ओ म जी

--Advertisement--

साइंटिस्ट्स का दावा : अंतरिक्ष में मौजूद है हीरों का घना बादल, 20 साल से बनी थी पहेली

लंबे समय से वैज्ञानिकों को अरबों किलोमीटर दूर सितारों से अजीबोगरीब तरंगें प्राप्त हो रही थीं।

Danik Bhaskar

Jun 12, 2018, 01:17 PM IST
कार्डिफ. साइंटिस्ट के लिए लंबे समय तक अंतरिक्ष की कुछ तरंगें अनसुलझी पहेली बनी हुई थीं, पर हाल ही में ऐसी चीजें सामने आई जो बेहद हैरान करने वाली हैं। साइंटिस्ट्स ने माना है कि अंतरिक्ष में हीरों का एक घना बादल है। लंबे समय से वैज्ञानिकों को अरबों किलोमीटर दूर सितारों से अजीबोगरीब तरंगें प्राप्त हो रही थीं। ये एक तरह की कमजोर माइक्रोवेव्स थीं। अब माना जा रहा है कि ये माइक्रोवेव्स अंतरिक्ष में मौजूद हीरों से टकराकर आ रही हैं।
- कार्डिफ यूनिवर्सिटी की इस रिसर्च को लीड कर रहे डॉक्टर जेल ग्रीव्स ने कहा, ये हमारे लिए 20 सालों से पहेली बनी हुई थी। हमें पता था कि अंतरिक्ष में मौजूद कोई कण ऐसी माइक्रोवेव्स के लिए जिम्मेदार है, पर इतनी मात्रा में माक्रोवेव्स का आना और उनका असली स्त्रोत समझ से परे था। पर अब बिल्कुल साफ हो चुका है कि ये 'नेनोडायमंड' का काम है। दूर अंतरिक्ष में एक ऐसा बादल है जहां अरबों की संख्या में बारीक हीरे तैर रहे हैं। ये यहां के वातावरण और भयानक तापमान से पैदा होते हैं।
सिर्फ हीरे से निकलती हैं ऐसी तरंगे
साइंटिस्ट ने देखा कि उन्हें एक खास तरह की तरंगें मिल रही थीं। इसका पैर्टन एएमई यानी anomalous microwave emission से मिलता जुलता था। ये तरंगें बारीक किरणें पैदा करती हैं, जो सिर्फ हीरों से ही निकलती हैं। इसी को साइंटिस्ट्स ने अपनी रिसर्च का मुख्य आधार बताया है।

Click to listen..