--Advertisement--

इन 3 वजहों से भी समय नहीं आते पीरियड्स, जान लें इनके बारे में

समय पर पीरियड न आना महिलाओं की कॉमन प्रॉब्लम है। हमारी कुछ गलतियों की वजह से भी पीरियड रेगुलर नहीं आते।

Danik Bhaskar | Apr 25, 2018, 02:20 PM IST

गैजेट डेस्क। समय पर पीरियड न आना महिलाओं की कॉमन प्रॉब्लम है। 2011 की linical Endocrinology and Metabolism की रिपोर्ट के अनुसार 5% से ज्यादा महिलाएं इस प्रॉब्लम को फेस कर रही हैं। लाइफस्टाइल और हेबिट्स के चलते मेन्स्ट्रूऐशन साइकल और हार्मोन डे बाई डे अफेक्ट हो रहे हैं।

इसके लिए OLIGOMENORRHEA टर्म यूज किया जाता है जिसमें पीरियड रेगुलर नहीं आते। रेगुलर पीरियड न होने का मतलब दो पीरियड के बीच 36 दिन को गेप होना और एक साल में 8 बार से कम पीरियड आना है। यहां हम महिलायों की ऐसी गलतियों के बारे में बता रहे हैं जिनसे पीरियड रेगुलर नहीं आते।

ओवर एक्सरसाइजिंग

सभी जानते हैं कि एक्सरसाइज करना हेल्दी लाइफ के लिए जरूरी है। लेकिन बहुत ज्यादा एक्सरसाइज करने से थायरॉइड और पिट्‌टयूरी ग्लांड पर एक्सट्रा लोड पड़ता है। इसलिए जो महिलाएं अचानक से हेवी एक्ससाइज करना शुरू कर देती है। उन्हें इररेगुलर पीरियड की प्रॉब्लम फेस करनी पड़ती है। 81% वूमेन बॉडी बिल्डर्स ने कहा है कि उन्होंने अपनी लाइफ में भी इस प्रॉब्लम को फेस किया है।

आगे की स्लाइड्स पर जानिए दूसरे कारणों के बारे में...

पुअर डाइट 
लो न्यूट्रिशनस और हाई स्टिम्यूलेट फूड थायरॉइड ग्लांड को बढ़ा देता है। ज्यादा मीठा, फैटी खाने से कार्टिसोल का लेवल बढ़ जाता है। जिसकी वहज से पीरियड डिले हो जाते हैं। अगर आप इरेरगुलर पीरियड की प्रॉब्लम को फेस कर रही हैं तो रिच एंटी ऑक्सीडेंट्स, सेचुरेटेड फैट्स और प्रोटीन अपनी डाइट में शामिल करें। इसके साथ ही अगर आप अंडरवेट हैं तो हाई कैलोरीज फूड खाएं। 

 

ज्यादा स्ट्रेस लेना
जब आप ज्यादा स्ट्रेस में होती हैं तो आपका पीरियड का टाइम बढ़ जाता है। ऐसे में आपकी बॉडी ओव्यूलेशन को रोकर एनर्जी स्टोर करना शुरू कर देती है। कोई भी ट्रॉमिक इवेंट होने पर एड्रनल ओवरटाइम काम करना शुरू कर देता है जो कि एस्ट्रोजन हार्मोन को निकलने से रोकता है। एस्ट्रोजन का लेवल कम होने पर पीरियड टाइम पर नहीं आते। इसलिए कम से कम स्ट्रेस लें।