--Advertisement--

एचडीएफसी फंड आईपीओ से पहले शेयर अलॉटमेंट रद्द करे- सेबी; 12% ब्याज के साथ पैसे लौटाने के निर्देश

एचडीएफसी फंड ने 140 डिस्ट्रीब्यूटरों को 150 करोड़ रुपए के शेयर दिए थे।

Dainik Bhaskar

Jul 03, 2018, 09:52 AM IST
Sebi directs HDFC AMC to scrap pre IPO share sale to distributors
  • आईपीओ 11 जुलाई को खुलेगा और 13 जुलाई को बंद होगा
  • प्राइस बैंड 1,345-1,360 रुपए तय किया गया है

नई दिल्ली. सेबी ने एचडीएफसी एएमसी (म्यूचुअल फंड) से डिस्ट्रीब्यूटर्स और एडवाइजर्स को आईपीओ से पहले अलॉट किए गए शेयर रद्द करने को कहा है। इनका पैसा 12% ब्याज के साथ लौटाने को भी कहा है। कंपनी ने अप्रैल में 140 डिस्ट्रीब्यूटरों को 150 करोड़ रुपए के शेयर प्राइवेट प्लेसमेंट के जरिए दिए थे। यह पहला मौका है जब किसी म्यूचुअल फंड ने डिस्ट्रीब्यूटरों को शेयर अलॉट किए। सेबी के पास दिए आवेदन में एचडीएफसी एएमसी ने कहा था कि रेगुलेटर की मंजूरी मिलने के बाद डिस्ट्रीब्यूटरों के लिए 7.2 लाख शेयर रिजर्व रखे जाएंगे। एचडीएफसी एएमसी देश की दूसरी सबसे बड़ी म्यूचुअल फंड कंपनी है। शेयर बाजार में लिस्ट होने वाली यह दूसरी म्यूचुअल फंड कंपनी होगी। इससे पहले रिलायंस निप्पन लाइफ लिस्ट हो चुकी है।

सलाहकारों को 1,050 रुपए में दिए शेयर: एचडीएफसी म्यूचुअल ने अप्रैल में 140 डिस्ट्रीब्यूटरों और सलाहकारों को 150 करोड़ रुपए के शेयर 1,050 रुपए के भाव पर प्राइवेट प्लेसमेंट के जरिए दिए। कंपनी ने करीब 200 डिस्ट्रीब्यूटरों को यह ऑफर दिया था लेकिन सिर्फ 140 ने स्वीकार किया। आशंका थी कि म्यूचुअल फंड कंपनी से शेयर खरीदने वाले डिस्ट्रीब्यूटर और सलाहकार निवेशकों को निष्पक्ष राय नहीं दे सकते। इसीलिए सेबी ने कंपनी को आईपीओ से पहले शेयर अलॉटमेंट रद्द करने का निर्देश दिया। एचडीएफसी एएमसी एचडीएफसी और इंग्लैंड की स्टैंडर्ड लाइफ का साझा उपक्रम है। ड्राफ्ट प्रॉस्पेक्टस के मुताबिक कंपनी आईपीओ में 2.54 करोड़ इक्विटी शेयर जारी करेगी। आईपीओ के लिए इसने मार्च में सेबी के पास आवेदन किया था, जिसे 22 जून को मंजूरी मिली। आईपीओ 11 जुलाई को खुलेगा और 13 जुलाई को बंद होगा।

आईसीआईसीआई म्यूचुअल को भी 240 करोड़ लौटाने का निर्देश: सेबी ने आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्यूचुअल फंड में भी नियमों का उल्लंघन पाया है। मामला आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज (आई-सेक) के आईपीओ का है। सेबी ने आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल को 15% ब्याज के साथ 240 करोड़ रुपए लौटाने को कहा है। यह रकम उन 5 स्कीमों में वापस जाएगी, जिनसे शेयर खरीदने के लिए पैसे निकाले गए थे। सेबी ने कहा कि आई-सेक के शेयर प्राइस गिरने से इन स्कीमों के नुकसान की गणना हो। शेयर लिस्टिंग के बाद म्यूचुअल फंड यूनिट बेचने वाले निवेशकों को इस नुकसान की भरपाई की जाए। इस रकम पर 15% ब्याज देना पड़ेगा।

ऐसे हुआ नियमों का उल्लंघन: आई-सेक का आईपीओ मार्च में आया था। प्राइस बैंड 519-520 रु. था। 4,016 करोड़ रु. के इश्यू को 88% सब्सक्रिप्शन मिला तो कंपनी ने इसका साइज घटाकर 3,500 करोड़ कर दिया। इश्यू को बचाने के लिए आईसीआईसीआई प्रू. ने अंतिम दिन 240 करोड़ रु. लगाए। इसके बिना इश्यू जरूरी 75% की जगह 70.11% ही सब्सक्राइब होता।

X
Sebi directs HDFC AMC to scrap pre IPO share sale to distributors
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..