--Advertisement--

प्रतिभा उम्र की मोहताज नहीं, इंग्लैंड टीम में सैम कुरेन और ओली पोप के चयन पर सचिन तेंडुलकर

सचिन ने 1989 में पाकिस्तान के खिलाफ महज 16 साल की उम्र में पहला अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था

Danik Bhaskar | Aug 07, 2018, 05:12 PM IST
सचिन ने टेस्ट क्रिकेट में 51 शतक सचिन ने टेस्ट क्रिकेट में 51 शतक

  • सैम कुरेन ने भारत के खिलाफ पहले टेस्ट में 5 विकेट लिए
  • उन्होंने दूसरी पारी में अर्धशतकीय पारी खेली, 63 रन बनाए

नई दिल्ली. भारत के पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर ने कहा कि अगर किसी में प्रतिभा है तो वह अपने देश के लिए खेल सकता है, फिर चाहे वह कितनी भी उम्र का हो। राष्ट्रीय टीम में चयन के लिए उम्र कोई आधार नहीं है। खेल बेवसाइट ईएसपीएन क्रिकइंफो से बातचीत के दौरान सचिन ने इंग्लैंड की टीम में सैम कुरेन और ओली पोप के चयन पर यह राय दी। उन्होंने कहा कि दोनों अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में मिलने वाले चुनौती का आनंद उठाएं। यही चीज तो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को आकर्षक बनाती है।

सचिन ने कहा- मेरे सामने सबसे मजबूत गेंदबाजी आक्रमण था : अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपने पदार्पण को याद करते हुए सचिन ने कहा, "जब मैंने अपना पहला मैच खेला, तब मैं केवल 16 साल का था। एक तरह से इसने मेरी मदद की।मुझे नहीं पता था कि वसीम अकरम, वकार यूनिस, इमरान खान और अब्दुल कादिर का सामना कैसे करना था? उसे आप उस वक्त का सबसे मजबूत गेंदबाजी आक्रमण कह सकते हैं। इस उम्र में आप कुछ भी नहीं देखते हैं और बस अच्छा करना चाहते हैं। ये कठिन क्षण होते हैं, लेकिन आप उसी के लिए तो खेलते हैं।"

अनुभव और परिपक्वता से चीजें संतुलित होती हैं: सचिन का मानना है कि टीम में युवा खिलाड़ियों को सबसे नीचे रखना अच्छी बात है। आप केवल सिक्के के एक ही तरफ देखते हैं क्योंकि आप युवा और निडर हैं, लेकिन अनुभव और परिपक्वता के साथ आप चीजों को संतुलित करके देखने लगते हैं। सचिन ने टेस्ट क्रिकेट में पाकिस्तान के खिलाफ पहले मैच में 15 रन बनाए। सचिन के साथ उस मैच में सलिल अंकोला ने भी भारत के लिए डेब्यू किया था। वहीं पाकिस्तान के लिए शाहिद सईद और वकार यूनिस ने अपना पहला मैच खेला था।