पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

ये हैं 77-82 साल की शूटर दादियां, कभी DIG को हरा जीता था गोल्‍ड

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बागपत. यूपी की इंटरनेशनल लेवल की शूटर प्रकाशी तोमर मेरठ के मेट्रो हॉस्पिटल में बीते चार दिनों से भर्ती हैं। डॉक्‍टर का कहना है कि उन्‍हें सांस फूलने की बीमारी है। उन्‍हें कब तक डिस्‍चार्ज किया जाएगा, ये कहा नहीं जा सकता है। बता दें, दिल्ली से करीब 50 किमी दूर जोहड़ी गांव निवासी 82 वर्षीय प्रकाशी तोमर का शूटिंग के क्षेत्र में बड़ा नाम है। यही नहीं, उनकी 77 वर्षीय जेठानी चंद्रो भी इंटरनेशनल लेवल की शूटर हैं।
ऐसे की थी शूटिंग की शुरुआत
- प्रकाशी और चंद्रो 2001 में अपनी पोती को गांव में ही शूटिंग सिखाने जाती थीं।
- एक दिन पोती ने उनसे कहा, दादी आप भी निशाना लगाओ।
- चंद्रो ने दो-तीन निशाने बिल्‍कुल सटीक लगाए।
- इसके बाद कोच ने प्रकाशी से भी निशाना लगाने को कहा। उनके भी निशाने सही लगे।
- इस तरह से प्रकाशो ने 60 की उम्र में शूट‍िंग की शुरुआत की।
लोगों के तानों की हुईं शिकार
- गांववाले मजाक उड़ाते थे कि बुढ़‍िया इस उम्र में कारगिल जाएगी क्‍या? लेकिन दोनों ने किसी की बात नहीं सुनी।
- उनका लक्ष्‍य हमेशा शूटिंग ही रहा।
- इसके बाद दोनों ने बड़े-बड़े लेवल पर कई अवॉर्ड जीते।
- दोनों 25 मी. तक का निशाना लगा चुकी हैं।
जब दिल्‍ली के डीआईजी को चटाई थी धूल
- 2001 में दिल्‍ली में एक शूटिंग का एक कॉम्पिटीशन आयोजित हुआ।
- इसमें प्रकाशो ने दिल्ली के डीआईजी को धूल चटाकर गोल्‍ड मेडल जीता।
- ऐसे ही 1999 से लेकर 2013 के बीच चंद्रो ने भी वेटरन श्रेणी में कई मेडल जीते।
- गौर करने वाली बात है कि इस कैटेगरी में इक्का-दुक्का महिलाएं ही दिखती थीं।
- 2001 में उन्होंने चंड़ीगढ़ में हुए एक कॉम्‍पिटीशन को जीता था।
- आज चंद्रो अपने आसपास के इलाकों के अलावा दूर के क्षेत्रों के बच्चों को भी ट्रेनिंग देती हैं।
- पटना और अमेठी के जिन 40-40 बच्चों को उन्होंने ट्रेनिंग दी, उनमें से कई आज नेशनल लेवल पर खेल रहे हैं।
- बीते 22 जनवरी को राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने दोनों को लंच पर भी बुलाया था।
घर का भी करती हैं काम
- दोनों दादि‍यां बेहद साधारण परिवारों से हैं। दोनों गांव में बैलगाड़ी चलाने के साथ घर का काम भी करती हैं।
- चंद्रो आज भी अपने घर का सारा काम खुद करती हैं। दोनों देवरानी-जेठानी के बीच में काफी प्‍यार है।
क्‍या कहना है बेटे का?
- प्रकाशो के बड़े बेटे रामबीर सिंह ने बताया कि उन्‍हें गर्व है कि उनकी मां इंटरनेशनल लेवल की शूटर हैं।
- दादी के पोते गौरव तोमर भी इससे काफी खुश हैं।
- बता दें, प्रकाशो की बेटी सीमा भी नेशनल लेवल की निशानेबाज हैं।
- फिलहाल दादी से शूटिंग सीख रहीं डोली, पूजा, रूबी कश्यप भी आगे चलकर इंटरनेशनल लेवल की शूटर बनना चाहती हैं।
- शूटिंग रेंज के मौजूदा कोच वाजिद खान कहते हैं कि दादी से कई लोगों को प्रेरणा मिली है।
- उनके शूटिंग के क्षेत्र में आने के बाद से कई बच्‍चे यहां आ चुके हैं।
आगे की स्लाइड्स में देखिए, फोटोज...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि वालों से अनुरोध है कि आज बाहरी गतिविधियों को स्थगित करके घर पर ही अपनी वित्तीय योजनाओं संबंधी कार्यों पर ध्यान केंद्रित रखें। आपके कार्य संपन्न होंगे। घर में भी एक खुशनुमा माहौल बना ...

और पढ़ें