--Advertisement--

वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट में श्रीलंका के कप्तान चांडीमल पर लगे बॉल टैम्परिंग के आरोप, बोर्ड ने बचाव किया

2016 में दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेटर फॉफ डुप्लेसिस पर आईसीसी की आचार संहिता के 2.2.9 लेवल का उल्लंघन करने का आरोप लगा था।

Danik Bhaskar | Jun 17, 2018, 09:38 PM IST
वेस्टइंडीज-श्रीलंका टेस्ट के वेस्टइंडीज-श्रीलंका टेस्ट के
  • मार्च में ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ, उप कप्तान डेविड वॉर्नर और कैमरून बैनक्राफ्ट बॉल टैम्परिंग के दोषी पाए गए थे
  • स्मिथ और वॉर्नर पर एक साल और बैनक्राफ्ट पर 9 महीने तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में नहीं खेलने का प्रतिबंध लगाया गया था


सेंट लूसिया. वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टेस्ट में श्रीलंकाई क्रिकेट के कप्तान दिनेश चंडीमल पर बॉल टैम्परिंग का आरोप लगा है। उन पर आईसीसी की आचार संहिता के 2.2.9 लेवल का उल्लंघन करने का आरोप लगा है। हालांकि आरोप का उन पर क्या असर पड़ेगा इसके बारे में अभी कोई जानकारी नहीं दी है। उधर, श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड (एसएलसी) ने चंडीमल का बचाव किया है।

आइसीसी आचार संहिता के 2.2.9 लेवल के उल्लंघन का आरोप

- अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने ट्विटर पर बताया कि चंडीमल पर आइसीसी की आचार संहिता के 2.2.9 लेवल का उल्लंघन करने का आरोप लगाया गया है। उन पर वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टेस्ट के तीसरे दिन गेंद का आकार बदलने की कोशिश करने का आरोप है। नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

- आईसीसी ने चेताया कि वह दंडात्मक कार्रवाई कर सकता है। उसने लिखा, "यदि कुछ पाया जाता है तो मैच के समाप्त होने के बाद आईसीसी की आचार संहिता के तहत कार्रवाई की जाएगी।"

- इस बीच मैच रेफरी जवागल श्रीनाथ ने शनिवार को वेस्टइंडीज को 5 अतिरिक्त रन दे दिए। श्रीलंकाई टीम ने इसका विरोध किया और मैदान पर उतरने से इनकार कर दिया। हालांकि विचार-विमर्श के बाद श्रीलंकाई टीम खेलने के लिए राजी हुई। इस कारण मैच 2.5 घंटे देर से शुरू हुआ।

अपने खिलाड़ी पर लगे बेतुके आरोपों का बचाव करेंगेः एसएलसी

- एसएलसी ने अपने बयान में कहा है कि वह अपनी टीम के किसी भी खिलाड़ी के खिलाफ लगे बेतुके आरोपों का बचाव करेगा। बयान के अनुसार, "टीम प्रबंधन ने हमें बताया है कि श्रीलंकाई खिलाड़ियों ने कुछ गलत नहीं किया है। ऐसे में अगर किसी तरह के गलत आरोप लगाए जाते हैं तो बोर्ड अपनी टीम के किसी भी खिलाड़ी के बचाव में जरूरी कदम उठाएगा।"

पिछले साल नवंबर में श्रीलंका के दासुन बॉल टैम्परिंग के दोषी पाए गए थे
- पिछले 8 महीने में यह दूसरा मौका है, जब श्रीलंका के किसी खिलाड़ी पर बॉल टैम्परिंग का आरोप लगा है। नवंबर 2017 में भारत के खिलाफ मैच में श्रीलंका के मीडियम पेसर दासुन शनाका पर भी गेंद से छेड़छाड़ करने का आरोप लगा था। वे कैमरे में गेंद की सीम का काटते हुए नजर आए थे। उन्होंने मैच रेफरी डेविड बून के समक्ष अपना अपराध स्वीकार भी कर लिया था। उन पर मैच फीस का 75 फीसदी जुर्माना लगा था।