पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वहशीपन: तीन साल की मासूम के साथ इस कदर बेरहमी...इतना पीटा कि बच्ची ब्रेन हेमरेज से मर गई, 40 से ज्यादा घाव, 24 घंटे बाद झाड़ियों में फेंका शव

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

सूरत। शहर केपांडेसरा इलाके में मंगलवार को एक 3 साल की बच्ची की लाश झाड़ियों में मिली। पुलिस का कहना है कि बच्ची के साथ रेप नहीं हुआ है। बच्ची के शव का पोस्टमार्टम करने वाले सिविल अस्पताल के डॉक्टर ने कहा- शरीर पर इतने चोट के निशान हैं कि उनकी गिनती नहीं की जा सकती। बच्ची के सिर, आंख, गाल, हाथ, पेट से लेकर पैर तक 40 से ज्यादा गहरे जख्म है। बच्ची के सिर पर किसी वस्तु से प्रहार किया गया, जिससे उसे ब्रेन हैमरेज हो गया।

नहीं हो पाई मासूम के शव की पहचान

बच्ची की शिनाख्त अभी तक नहीं हो पाई है। शव जहां मिला उस जगह से लगभग 80 मीटर की दूरी पर दो दिन पहले ही कुछ बंजारों ने झोपड़ी बना रखी है। 100 मीटर की दूरी पर लकड़ी के तीन कारखाने भी हैं। जांच के लिए क्राइम ब्रांच की 7 टीमें बनाई हैं। पुलिस ने शिनाख्त के लिए पोस्टर लगा दिए हैं।

ऐेसे मिली पुलिस को सूचना

पुलिस को मंगलवार दोपहर करीब 12 बजे किसी ने फोन कर बताया कि पांडेसरा के वडोदगाम की झाड़ियों में एक बच्ची का शव फेंका हुआ है। सूचना पाकर पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। बच्ची ने पीले रंग का टॉप और गुलाबी रंग की कैप्री पहन रखी थी। शव को देख कर अंदाजा लगाया जा रहा है कि वह मध्यम वर्गीय परिवार की होगी। प्रथम दृष्टया बच्ची के चेहरे पर चोट के निशान दिखे। पुलिस को लगा कि किसी ने बच्ची का गला घोंटा है। पुलिस ने बच्ची के शव को फॉरेंसिक पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल भेज दिया।

खबरें और भी हैं...