बाहर से आने वाले प्रवासी बने ग्रामीणों के लिए खतरा, कर रहे हैं मनमानी

Sasaram News - तिलौथू प्रखंड के भिन्न भिन्न गांवों में अन्य प्रदेशों से लौटनेवाले लोग अभी भी सीधे अपने घर मे जा रहे हैं। जबकि...

Mar 27, 2020, 08:31 AM IST

तिलौथू प्रखंड के भिन्न भिन्न गांवों में अन्य प्रदेशों से लौटनेवाले लोग अभी भी सीधे अपने घर मे जा रहे हैं। जबकि सरकार का स्पष्ट आदेश है कि भले ही ये लोग स्वस्थ हों फिर भी बाहर से आने वाले लोगों को गांव के विद्यालय में रखना है और उनके भोजन आदि की व्यवस्था विद्यालय के प्रधानाध्यापक और रसोइया करेंगे। ऐसे में ये प्रवासी गांव के अन्य लोगों के लिए खतरा बनते जा रहे हैं। गोपाल सिंह यादव ने बताया कि स्थानीय मुखिया और सरपंच भी इसमें या तो कुछ रुचि नहीं ले रहे हैं या फिर कोई उनकी बात नहीं सुन रहा ।प्रशासन के द्वारा भी सरकार के आदेश का पालन करवाने के लिए अभी तक कोई भी ठोस कदम नहीं उठाया गया है। गांव के लोग खौफ में जी रहे हैं। कुछ लोगों के तो बीमार होने की भी जानकारी मिल रही है।

प्रखण्ड में अब तक केवल एक विद्यालय में इस तरह की व्यवस्था की गई है। पतलुका मध्य विद्यालय के प्रधानाध्यापक अनिल सिंह ने बताया कि मेरे विद्यालय में सारी व्यवस्था की गई है। करीब 6 लोगों को इसमें रखा भी जा रहा है। इस बाबत पूछने पर प्रखण्ड के एक अधिकारी ने बताया कि नियोजित शिक्षकों की हड़ताल के कारण इस आदेश का अनुपालन सुनिश्चित नहीं हो पा रहा है। करीब 80 फीसदी विद्यालयों में नियोजित शिक्षक ही प्रधानाध्यापक के प्रभार में हैं।

स्वाभाविक है कि वे सरकार का आदेश नहीं मान रहे। इस संबंध में डिहरी एसडीएम लाल ज्योतिनाथ शाहदेव ने बताया कि वैसे व्यक्ति जो बाहर से आए हैं तथा जिनमें कोरोना का किसी प्रकार का कोई लक्षण विद्यमान नहीं है उन्हें होम क्वॉरेंटाइन मे रहना है। अर्थात वह अपने घर में ही अलग-थलग रहेंगे। घर का केवल एक व्यक्ति उनके संपर्क में रहेगा वह भी दूर से। उनकी सारी व्यवस्था करेगा 14 दिनों के लिए।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना