Hindi News »Business» Rate Of Replacement Female By Female On Top Post Is Least

शीर्ष पदों पर पुरुषों का दबदबा; 9 साल में 24 महिला सीईओ के इस्तीफे, सिर्फ 3 महिलाएं नियुक्त: रिपोर्ट

पेप्सीको की सीईओ इंद्रा नूई 3 अक्टूबर को पद छोडेंगी, उनकी कुर्सी भी एक पुरुष संभालेगा

DainikBhaskar.com | Last Modified - Aug 07, 2018, 05:05 PM IST

शीर्ष पदों पर पुरुषों का दबदबा; 9 साल में 24 महिला सीईओ के इस्तीफे, सिर्फ 3 महिलाएं नियुक्त: रिपोर्ट

नई दिल्ली. एसएडंपी 500 की कंपनियों की जिन 24 महिला सीईओ ने 9 साल में इस्तीफा दिया, उनमें से सिर्फ 3 को छोड़ बाकी की जगह पुरुषों ने ली। इनमें पेप्सीको की सीईओ इंद्रा नूई भी शामिल हैं जिन्होंने सोमवार को ऐलान किया कि 3 अक्टूबर को सीईओ पद छोड़ देंगी। उनकी जगह रामोन लागुआर्ता लेंगे। स्पेंसर स्टुअर्ट के एनालिसिस में ये बात सामने आई है कि महिलाओं की जगह महिलाओं के सीईओ बनने की संख्या काफी कम है। इसके मुताबिक दुनिया की बड़ी कंपनियां शीर्ष पदों पर महिलाओं की नियुक्ति में हमेशा मुश्किलों का सामना करती रही हैं। महिला सीईओ की संख्या सिर्फ 5% है।

2009 में पहली बार महिला सीईओ की जगह दूसरी महिला ने ली : पिछले साल रेनॉल्ड्स अमेरिकन कंपनी में सीईओ की कुर्सी पर सुसाल कैमरॉन की जगह डेबरा क्रू ने ली। छह साल में यह पहला मौका था जब सीईओ पद पर किसी महिला की जगह दूसरी महिला ने ली। इससे पहले 2012 में एवॉन प्रोडक्ट्स में शेरी मैकॉय ने एंड्रिया जुंग को रिप्लेस किया। शेरी ने पिछले साल इस्तीफा दे दिया और उनकी जगह पुरुष ने ली। हालांकि, एवॉन प्रोडक्ट्स कंपनी एसएंडपी 500 इंडेक्स में शामिल नहीं है। पहली बार 2009 में किसी महिला सीईओ की जगह दूसरी महिला ने ली। उस वक्त जेरॉक्स कॉर्प में उर्सुला बर्न्स, एन्ने मुलकेही की जगह सीईओ बनी थीं। 2016 में जब बर्न्स ने पद छोड़ा तो पुरुष ने ही सीईओ की कुर्सी संभाली। ग्रांड थॉर्टन की 2018 की रिपोर्ट के मुताबिक दुनियाभर की कंपनियों में महिला एग्जीक्यूटिव की संख्या 25% से घटकर 24% रह गई। ब्लूमबर्ग और कैटलिस्ट के मुताबिक इंद्रा नूई के सीईओ पद छोड़ने के बाद एसएंडपी 500 कंपनियों में महिला सीईओ की संख्या 23 रह जाएगी। रिक्रूटमेंट फर्म बॉयडेन के ग्लोबल चीफ टॉम फ्लेनरी का कहना है कि ज्यादातर यही होता है कि जब भी कोई महिला सीईओ पद छोड़ती है तो उसकी जगह पुरुष लेता है। इसके लिए कंपनियों के बोर्ड जिम्मेदार हैं जिनमें अधिकतर पुरुष होते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Business

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×