‘भूमि ग्रीन’ के दोनों डायरेक्टर्स के खिलाफ री-अरेस्ट वारंट जारी

Panchkula Bhaskar News - सेक्टर 30 भूमि ग्रीन हाऊसिंंग प्रोजेक्ट के मामले में हरियाणा रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी पंचकूला की ओर से भूमि...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 07:30 AM IST
Panchkula News - re arrest warrant issued against both 39bhoomi green39 directors
सेक्टर 30 भूमि ग्रीन हाऊसिंंग प्रोजेक्ट के मामले में हरियाणा रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी पंचकूला की ओर से भूमि ग्रीन हाऊसिंग प्रोजेक्ट के दोनों डायरेक्टर्स सुरेंद्र सिंह देसवाल और अभिमन्यु देसवाल के खिलाफ री-अरेस्ट वारंट 10 अक्टुबर को हुई सुनवाई में जारी किया गया। हरेरा कोर्ट ने मामले की सुनवाई शुरू होते ही पूछा कि क्या प्रोजेक्ट के डायरेक्टर को पुलिस ने गिरफ्तार किया है या नहीं यह बताएं। इस पर कोर्ट को प्रोजेक्ट के डायरेक्टर को गिरफ्तार नहीं किए जाने की बात बताई गई। जिसके बाद कोर्ट ने कहा कि पुलिस को रिअरेस्ट के लिए कहा जाए और उसके साथ ही कोर्ट ने प्रोजेक्ट के दोनों डायरेक्टर के खिलाफ रिअरेस्ट वारंट जारी किया गया। मामले में अब अगली सुुनवाई 31 अक्टुबर की रखी गई है। अलॉटी इंदूबाला ने बताया मार्च महिने में उसका पैसा रिफंड किया जाना था जो कि अभी तक नहीं किया या। यहां तक कि कोर्ट ने 11 सितंबर की सुनवाई में अरेस्ट वारंट जारी िकया था लेकिन पुलिस की लापरवाही की वजह से उसे गिरफ्तार नहीं किया गया। अगरी सुनवाई में अगर पुलिस उसे गिरफ्तार नहीं करती तो कोर्ट से वह न्याय के साथ रिफंड दिलवाए जाने की गुहार लगाएगी। आपको बता दें कि हरेरा कोर्ट ने पिछली सुुनवाई 11 सितंबर 2019 को कहा था कि भूमिग्रीन हाऊसिंग प्रोजेक्ट के डायरेक्टर्स की ओर से जानबूझकर विधवा अलॉटी का पैसा नहीं ंलौटाया जा रहा है। इसके अलावा कोर्ट ने प्रोजेक्ट के दोनों डायरेक्टर्स को अपियर होकर जवाब दायर करने के लिए कहा था। कोर्ट के आदेश के बावजूद प्रोजेक्ट के दोनों डायरेक्टर हाजिर नहीं हुए थे जिसके बाद दोनों के खिलाप अरेस्ट वारंट जारी किया था।

ये है नियम : नियम के मुताबिक बिल्डर को प्रोजेक्ट शुरू करने के तीन साल के भीतर अलॉटिज को फ्लैट का पजेशन देना होता है। बिल्डर को ज्यादा से ज्यादा 6 महिने का ग्रेस पीरियड का समय दिया जाता है ताकि 3 साल 6 महिने। एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी बलदेव कपूर ने बताया कि फ्लैट के पजेशन दिए जाने की डेडलाइन 6 साल पहले ही खत्म हो चूका है।


आपको बता दें कि फ्लैट के पजेशन का काम 2014 से रूका हुआ है। बिल्डर की ओर से अलॉटिज से फ्लैट की बकाया राशि दिए जाने को कहा गया। जिसे अलॉटिज ने देने से मना कर दिया। दरअसल ज्यादातरर अलॉटिज ने बैंक से कंस्ट्रक्शन बेस्ड लोन ले रखा है लेकिन 2014 से फ्लैट के कंस्ट्रक्शन का काम रूके होने के बाद उन्होंने बिल्डर को पैसा नहीं दिया है। अलॉटिज ने बिल्डर से कहा कि तुम काम शुरू करवाओ उसके बाद ही इंस्टॉलमेंट की पेमेंट देंगे। बिल्डर के पास पर्याप्त पैसा नहीं होने की वजह से काम रुका हुआ है।

ये है मामला... भूमि ग्रीन हाऊसिंग प्रोजेक्ट की अलॉटी इंदू बाला ने 2010 में प्रोजेक्ट में थ्री बीएचके फ्लैट बुक किया था। 2011 में बने बायर एग्रीमेंट के तहत तीन साल के भीतर फ्लैट का पजेशन दिए जाने की बात बताई गई थी। इंंदू बाला ने फ्लैट नंबर 504-बी-1 की कुल राशि 44,45,150 के अगेंस्ट 36,93,619 रुपए जमा किए थे। करीब 8 ,साल बाद भी उन्हें फ्लैट का पजेशन नहीं मिलने पर उन्होंने हरेरा में फ्लैट के अगेंस्ट जमा की गई राशि ब्याज सहित वापिस किए जाने की पेटिशन फाइल की। जिसके बाद हरेरा ने भूमि ग्रीन हाऊसिंग प्रोजेक्ट के डायरेक्टर को अलॉटी को ब्याज सहित पैसा वापिस करने को कहा। जिसके बाद डायरेक्टर ने हरेरा की कोर्ट में चेक दिया। इंदू बाला ने जब चेक अकाउंट में लगाया तो चेक बाऊंस हो गया। जिसके बाद दोबार हरेरा की कोर्ट में सुनावाई के दौरान पैसा वापिस करने को कहा गया जो वापिस नहीं किया।

X
Panchkula News - re arrest warrant issued against both 39bhoomi green39 directors
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना