पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पढ़ाई छोड़ने वाली छात्रा बोली-छेड़छाड़ के आरोपी उठाने की देते हैं धमकी, पुलिस का तर्क: अभी सबूत नहीं मिले

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

यमुनानगर. छछरौली के एक गांव की 12वीं पास नाबालिग छात्रा ने आरोप लगाया कि उससे दुष्कर्म का प्रयास व छेड़छाड़ करने वाले आरोपियों की धमकियों की वजह से उसकी आगे की पढ़ाई छूट गई है। आरोपी उसे सरेआम उठा ले जाने की धमकी देते हैं, इसी डर से वह कॉलेज में एडमिशन नहीं ले पाई। 
परिजनों को भी बेटी के अपहरण होने का डर है। तत्कालीन एसपी राजेश कालिया को परिजनों ने पूरे मामले से अवगत करवाया था। महिला पुलिस की जांच पर भी परिवार ने सवाल उठाए हैं। आरोप है कि केस दर्ज होने के बावजूद अभी तक आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया गया। 

 

पहले रेप किया फिर छेड़छाड़: किशोरी की मां ने पुलिस को दी शिकायत में बताया था कि 9 जुलाई को उनकी बेटी शौच के लिए जा रही थी। इसी दौरान गांव के युवक ने जबरदस्ती करने की कोशिश की थी। शोर मचाने के बाद आरोपी भाग गया। इसके बाद बेटी ने परिजनों को बताया कि युवक पहले भी उसके साथ दुराचार कर चुका है। तब आरोपी के दो दोस्तों ने उसकी वीडियो बनाई थी। इसी वीडियो के आधार पर उसे मुंह बंद रखने की धमकी दी थी। मां का आरोप है कि मुख्य आरोपी ने फिर धमकाकर उसकी बेटी से दुराचार किया था। दस दिन की जांच के बाद पुलिस ने 19 जुलाई को आरोपियों के खिलाफ छेड़छाड़ व पोस्को एक्ट की धारा 6, 8 व 18 के तहत केस दर्ज किया था। हालांकि अभी तक गिरफ्तारी नहीं हुई है।

 

डर के मारे नहीं लिया एडमिशन: अच्छे अंकों से बारहवीं पास करने वाली छात्रा ने बताया कि उसकी इच्छा तो ग्रेजुएशन करने की थी। इसके लिए उसने जगाधरी के गर्ल्स कॉलेज में दाखिला लेने की तैयारी भी शुरू कर दी थी। मगर आरोपियों के डर से उसने कॉलेज में एडमिशन लेने से मना कर दिया। छात्रा की मां ने बताया कि आरोपी उसकी बेटी को बार बार उठा ले जाने की धमकी देते हैं। परिजनों ने जांच अधिकारी पर भी धमकाने के आरोप लगाए हैं। 

 

मेडिकल जांच में भी रेप की पुष्टि नहीं हुई:  एसएचओ शीलावंती ने बताया कि इस केस में कोई सच्चाई नहीं है। किशोरी के परिवार ने आरोपी युवक के पिता की हत्या की हुई है। हत्या के मामले में पुलिस 12 आरोपियों को पकड़ चुकी है। जिसमें चार लोग जमानत पर हैं। जमानत पर छूटने के बाद ही साजिश के तहत यह केस दर्ज करवाया गया था। जांच में अभी तक आरोपियों के खिलाफ पुख्ता सबूत नहीं मिले हैं। मेडिकल जांच में भी रेप की पुष्टि नहीं हुई। हम ये केस ही कैंसिल करने जा रहे हैं।  

 

 

खबरें और भी हैं...