बड़ा पलायन है।

देशभर में लॉकडाउन के बाद 22 मार्च से अब तक करीब 50 हजार लोग परिवार सहित बॉर्डर पार राजस्थान, मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश अपने घरों की ओर निकले हैं। महज 24 घंटों के दौरान ही 30 हजार लोगों ने बॉर्डर पार किया है। भास्कर रिपोर्टर बुधवार रात 12 बजे से गुरुवार दोपहर 12 बजे तक रतनपुर बॉर्डर पर थे। खास यह कि रात 12 बजे जितनी भीड़ थी, उतनी ही सुबह 12 बजे भी दिखी। दाे दिन में हालात में बदल गए। दाे दिन पहले जहां लाेगाें के नाम-पते लिख कर भेज रहे थे, वहीं बुधवार रात से 25 डॉक्टरों की टीम पूरे समर्पण के साथ जुटी हुई थी। यह टीम लगातार काम कर रही थी। हर एक की स्क्रीनिंग हा़े रही थी। यहां डॉक्टरों के साथ मेडिकल टीम का सराहनीय सहयोग रहा। वहीं गुजरात से अाने वाले लाेगाें के लिए आवश्यक सामग्री भी दी जा रही थी। वहीं, डूंगरपुर जिले में अाने के लिए बसें भी लगी हुई थीं।

नाथद्वारा व आसपास के गांवों के 50 से अधिक लोगों को रतनपुर बाॅर्डर से लाए

नाथद्वारा/देलवाड़ा | अन्य प्रदेशों से आने वाले प्रवासियों के आने का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। गुरुवार शाम को नेगड़िया टोल प्लाजा पर राजस्थान रोडवेज बस में 50 से अधिक प्रवासी आए।

सभी प्रवासी नाथद्वारा शहर और आसपास के गांवों के निवासी हैं। पुलिस ने उन्हें वहीं पर उतार लिया, नाथद्वारा और खमनोर से पहुंची चिकित्सा टीम ने सभी की जांच की। गुजरात के विभिन्न शहरांे में फंसे लोग अब अपने घर गांव को लौट रहे हैं। नेगड़िया टोल प्लाजा पर सभी को बस से अतार कर गांव कस्बो के हिसाब से अलग-अलग लाइनाें में खड़ा किया गया। सभी की स्क्रेनिंग और जांच की गई। गुजरात के शहरों में फंसे लोग ट्रक और अन्य वाहनों में बैठ कर लौटने लगे हैं, लेकिन सभी को रतनपुर बाॅर्डर पर रोक दिया गया। गत 3 दिनों में बार्डर पर राजस्थान आने वालों की भीड़ लग गई। सरकारी आदेश के बाद रोडवेज बसों में रतनपुर बाॅर्डर से लोगों को लाया गया।

इस संकट घड़ी में अपने के बीच पहुंचने की चाह

अहमदाबाद में अपने पति राकेश के साथ चाय की होटल चलाने वाली सोनम यादव कहती हैं कि महामारी पूरे देश में फैली है। वे मूलरूप से मथुरा निवासी हैं। संकट की इस घड़ी में वह बच्चों सहित मथुरा अपने परिवार के बीच सुरक्षित पहुंच जाएं, यही सबसे अच्छा है। पता नहीं आगे क्या हो...। सरकार अपना काम कर रही है, लेकिन बीमारी तो बीमारी है। सोनम ने बताया कि उसके एक वर्ष का बच्चा है। बच्चा छोटा है। वाहन बंद हो गए तो पति ने उससे पैदल ही मथुरा चलने की कहा था, लेकिन बच्चा छोटा होने के कारण उसकी हिम्मत नहीं हुई। अब बस शुरू हो गई है।


150 किमी पैदल चलकर पहुंचे रतनपुर बॉर्डर

अहमदाबाद से देवल गामड़ी निवासी जवा भाई गमेती भी परिवार के साथ पैदल ही निकल पड़े। जवा भाई ने बताया कि वे दोनों पैर से दिव्यांग हैं तथा अपनी प|ी साजू, 6 माह का बेटा व 12 साल की बेटी के साथ रतनपुर बॉर्डर पहुंचे। अहमदाबाद के सेटलैट एरिया के घरों में काम कर अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। जवा भाई गमेती के साथ उसकी बेटी भी कंधे पर भारी बेग लिए हुए अहमदाबाद से पैदल ही रतनपुर बार्डर पहुंचे हैं।

Nathdwara News - rajasthan news oh god give us safe to our loved ones
X
Nathdwara News - rajasthan news oh god give us safe to our loved ones
Nathdwara News - rajasthan news oh god give us safe to our loved ones

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना