• Home
  • Jeevan Mantra
  • Jyotish
  • Rashi Aur Nidaan
  • shani jayanti 2018, shani puja ke upay, 15 मई को किन चीजों का दान करने से दुर्भाग्य दूर हो सकता है
--Advertisement--

15 मई को किन चीजों का दान करने से दुर्भाग्य दूर हो सकता है

शनि जंयती पर करें काले का तिल का उपाय, शनिदेव हो सकते हैं प्रसन्न

Danik Bhaskar | May 08, 2018, 04:38 PM IST

रिलिजन डेस्क। मंगलवार 15 मई को ज्येष्ठ मास की अमावस्या है। प्राचीन समय में इस तिथि पर सूर्य पुत्र शनि का जन्म हुआ था। अगर कुंडली में शनि की स्थिति शुभ नहीं है तो शनि जंयती पर विशेष उपाय और कुछ खास चीजों का दान करने से इस ग्रह के दोष दूर हो सकते हैं। यहां जानिए उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. दयानंद शास्त्री के अनुसार शनि जयंती पर कौन-कौन से उपाय किए जा सकते हैं...

1. पं. शास्त्री के अनुसार शनि की शांति के लिए शनि जयंती के दिन काली उड़द, काले तिल, स्टील-लोहे के बर्तन, श्रीफल, काले वस्त्र, लकड़ी की वस्तुएं, औषधि आदि का दान करना चाहिए।

2. इस दिन किसी गरीब को घर में बैठाकर भोजन कराएं, इससे शनिदेव प्रसन्न होते हैं।

3. अगर कोई व्यक्ति अपनी दवाइयों का खर्चा उठाने में असमर्थ हो, उसका इलाज करवाएं। दवाओं का दान करें। इससे शनिदेव जल्द प्रसन्न होते हैं। ये उपाय करने पर साढ़ेसाती हो या ढय्या, शनि के कारण परेशानियां नहीं आती हैं।

4. शनि जयंती पर व्रत रखें। अपने परिवार को शनि के दोषों से बचाने के लिए शनिदेव की पसंद की चीजें, जैसे आटा, उड़द (साबुत), काला चना, तिल के लड्डू, गुड़, तिल, नमक, काला कपड़ा (1 मीटर), तेल आदि चीजें किसी मंदिर में चढ़ाएं।

5. शनि जयंती पर सुबह सूर्योदय से पहले उठें। स्नान आदि कार्यों के बाद किसी शनि मंदिर जाएं। शनिदेव के सामने तेल का दीपक जलाएं। शनि को तेल चढ़ाएं।

6. 15 मई की सुबह जल्दी उठें और परिवार के सभी सदस्य एक-एक कटोरी में थोड़ा-थोड़ा तेल लें। अपनी-अपनी कटोरी में अपना चेहरा देखें और सभी कटोरियों का तेल इकट्ठा करके किसी को दान करें। इस उपाय से पूरे परिवार की रक्षा होती है।

7. अपने पहने हुए वस्त्र, जूते-चप्पल, चमड़े का सामान किसी गरीब को दान करें।

8. किसी मोची को काले छाते का दान करें।

9. अगर आपके घर के आसपास कहीं कोई मंदिर बन रहा है तो उस मंदिर में लोहे का दान करें।

10. शनि की पूजा के साथ ही हनुमानजी की पूजा भी करें। हनुमानजी के दर्शन करें और हनुमान चालीसा का पाठ करें।

Related Stories