• Home
  • Jeevan Mantra
  • Jyotish
  • Rashi Aur Nidaan
  • shani Jayanti 2018, shani Jayanti on 15th May, Shani Dev, omen-bad omen related to shani , शनि जयंती 2018, शनि जयंती 15 मई को, शनिदेव, शनि से जुड़ी मान्यताएं, शनि से जुड़े शकुन-अपशकुन
--Advertisement--

शनिवार को जूते-चप्पल चोरी होना क्यों माना जाता है शुभ, क्या है इससे जुड़ी मान्यता?

भारतीय समाज में शनिदेव से जुड़ी अनेक शकुन-अपशकुन की मान्यता प्रचलित है।

Danik Bhaskar | May 08, 2018, 04:18 PM IST
रिलिजन डेस्क। ज्येष्ठ मास की अमावस्या को शनि जयंती का पर्व मनाया जाता है। इस बार ये पर्व 15 मई, मंगलवार को है। भारतीय समाज में शनिदेव से जुड़ी अनेक शकुन-अपशकुन की मान्यता प्रचलित है। इनमें से एक मान्यता ये भी है कि यदि शनिवार को जूते-चप्पल चोरी हो जाएं इसे शुभ संकेत मानना चाहिए और समझना चाहिए कि हमारा बुरा समय टल गया है। आज हम आपको इस मान्यता से जुड़ी खास बातें बता रहे हैं, जो इस प्रकार है-

शुभ संकेत है जूतों का चोरी होना
उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रफुल्ल भट्ट के अनुसार, अगर शनिवार को जूते-चप्पल चोरी हो जाएं तो इसे शुभ संकेत मानना चाहिए। ऐसा समझना चाहिए कि जूते-चप्पल के साथ आपकी परेशानी भी चली गई है। ज्योतिष शास्त्र में शनि को क्रूर और कठोर न्यायप्रिय ग्रह माना गया है। शनि जब किसी के विपरित होता है तो उस व्यक्ति को जी-तोड़ मेहनत के बाद भी फल थोड़ा ही मिलता है। शनिवार शनि का दिन माना जाता है।
हमारे शरीर के अंग भी ग्रहों से प्रभावित होते हैं। त्वचा (चमड़ी) और पैर में शनि का वास माना जाता है, इनसे संबंधित चीजें शनि के लिए दान की जाती हैं और इनकी बीमारियां भी शनि से संबंधित होती हैं। चमड़ा और पैर दोनों ही शनि से प्रभावित होते हैं, इस कारण जूते-चप्पल अगर शनिवार को चोरी हो जाएं तो मानना चाहिए कि हमारी परेशानी कम होने जा रही हैं। शनि अब ज्यादा परेशान नहीं करेगा। कई लोग इसी कारण से शनिवार को शनि मंदिरों में जूते-चप्पल भी छोड़कर आते हैं ताकि शनि उनके कष्ट कम कर दें।

Related Stories