--Advertisement--

पत्नी के निधन के बाद लाहौर जाने के लिए नवाज को 12 घंटे की पैरोल मिली, पांच दिन का आवेदन किया था

कुलसुम नवाज का मंगलवार को लंदन के अस्पताल में निधन हो गया था, शुक्रवार को उन्हें सुपुर्दे खाक किया जाएगा

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 12:41 PM IST

- कुलसुम के शव को लंदन से पाक लाने के लिए शहबाज हो चुके हैं रवाना

इस्लामाबाद. पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पत्नी कुलसुम (68) के निधन के बाद बुधवार को लाहौर पहुंच गए। रावलपिंडी की अदियाला जेल में बंद नवाज, उनकी बेटी मरियम और दामाद कैप्टन (रिटा.) मुहम्मद सफदर को 12 घंटे की पैरोल पर रिहा किया गया है। नवाज के भाई शहबाज शरीफ ने पांच दिन की पैरोल मांगी थी। कुलसुम को शुक्रवार को लाहौर के जट्टी उमरा में सुपुर्दे खाक किया जाएगा।

नवाज, मरियम और सफदर बुधवार को रावलपिंडी के नूर खान एयरबेस से लाहौर के लिए स्पेशल विमान से रवाना हुए। पंजाब सरकार ने उनकी पैरोल पर रिहाई का ऑर्डर जारी किया था।

पांच दिन की पैरोल की अपील की थी : पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) की प्रवक्ता मरियम औरंगजेब के मुताबिक- शहबाज शरीफ ने पंजाब सरकार के पास नवाज और उनके परिवार को 5 दिन की पैरोल पर छोड़े जाने का आवेदन भेजा था। पंजाब सरकार ने शहबाज की 5 दिन के आवेदन को अस्वीकार करते हुए केवल 12 घंटे की पैरोल दिए जाने पर मुहर लगाई। पीएमएमल(एन) की प्रवक्ता ने कहा कि हमें उम्मीद है कि कुलसुम के शुक्रवार को होने वाले अंतिम संस्कार के लिए पैरोल बढ़ा दी जाएगी। कुलसुम के शव को पाक लाने के लिए शहबाज शरीफ बुधवार को लंदन रवाना हो गए। पंजाब सरकार के अफसर ने भी कहा कि लाहौर में होने वाले कुलसुम के अंतिम संस्कार के लिए पैरोल की अवधि बढ़ा दी जाएगी।

लाहौर में नवाज की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम : अफसर के मुताबिक- कुलसुम का शव शुक्रवार तक पाक आने की संभावना है। लिहाजा पैरोल की अवधि न बढ़ाई जाए, इसका सवाल ही नहीं उठता। सरकार मानवीय आधार पर इसकी अनुमति पहले ही दे चुकी है। लाहौर पुलिस को नवाज की सुरक्षा जिम्मेदारी सौंपी गई है। नवाज बिना इजाजत जट्टी उमरा से बाहर नहीं जा पाएंगे। प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी कुलसुम के शव को पाक लाने में शरीफ परिवार की मदद करने के आदेश दिए थे। पिछले साल अगस्त में कुलसुम को गले के कैंसर का पता चला था। लंदन में उनके कई ऑपरेशन हुए थे। इस साल जून में हार्ट अटैक आने के बाद से वह वेंटीलेटर पर थी।