Hindi News »Education» UP Board Result 2018: Tips To Choose Stream After 10th Pass, 10वीं के बाद स्ट्रीम की टेंशन, ऐसे करे चयन

10वीं के बाद स्ट्रीम की टेंशन? ऐसे करे चयन, अपनाए ये टिप्स

यूपी बोर्ड रिज़ल्ट 2018:10वीं के बाद स्ट्रीम की टेंशन, ऐसे करे चयन

Dainik Bhaskar | Last Modified - May 01, 2018, 02:08 PM IST

10वीं के बाद स्ट्रीम की टेंशन? ऐसे करे चयन, अपनाए ये टिप्स

यूपी बोर्ड के रिज़ल्ट जारी होने ही वाले है। बस कुछ दिन का इंतज़ार और फिर छात्रों की मेहनत का फल उनके सामने होगा। परिणामों की घोषणा के साथ ही इंतजार तो खत्म हो जायेगा, लेकिन छात्रों और अभिभावकों के सामने आगे नई चुनौतियां आन खड़ी होंगी। खासतौर से बात करे 10वीं कक्षा की तो रिज़ल्ट के बाद छात्रों और उनके माता-पिता के मन में जो सबसे बड़ा सवाल होगा वो होगा स्ट्रीम चयन को लेकर। 10वीं के बाद कौन सी स्ट्रीम रहेगी बेस्ट, किस क्षेत्र में होंगी करियर की बेहतर संभावनाएं ये वो तमाम सवाल होंगे जिनके जवाब ढूंढने में थोड़ी परेशानी ज़रूर उठानी पड़ेगी। इसीलिए इन सवालों के जवाब ढूंढने में हम आपकी मदद करेंगे।

रुचि को दें प्राथमिकता
कोई काम तभी सफल हो सकता है जब आप उसे मन लगाकर करें। इसीलिए किसी भी काम में रूचि होना बेहद जरूरी है। यहीं बात स्ट्रीम चयन में भी लागू होती है। 10वीं के बाद स्ट्रीम का चुनाव सबसे पहले रूचि के आधार पर करें। साइंस, कॉमर्स या फिर आर्टस जिस विषय में रूचि हो, मन लगता हो उसी के चुनें और उसमें ही करियर बनाने की सोचें। अगर मन आर्टस में लगता है लेकिन आपने साइंस विषय को चुना तो ये फैसला बिलकुल उचित नहीं होगा। क्योंकि इससे कुछ दिनों बाद ही पढ़ाई में अरुचि पैदा हो जायेगी.

हर स्ट्रीम की लें पूरी जानकारी
ये जरुरी है कि आप चयन से पहले हर स्ट्रीम की पूरी जानकारी लें। आर्टस हो, विज्ञान हो या फिर कॉमर्स। हर स्ट्रीम में आगे क्या संभावनाएं है , आपकी रूचि के हिसाब से क्या वो स्ट्रीम आपके लिए बेहतर है। ये जानना बेहद जरुरी है। इसलिए 10वीं में मिले अंकों, रुझान और अपनी क्षमता का आंकलन करने के बाद ही स्ट्रीम का चयन करना चाहिए. किसी स्ट्रीम को चुनने से पहले भविष्य की योजनाओं के बारे में भी विचार करना चाहिए। किस स्ट्रीम में कितना स्कोप है और उसमे आप बेहतर कर सकते हैं या नहीं ये जानना आवश्यक होता है।

दूसरों से लें सलाह
स्ट्रीम चयन के फैसले पर पहुंचने से पहले ज़रूरी है कि अनुभव का फायदा उठाया जाए। यानि अपने टीचर, स्कूल में अपने सीनियर सहपाठियों या फिर घर में माता पिता और बड़े भाई बहनों से राय मशविरा बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है। इससे आपको स्ट्रीम चयन में काफी मदद मिल सकती है। उनके अनुभव आपके काफी काम आ सकते हैं। बातचीत कर उनकी मदद लें और सूझ-बूझ कर करें स्ट्रीम का चयन, दूसरों से सलाह और हर स्ट्रीम की जानकारी लेने के बाद पूरी सूझबूझ के साथ ही स्ट्रीम चयन का फैसला लें। 10वीं के बाद स्ट्रीम का चयन ही आपके करियर की दिशा तय करता है। इसलिए जिंदगी का ये फैसला पूरी समझ के साथ करें। किसी साथी की देखादेखी नहीं। यूं तो स्ट्रीम के चयन में 10वीं में मिले अंकों का काफी महत्व होता है लेकिन इसे ही आधार न माने बल्कि अपने आप को पूरी तरह कसौटी पर कस कर देखें कि आपके लिए क्या बेस्ट होगा और उसे ही चुने।

दबाव में न आएं
आमतौर पर देखा जाता है कि स्ट्रीम चयन में माता पिता का दबाव देखने को मिलता है ज्यादातर छाक्ष अपने अभिभावकों के दबाव में आकर स्ट्रीम का चयन तो कर लेते हैं लेकिन अपने इच्छानुसार स्ट्रीम न मिलने के कारण अपना बेस्ट नहीं दे पाते। इसीलिए जरूरी है कि किसी के दबाव में आकर कोई फैसला न लें। हालांकि इसका मतलब ये कतई नहीं है कि आप दूसरों की बातों को नज़रअंदाज़ करें लेकिन हां..अपनी रूचियों और अपनी क्षमताओं को प्राथमिकता दें और अपने माता पिता से खुलकर बात करें।

अगर इन बातों का रखेंगे ख्याल तो स्ट्रीम चयन में वाकई कोई दिक्कत नहीं होगी। और करियर का ये पहला पड़ाव आसानी से पार हो जाएगा।
10वीं के बाद डिप्लोमा कोर्सेज करना चाहते है तो ये रही कोर्सेस की लिस्ट
10वीं के बाद इंजीनियर बनना चाहते हैं तो यहाँ करें अप्लाई

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Education

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×