राहत: पहले दिन खुली 250 ग्रॉसरी शाॅप, अाज 350 अाैर खुल जाएंगी

News - पास के लिए दुकानदार एमसी अाॅफिस में लाइन लगाकर खड़े रहे कर्फ्यू में वीरवार काे ग्राॅसरी की 250 दुकानें खुली।...

Mar 27, 2020, 07:21 AM IST
Chandigarh News - relief 250 grocery shops open on first day 350 more will open today
{पास के लिए दुकानदार एमसी अाॅफिस में लाइन लगाकर खड़े रहे

कर्फ्यू में वीरवार काे ग्राॅसरी की 250 दुकानें खुली। लेकिन शुक्रवार काे ग्राॅसरी की 600 शाॅप खुलेंगी। इन दुकानदाराें काे उनके अाैर हेल्पर के लिए वीरवार काे 1500 कर्फ्यू पास जारी किए गए। हालांकि दुकानदाराें काे कर्फ्यू पास लेने के लिए एमसी अाॅफिस में 12 बजे तक अाॅफिसर के इंतजार में लाइने लगाकर खड़ा हाेना पड़ा। कर्फ्यू पास जारी करने का जिम्मा डायरेक्टर ट्रांसपाेर्ट उमाशंकर गुप्ता काे दिया गया था।

ट्रांसपाेर्ट डायरेक्टर उमा शंकर एमसी अाॅफिस की छठी मंजिल पर बैठकर 12 बजे बाद ग्राॅसरी शाॅप के अाॅनर अाैर उनके सर्वेंट से कर्फ्यू पास पर साइन करने लगे। हालांकि लाेगाें ने पहले ही स्टाफ काे फाॅर्म भरकर दे दिए थे। सिर्फ पास पर उमाशंकर ने साइन करने थे। दुकानदाराें का कहना है कि अगर उनके कर्फ्यू पास समय रहते जारी हाे जाते ताे वे वीरवार काे ही अपनी दुकानें खाेल देते। इससे अास-पास एरिया मंे रहने वाले रेजिडेंट्स काे सामान मिल जाता। लाइन में लगने से काेराेना का भी खतरा बना रहा।

250 दुकानें खुली, लेकिन सामान पूरा नहीं मिला: प्रशासन के अाॅर्डर के बाद वीरवार सुबह 9 बजे ही 250 ग्राॅसरी की दुकानें खुल गई। दुकानदाराें के पास लाेगाें के वाट्सएप मैसेज सामान के अाने लगे। कुछेक ने माेबाइल करके सामान लिखवाया। वाॅट्सएप पर लिखवाए सामान काे दुकानदाराें के सर्वेट घराें में डिलीवर करके अाए। सेक्टर-38 में एक दुकानदान ने लाइनें लगवाकर सामान बेचा। लाइनाें में सटे हाेने से काेराेना का खतरा हाे सकता है। यह दुकानदार शहर में चर्चा का केंद्र बना रहा। प्रशासन की साफ डायरेक्शन है कि दुकान पर काेई भी अादमी सामान खरीदने डायरेक्ट नहीं अाएगा। दुकानदार काे खुद सामान हाेम डिलीवर करना हाेगा।

}2000 पैकेट बेचे...

पैकेट लेने के लिए लाेगाें की मलाेया काॅलाेनी में भीड़ उमड़ अाई। मगर सुपरिंटेंडिंग इंजीनियर सीबी अाेझा ने लाेगाें काे दूर करवा दिया। प्रशासन की अाेर से पहले दिन काॅलाेनियाें में 2 हजार पैकेट बेचे गए। क्याेंकि यहां पर दुकानें खाेलने की अनुमति नहीं दी गई। सामान के साथ बस में वेंडर काे भी साथ ही बैठा लाए। वेंडर के पास अालू , प्याज मशरूम अाैर पपीता था। उसने अालू 30 रुपए किलाे, प्याज 40, मशरूम 25 रुपए अाैर पपीता 60 रुपए किलाे के हिसाब से बेचा।

कर्फ्यू के दाैरान प्रशासन की टीम ने ईडब्ल्यूएस काॅलाेनियाें अाैर रिहैबिलिटेशन काॅलाेनियाें में 750 रुपए के पैकेट बनाकर लाेगाें काे वहां जाकर बेचे। हर बोरी की कीमत 750 रुपए रखी गई। सेक्टर-26 की मंडी से यह बोरियां भरकर सीटीयू बस में रखी गई और लोगों तक पहुंचाई गई। एक बोरी में एक किलो चीनी, एक किलो दाल, हल्दी 100 ग्राम, जीरा 100 ग्राम, धनिया पाउडर 100 ग्राम, लाल मिर्ची 100 ग्राम, नमक एक किलो, चाय 250 ग्राम, सरसों का तेल एक लीटर, चावल एक किलो और आटा 10 किलोग्राम है। इन पैकेट काे दाे टीम इंचार्ज पीसीएस अाॅफिसर्स की टीम ने शहर की कई काॅलाेनियाें में बेचा। साथ ही वेंडर सब्जी वाले भी थे। इन पैकेट काे एईटीसी राकेश पाेपली द्वारा तैयार करवाया गया। हर पैकेट की काॅस्ट 800 रुपए है, मगर लाेगाें काे 750 रुपए में ही बेचा गया।

}बोरियाें में भरकर
गया राशन, एक बोरी की कीमत 750 रुपए...


X
Chandigarh News - relief 250 grocery shops open on first day 350 more will open today

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना