Hindi News »Lifestyle »Tech» How To Identify Fake And Original Powerbank, Here Is The Some Tips

सस्ते में पॉवर बैंक खरीदकर धोखा तो नहीं खा रहे आप? असली और नकली में ऐसे करें फर्क

100-200 रुपए में मिलने वाले पॉवरबैंक अक्सर नकली होते हैं और इनका इस्तेमाल जोखिम भरा हो सकता है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jul 12, 2018, 07:56 PM IST

सस्ते में पॉवर बैंक खरीदकर धोखा तो नहीं खा रहे आप? असली और नकली में ऐसे करें फर्क

गैजेट डेस्क.आज मार्केट में पावर बैंक्स की भरमार है। बड़े-बड़े ब्रांड स्टोर से लेकर सड़कों तक सैकड़ों ब्रांड्स के पावर बैंक मिल रहे हैं। मार्केट में ओरिजनल के नाम पर तमाम तमाम नकली पावर बैंक्स भी मिल रहे हैं। नकली पावर बैंक लेने से आपके पैसे बेकार जाते ही हैं और ये पावर बैंक आपके मोबाइल को भी खराब कर देते हैं। इसलिए पावर बैंक लेने से पहले कुछ सावधानी बरतने पर हम होने वाले नुकसान से बच सकते हैं। यहां पर हम कुछ ऐसे तरीके बता रहे हैं, जिनसे नकली पावर बैंक की पहचान की जा सकती है-

  • अधिकतर कंपनियों ने अभी तक 10,000 या 20,000mAh वाले ही पावर बैंक लॉन्च किए हैं। ऐसे में अगर आपको 50,000 या एक लाख mAH क्षमता वाले पावर बैंक मिलें तो समझ जाएं कि आपको नकली प्रोडक्ट बेचा जा रहा है।
  • असली पावर बैंक भारी होते हैं। हल्के और भारी पावर बैंक के बीच अंतर करने के लिए आप 10,000 और 20,000 mAh वाले पावर बैंक को हाथ में लेकर आसानी से अनुमान लगा सकते हैं। अगर दोनों का वजन समान हो तो आपको सावधान होने की जरुरत है।
  • ब्रांडेड कंपनी के पावर बैंक अगर ओरिजनल कीमत से कम दाम पर मिल रहे हों तो ऐसे पावर बैंक निश्चित ही आपको खरीदने नहीं चाहिए क्योंकि सस्ते दामों पर बिकने वाले पावर बैंक अक्सर नकली होते हैं।
  • अगर आप Mi का पावर बैंक ले रहे हैं तो उसको साइट (www.mi.com/verify/) पर जाकर वेरिफाई जरूर कर लें। ऐसे में आप नकली प्रोडक्ट खरीदने से बच सकते हैं। इसके साथ मिलने वाले केबल पर Mi नहीं लिखा होता है। ऐसा होने पर पावर बैंक बिल्कुल न खरीदें।
  • पावर बैंक लेने से पहले पावर बैंक को अच्छे तरीके से चेक करके भी आप असली और नकली पावर बैंक में अंतर कर सकते हैं। असली पावर बैंक की फिनिशिंग अच्छी होती है। उसके माइक्रो यूएसबी और स्टैंडर्ड यूएसबी अच्छी क्वालिटी के होते हैं, जबकि नकली पावर बैंक में लगे उपकरण घटिया क्वालिटी वाले होते हैं।
  • ओरिजनल पावर बैंक पर लोगो के साथ-साथ अन्य जानकारियां एकदम साफ लिखी होती हैं। अगर कहीं कुछ गड़बड़ दिखे तो ऐसे पावर बैंक को खरीदने से बचें।
  • ओरिजनल पावर बैंक में म्यूजिक, एलईडी जैसे फीचर्स नहीं होते हैं।
  • ओरिजनल पावर बैंक अक्सर वारंटी के साथ आते हैं। इसलिए पावर बैंक लेते समय रिटेलर से वारंटी पेपर जरूर लें। ऐसा करने पर रिटेलर आपको नकली प्रोडक्ट नहीं देगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Tech

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×