मुनाफाखोरी : सब्जी व फलों के भाव दुुगुने कर दिए, माेल करने पर बाेल रहे- सस्ता ढूंढ लाे

Dungarpur News - कोरोना वायरस के लिए एक ओर पूरा देश लड़ रहा है वहीं कई व्यापारी अब इसमें भी मुनाफाखोरी और कमाई के साधन ढूढ़ रहे है।...

Mar 27, 2020, 07:36 AM IST
Dungarpur News - rajasthan news profitability vegetable and fruit prices doubled

कोरोना वायरस के लिए एक ओर पूरा देश लड़ रहा है वहीं कई व्यापारी अब इसमें भी मुनाफाखोरी और कमाई के साधन ढूढ़ रहे है। इसके कारण शहर सहित जिलेभर में किराणा सामान में 10 प्रतिशत तक इजाफा हो गया है। स्थिति ऐसी है कि आटा, शक्कर, सूजी और दलिया के भाव में 10 से 30 प्रतिशत बढ़ा दिए है। इनके गोदाम में पहले ही माल भरा हुआ है। इसके बावजूद लॉकबंदी के कारण स्टॉक नहीं होने व अागे से महंगा अाने बहाना बनाते हुए रिटेलर्स को भाव बढ़ाकर माल दे रहे है।

इसी का फायदा अब रिटेलर्स को उठा रहे है। वो भी अब ग्राहकों को भाव बढ़ाकर दे रहे है। लॉकडाउन के कारण लोग भी मजबूरी में ज्यादा भाव में माल खरीद रहे है। इसके कारण उन्हें आर्थिक नुकसान झेलना पड़ रहा है। हालाकि कुछ जगह गुटखा और तम्बाकू उत्पाद भी महंगा हो गया है। ये आपातकालीन सेवा में नहीं आता है इसके बावजूद कई होलसेलर इसी का फायदा उठा रहे है। लॉक डाउन के समय सब्जी और फ्रुट विक्रेता भी मुनाफा कमा रहे है। जहां पहले दिन पूरे शहर में 50 सब्जी विक्रेता थे वो दूसरे दिन 100 से अधिक हो गए। सब्जी विक्रेता की ओर से आवक नहीं होने का बहाना करते हुए होलसेलर की ओर से हर सब्जी के भाव दाे गुने कर दिए है। इसके कारण रिटेलर्स की ओर से भाव बढ़ाकर बेचे जा रहे है। प्रशासन की ओर से जिन सब्जी विक्रेता को हिम्मतनगर, उदयपुर और रतलाम सब्जी लाने की छूट दे रखी है। वो इसका गलत फायदा उठा रहे है। होलसेल मंडी के भाव को दुगुना करते हुए सब्जी रिटेलर्स को बेचा जा रहा है। इसके कारण इन रिटेलर्स की ओर से बाजार में सब्जी भी महंगी बेची जा रही है। आलू जो पहले 20 रुपए किलो के हिसाब से रिटेलर्स का मिलता था। अब उसका भाव सीधे 30 रुपए कर दिया है। रिटेलर्स इस भाव से खरीदकर 35 रुपए के हिसाब से बेच रहा है। यही हाल अन्य सब्जी और फल का है। सामान्य दिनों से दुगुना भाव वसूला जा रहा है।

सब्जी-फल विक्रेताओं के यहां रेस्ट लिस्ट लगेगी

कलेक्टर कानाराम का कहना है कि मुनाफाखोरी करना कानूनी गलत है। सभी होलसेलर और रिटेलर्स को पाबंद किया जाएगा। सब्जी और फल विक्रेता के वहां रेट लिस्ट तय कर लगाई जाएगी। इससे ज्यादा वसूलने पर कार्रवाई की जाएगी।

100 से अधिक हो गए। सब्जी विक्रेता की ओर से आवक नहीं होने का बहाना करते हुए होलसेलर की ओर से हर सब्जी के भाव दाे गुने कर दिए है। इसके कारण रिटेलर्स की ओर से भाव बढ़ाकर बेचे जा रहे है। प्रशासन की ओर से जिन सब्जी विक्रेता को हिम्मतनगर, उदयपुर और रतलाम सब्जी लाने की छूट दे रखी है। वो इसका गलत फायदा उठा रहे है। होलसेल मंडी के भाव को दुगुना करते हुए सब्जी रिटेलर्स को बेचा जा रहा है। इसके कारण इन रिटेलर्स की ओर से बाजार में सब्जी भी महंगी बेची जा रही

प्रतिशत इजाफा किया है। शक्कर के भाव जहां रिटेल में 38 से 40 रुपए चल रहे थे। अब होलसेल में इसी भाव को 40 से 42 रुपए कर दिए है। इसी प्रकार सूजी का भाव पहले रिटेल में 34 रुपए चल रहा था वो अब बढ़कर 38 रुपए हो चुका है। इसी प्रकार दलिया का भाव 35 से बढ़कर 40 रुपए कर दिया है। गेहूं के आटा का भाव जहां पहले 150 से 155 रुपए पांच किलो के पैकेट का था। वो अब 170 से 200 रुपए वसूला जा रहा है। इसके लिए होलसेलर व्यापारी माल की किल्लत और स्टॉक की कमी का बहाना बनाकर लूट रहे है।

इसी का फायदा अब रिटेलर्स को उठा रहे है। वो भी अब ग्राहकों को भाव बढ़ाकर दे रहे है। लॉकडाउन के कारण लोग भी मजबूरी में ज्यादा भाव में माल खरीद रहे है। इसके कारण उन्हें आर्थिक नुकसान झेलना पड़ रहा है। हालाकि कुछ जगह गुटखा और तम्बाकू उत्पाद भी महंगा हो गया है। ये आपातकालीन सेवा में नहीं आता है इसके बावजूद कई होलसेलर इसी का फायदा उठा रहे है। लॉक डाउन के समय सब्जी और फ्रुट विक्रेता भी मुनाफा कमा रहे है। जहां पहले दिन पूरे शहर में 50 सब्जी विक्रेता थे वो दूसरे दिन 100 से अधिक हो गए। सब्जी विक्रेता की ओर से आवक नहीं होने का बहाना करते हुए होलसेलर की ओर से हर सब्जी के भाव दाे गुने कर दिए है। इसके कारण रिटेलर्स की ओर से भाव बढ़ाकर बेचे जा रहे है। प्रशासन की ओर से जिन सब्जी विक्रेता को हिम्मतनगर, उदयपुर और रतलाम सब्जी लाने की छूट दे रखी है। वो इसका गलत फायदा उठा रहे है। होलसेल मंडी के भाव को दुगुना करते हुए सब्जी रिटेलर्स को बेचा जा रहा है। इसके कारण इन रिटेलर्स की ओर से बाजार में सब्जी भी महंगी बेची जा रही है। आलू जो पहले 20 रुपए किलो के हिसाब से रिटेलर्स का मिलता था। अब उसका भाव सीधे 30 रुपए कर दिया है। रिटेलर्स इस भाव से खरीदकर 35 रुपए के हिसाब से बेच रहा है। यही हाल अन्य सब्जी और फल का है। सामान्य दिनों से दुगुना भाव वसूला जा रहा है।

ट्रांसपोर्ट बंद तो नया माल कहां से आया : शहर के कई रिटेलर्स ने बताया कि उन्हें होलसेल में पंद्रह दिनों पहले जिस भाव में सामान खरीदा था। उसमें लगभग 20 से 30 प्रतिशत इजाफा किया है। शक्कर के भाव जहां रिटेल में 38 से 40 रुपए चल रहे थे। अब होलसेल में इसी भाव को 40 से 42 रुपए कर दिए है। इसी प्रकार सूजी का भाव पहले रिटेल में 34 रुपए चल रहा था वो अब बढ़कर 38 रुपए हो चुका है। इसी प्रकार दलिया का भाव 35 से बढ़कर 40 रुपए कर दिया है। गेहूं के आटा का भाव जहां पहले 150 से 155 रुपए पांच किलो के पैकेट का था। वो अब 170 से 200 रुपए वसूला जा रहा है। इसके लिए होलसेलर व्यापारी माल की किल्लत और स्टॉक की कमी का बहाना बनाकर लूट रहे है।

डूंगरपुर. सब्जी मंडी में खरीदारी करते लोग।

X
Dungarpur News - rajasthan news profitability vegetable and fruit prices doubled

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना