लावनी करते वक्त मास्क लगाएं, एक-दूसरे से दूरी भी रखें

Bharatpur News - पहले बेमौसम बारिश, फिर ओलावृष्टि और अब कोरोना वायरस। अन्नदाता किसान एक के बाद एक संकट झेल रहा है। खेतों में गेहूं...

Mar 27, 2020, 07:30 AM IST

पहले बेमौसम बारिश, फिर ओलावृष्टि और अब कोरोना वायरस। अन्नदाता किसान एक के बाद एक संकट झेल रहा है। खेतों में गेहूं और सरसों की फसल पक कर तैयार है। लेकिन, मजदूर नहीं मिल रहे हैं। नुकसान से बचने के लिए कई किसान तो परिवार के लोगों के साथ खुद ही फसल की कटाई में जुट गए हैं। वहीं अब पशुओं के लिए चारे-पानी का संकट भी सताने लगा है। इस बीच, कृषि विभाग ने सभी कलेक्टरों को फसल कटाई को लेकर निर्देश जारी किए हैं। इनमें कहा गया है कि फसल कटाई और थ्रेसिंग के दौरान किसान और मजदूरों को कोरोना गाइड लाइन बताई जाए। उन्हें इस दौरान पूरी सावधानियां बरतने को कहा जाए।

शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के खेतों में गेहूं की फसल पक कर तैयार खड़ी हुई है। लेकिन कोरोना वायरस संक्रमण के चलते फसल कटाई को लेकर मजदूरों का अभाव बना हुआ है। साथ ही आए दिन मौसम के बिगड़ने से किसानों की समस्याएं बढ़ने लगी है। ग्रामीण क्षेत्र के किसान कस्बे की मजदूर महिलाओं को निर्धारित समय से पूर्व ही घरों से वाहनों में बिठाकर ले जा रहे है। जिससे कस्बा स्थित खेतों में आधी फसल कटी हुई पड़ी है। ऐसे में मजदूर व थ्रेसरों की कमी से गेहूं निकल नहीं पा रहे है।

फसल कटाई में ये सावधानियां जरूर बरतें

{संभव हो तो मशीनों से कटाई करें। हाथ से चलाने वाले यंत्रों को साबुन के पानी से सेनेटाइज करें।

{खेतों में एक-दूसरे से न्यूनतम 5 मीटर की सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर रखें। मुंह पर मास्क लगाकर रखें। सभी लोगों के लिए खाने के अलग-अलग बर्तन रखें। उपयोग से पहले इन्हें साबुन से धोएं।

{फसल कटाई के लिए एक-दूसरे के दरांती आदि उपकरणों का उपयोग नहीं करें

{कटाई के दौरान बीच-बीच में अपने हाथों को साबुन से धोते रहें। प्रत्येक व्यक्ति के पास पीने के पानी की अलग बोतल हो। कटाई के लिए पहले दिन पहने गए कपड़ों को दूसरे दिन न पहनें। बल्कि साबुन से अच्छी तरह धोकर सुखाएं। {अगर किसी व्यक्ति में खांसी, जुकाम, सिरदर्द, बुखार, बदन दर्द जैसे लक्षण हों तो उसे फसल कटाई में ना लगाएं। उसकी सूचना कंट्रोल रूम को दें।

नगर खेत में गेंहू की फसल काटती महिलाएं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना