• Home
  • Business
  • Sensex drop 187 points on expiry day nifty below 10600
--Advertisement--

सेंसेक्स 179 अंक गिरकर 35038 पर बंद, निफ्टी 82 अंक टूटकर 10600 के नीचे पहुंचा

कारोबार के दौरान सेंसेक्स 34937 तक फिसल गया।

Danik Bhaskar | Jun 28, 2018, 06:55 PM IST

मुंबई. शेयर बाजार गुरुवार को भी नुकसान में रहा। सेंसेक्स 179.47 अंक गिरकर 35,037.64 पर बंद हुआ। निफ्टी की क्लोजिंग 82.30 प्वाइंट नीचे 10,589.10 पर हुई। कारोबार के दौरान सेंंसेक्स 35,000 के नीचे फिसलकर 34937.15 पर पहुंच गया। बाजार की शुरुआत मामूली गिरावट के साथ हुई लेकिन बाद में नुकसान बढ़ता गया। क्रूड महंगा होने और डॉलर के मुकाबले रुपए में गिरावट की वजह से बाजार में दबाव आया। ब्रोकर्स के मुताबिक फ्यूचर एंड ऑप्शंस में जून एक्सपायरी पर निवेशकों की ओर से सौदे काटने की वजह से भी गिरावट बढ़ी। बुधवार को सेंसेक्स 272.93 अंक गिरकर 35,217.11 पर और निफ्टी 97.75 प्वाइंट्स की गिरावट की साथ 10,671.40 पर बंद हुआ था। क्रूड महंगा होने से तेल कंपनियों के शेयर गुरुवार को भी पिटे। इनमें 5% से ज्यादा गिरावट आई। ब्रेंट क्रूड करीब 78 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गया।

इंडेक्स सेंसेक्स निफ्टी
ओपनिंग 35207.19 10,660.80
क्लोजिंग 35,037.64 10589.10
बदलाव -179.47 (0.51%) -82.30 (0.77%)
निम्न स्तर 34937.15 10,557.70

इंफोसिस 52 हफ्ते के हाई पर: रुपए में कमजोरी से आईटी कंपनियों को फायदा हुआ है। इंफोसिस का शेयर 52 हफ्ते से सबसे उच्च स्तर पर पहुंच गया। बीएसई पर ये 1.55% तेजी के साथ 1288.85 वहीं एनएसई पर 1.13% ऊपर 1,284.30 पर बंद हुआ। विप्रो का शेयर बीएसई पर 0.45% और एनएसई पर 0.23% ऊपर बंद हुआ। हालांकि टीसीएस के शेयर में गिरावट रही।

सेंसेक्स में शामिल शेयरों में आईसीआईसीआई बैंक सबसे ज्यादा 2.78% गिरकर बंद हुआ। टाटा मोटर्स 2.69% टूटा। कोल इंडिया 2.23 फीसदी, रिलायंस इंडस्ट्रीज 2.13%, एसबीआई 1.83%, बजाज ऑटो 1.82%, और मारुति सुजुकी 1.70% गिरावट पर बंद हुए।

ट्रेड वॉर की चिंताओं से दबाव: जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के रिसर्च हेड विनोद नायर के मुताबिक कमजोर विदेशी संकेतों और तेल कीमतों का शेयर बाजार पर असर जारी है। ट्रेड वॉर से जुड़ी आशंकाओं की वजह से मिड और स्मॉल कैप कंपनियों के शेयर लगातार दबाव में हैं। रुपए में गिरावट को थामने के लिए आरबीआई के कदम उठाने पर और मानसून अच्छा रहने से बाजार को कुछ राहत मिल सकती है।