विज्ञापन

14 जुलाई को दिन भर रहेगा शनि-पुष्य का शुभ योग, शनि के अशुभ प्रभाव से बचना है तो करें खास उपाय

Dainik Bhaskar

Jul 12, 2018, 06:03 PM IST

अगर आप शनिदेव को प्रसन्न करना चाहते हैं 14 जुलाई शनि-पुष्य योग इसके लिए अच्छा दिन है।

अगर आप शनिदेव को प्रसन्न करना अगर आप शनिदेव को प्रसन्न करना
  • comment

रिलिजन डेस्क. इस बार 14 जुलाई, शनिवार को पुष्य नक्षत्र होने से शनि-पुष्य का शुभ योग बन रहा है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रफुल्ल भट्ट के अनुसार, इस दिन अगर शनि के मंत्रों का जाप किया जाए तो शनि दोष कम हो सकता है और लाइफ की परेशानियां भी दूर हो सकती हैं। ये हैं शनिदेव को प्रसन्न करने के 6 मंत्र...
1. वैदिक मंत्र
ऊं शन्नोदेवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये शन्योरभिस्त्रवन्तु न:।
2. लघु मंत्र
ऊं ऐं ह्लीं श्रीशनैश्चराय नम:।
3. ध्यान मंत्र
इंद्रनीलद्युति: शूली वरदो गृधवाहन:।
बाणबाणासनधर: कर्तव्योर्क सुतस्तथा।।
4. बीज मंत्र
ऊं शं शनैश्चराय नम:।
5. मंत्र
ऊं प्रां प्रीं प्रौं स: शनये नम:
6. मंत्र
कोणस्थ पिंगलो बभ्रु: कृष्णो रौद्रोन्तको यम:।
सौरि: शनैश्चरो मंद: पिप्पलादेन संस्तुत:।।
जाप विधि
- शनि पुष्य की सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि करने के बाद कुश (एक प्रकार की घास) के आसन पर बैठ जाएं।
- सामने शनिदेव की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करें और नीले फूल चढ़ाएं।
- इसके बाद रूद्राक्ष की माला से इनमें से किसी एक मंत्र की कम से कम पांच माला जप करें।
- शनिदेव से सुख-संपत्ति के लिए प्रार्थना करें। यदि प्रत्येक शनिवार को इस मंत्र का इसी विधि से जाप करेंगे तो शीघ्र लाभ होगा।
ज्योतिष में बताए गए हैं कुल 27 नक्षत्र
- ज्योतिष के अनुसार कुल सत्ताइस नक्षत्र बताए गए हैं जिसमें पुष्य आठवां होता है। इसे सभी नक्षत्रों का राजा माना जाता है।
- इसी कारण इस नक्षत्र में सोना, चांदी या अन्य सामान खरीदना शुभ माना जाता है।
क्यों है विशेष महत्व?
- पुष्य नक्षत्र के देवता बृहस्पति हैं जो ज्ञान एवं विवेक के देने वाले माने जाते हैं वहीं इस नक्षत्र का दिशा प्रतिनिधि शनि देव करते हैं जिसे ‘स्थावर’ भी कहा जाता है।
- जिसका अर्थ होता स्थिरता देने वाला। इसीलिए ऐसा माना जाता है कि इस नक्षत्र में किए गए पुण्य कर्म कभी नष्ट नहीं होते। इसी कारण इस दिन दान या अच्छे कर्म करने का विशेष महत्व माना जाता है।

X
अगर आप शनिदेव को प्रसन्न करना अगर आप शनिदेव को प्रसन्न करना
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें