विज्ञापन

आपकी हर समस्या का समाधान कर सकते हैं साईं बाबा के ये 11 वचन

Dainik Bhaskar

Apr 12, 2018, 11:08 AM IST

भारत में अनेक महान संत-महात्मा हुए। उनमें से कुछ को आज भी भगवान की तरह पूजा जाता है।

sai baba 1 vachan, shirdi ke sai baba, shirdi
  • comment

यूटिलिटी डेस्क. भारत में अनेक महान संत-महात्मा हुए। उनमें से कुछ को आज भी भगवान की तरह पूजा जाता है। ऐसे ही एक संत थे शिरडी के साईं बाबा। साईं बाबा के जीवन पर कई पुस्तकें भी लिखी गई हैं। आज भी हजारों लोग रोज शिरडी स्थित साईं मंदिर में अपना माथा टेकते हैं। भक्त गुरु के रूप में इनकी पूजा करते हैं। मान्यता है कि जिस पर साईं की कृपा हो जाती है, उसे कभी किसी चीज की कोई कमी नहीं होती।
साईं बाबा जीवन भर फकीरों की तरह रहे। श्रृद्धा और सबुरी उनका मूल मंत्र था। हिंदू और मुस्लिम दोनों ही संप्रदाय के लोग साईं बाबा को अपना आराध्य मानते हैं। आज हम आपको साईं बाबा के 11 वचनों के बारे में बता रहे हैं। श्रीसांईं सच्चरित्र के अनुसार, जो भी व्यक्ति साईं के इन वचनों का ध्यान करता है, उसकी समस्याओं का समाधान अपने आप ही हो जाता है। शिरडी में भी ऐसी ही मान्यता प्रचलित है। साईं के 11 वचन अपने आप में अध्यात्म की बड़ी शिक्षाएं समेटे हुए हैं-

पहला वचन
जो शिरडी में आएगा, आपद दूर भगाएगा

अर्थ- साईं बाबा का अधिकांश जीवन शिरडी में बीता, इसलिए कहते हैं कि शिरडी जाने से ही समस्याएं खत्म हो जाती हैं। जो भक्त शिरडी नहीं जा सकते, वे अपने निकट किसी साईं मंदिर भी जा सकते हैं।

दूसरा वचन
चढ़े समाधि की सीढ़ी पर, पैर तले दुख की पीढ़ी पर

अर्थ- साईं बाबा की समाधि की सीढ़ी पर पैर रखते ही भक्तों का मन भक्ति में डूब जाता है और वे सांसारिक दुखों से मुक्ति पा लेते हैं।

तीसरा वचन
त्याग शरीर चला जाऊंगा, भक्त हेतु दौड़ा आऊंगा

अर्थ- इस वचन में साईं बाबा ने कहा है कि मेरा शरीर नष्ट हो जाएगा, लेकिन जब भी मेरा भक्त मुझे पुकारेगा, मैं दौड़ के आऊंगा और उसकी सहायता करूंगा।


चौथा वचन
मन में रखना दृढ़ विश्वास, करे समाधि पूरी आस

अर्थ- इस वचन में साईं कहते हैं कि जिसे भी मुझ पर विश्वास है, वह विपरीत परिस्थितियों में भी मेरी समाधि पर आकर शांति का अनुभव करेगा।

पांचवां वचन
मुझे सदा जीवित ही जानो, अनुभव करो सत्य पहचानो

अर्थ- साईं बाब कहते हैं मैं अपने भक्तों के विश्वास में जीवित हूं। यह बात भक्ति और प्रेम से कोई भी भक्त अनुभव कर सकता है।


साईं बाबा के अन्य वचन जानने के लिए आगे की स्लाइड्स पर क्लिक करें-

ये भी पढ़ें-

ये भी पढ़ें-

18 अप्रैल को घर लाएं इन 9 में से कोई 1 चीज, महालक्ष्मी दूर करेंगी बैड लक

शनि की टेढ़ी चाल करेगी इन 6 राशियों को परेशान, बचने के लिए करें ये उपाय

sai baba 1 vachan, shirdi ke sai baba, shirdi
  • comment

छठा वचन
मेरी शरण आ खाली जाए, हो तो कोई मुझे बताए

अर्थ- साईं बाबा कहते हैं जो भी मेरी शरण में आता है, मैं उसकी हर इच्छा पूरी करता हूं।

 


सातवां वचन
जैसा भाव रहा जिस जन का, वैसा रूप हुआ मेरे मन का
अर्थ- जो व्यक्ति मुझे जिस रूप में पूजता है, मैं वैस् ही रूप में उसे दर्शन देता हूं।
 


आठवां वचन
भार तुम्हारा मुझ पर होगा, वचन न मेरा झूठा होगा
अर्थ- जो भक्त मुझ पर आस्था रखेंगे, उनका हर दायित्व मैं पूरा करुंगा।
 


नौवां वचन
आ सहायता लो भरपूर, जो मांगा वो नहीं है दूर
अर्थ- जो भक्त श्रद्धा व विश्वास से मुझे पुकारेगा, उसकी सहायता मैं जरूर करूंगा।



दसवां वचन
मुझमें लीन वचन मन काया, उसका ऋण न कभी चुकाया
अर्थ- जो भक्त मन, वचन और कर्म से मेरा ही ध्यान करता है, मैं उसका हमेशा ऋणी रहता हूं।

ग्यारहवां वचन
धन्य धन्य व भक्त अनन्य, मेरी शरण तज जिसे न अन्य

अर्थ- साईं बाबा कहते हैं कि जो भक्त अनन्य भाव से मेरी भक्ति में लीन हैं ऐसे ही भक्त वास्तव में भक्त हैं।

X
sai baba 1 vachan, shirdi ke sai baba, shirdi
sai baba 1 vachan, shirdi ke sai baba, shirdi
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन