• Home
  • Business
  • Reserve Bank of India issues licence to Bank of China to operate in India
--Advertisement--

बैंक ऑफ चाइना को भारत में कारोबार के लिए आरबीआई से लाइसेंस मिला, मुंबई में खोलेगा शाखा

इंडस्ट्रियल एंड कॉमर्शियल बैंक ऑफ चाइना भी जनवरी से भारत में बिजनेस कर रहा है।

Danik Bhaskar | Jul 04, 2018, 09:16 PM IST

मुंबई. बैंक ऑफ चाइना को भारत में कारोबार के लिए आरबीआई ने लाइसेंस जारी कर दिया है। एससीओ समिट के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से इसका वादा किया था। बैंक ऑफ चाइना चीन का दूसरा बैंक है, जो भारत में अपनी शाखा खोलेगा। मुंबई में पहली ब्रांच खोली जाएगी। ये चीन का दूसरा सबसे बड़ा सरकारी बैंक है, जो हॉन्गकॉन्ग और शंघाई स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड है। इसकी मार्केट कैप 158.6 बिलियन डॉलर यानी करीब 10.85 लाख करोड़ रुपए है।

बैंक ऑफ चाइना ने जुलाई 2016 में सिक्योरिटी क्लीयरेंस के लिए आवेदन किया था। इस बैंक पर पहले ही इजरायल को निशाना बनाने वाले आतंकी संगठन हमास को फंडिंग करने के आरोप लगे थे। हालांकि, बैंक ने साफ तौर पर इन आरोपों को नकार दिया था। और, कहा था कि हम संयुक्त राष्ट्र के एंटी मनी लॉन्डरिंग और एंटी टेररिस्ट फंडिंग नियमों और शर्तों का पूरी तरह पालन करते हैं। माना जा रहा है कि इन आरोपों के चलते ही बैंक को भारत में लाइसेंस मिलने में देरी हुई।

भारत में विदेशी बैंकों की संख्या 46 हो जाएगी: इससे पहले इंडस्ट्रियल एंड कॉमर्शियल बैंक ऑफ चाइना इस साल जनवरी से भारत में बिजनेस शुरू कर चुका है। बैंक ऑफ चाइना समेत भारत में विदेशी बैंकों की संख्या 46 हो जाएगी। यूके का स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक भारत में सबसे ज्यादा 100 शाखाओं वाला विदेशी बैंक हैं।

4 और देशों के बैंकों ने भी मांगी बिजनेस शुरू करने की मंजूरी: बैंक ऑफ चाइना के अलावा ईरान के तीन, साउथ कोरिया के दो, मलेशिया और नीदरलैंड के एक-एक बैंक ने भारत में बिजनेस शुरू करने के लिए आरबीआई से मंजूरी मांगी थी। इनमें से साउथ कोरिया और मलेशिया के बैंकों के आवेदन खारिज कर फिर से आवेदन के लिए कहा गया।