--Advertisement--

पीसा की मीनार की तरह झुका हुआ है ये मंदिर, आज तक नहीं खुल पाया रहस्य

अमेरिकन पर्यटक मेंजिलों ने बताया कि काशी अद्भुत नगरी है। इतने मंदिर और कहीं देखने को नहीं मिलते हैं। ये मंदिर टेढ़ा है और महीनों पानी भरे रहने के बावजूद भी इसे कुछ नहीं हुआ है। ये महादेव का चमत्कार ही है।

Dainik Bhaskar

Sep 14, 2015, 07:00 AM IST
पीसा की मीनार की तरह एक तरफ झुका हुआ है ये मंदिर। पीसा की मीनार की तरह एक तरफ झुका हुआ है ये मंदिर।
वाराणसी. इटली की लीनिंग टॉवर ऑफ पीसा की मीनार एक तरफ झुके होने की वजह से पूरी दुनिया में मशहूर है। 200 सालों में बनकर तैयार हुई ये मीनार वास्तुशिल्प कला का नायाब नमूना है। मंदिरों के शहर काशी में भी सिंधिया घाट पर एक ऐसा ही मंदिर है, जो लगभग 500 साल से एक तरफ झुका हुआ है। इसे रत्नेश्वर महादेव मंदिर के नाम से जाना जाता है। विदेशी पर्यटक अक्सर इसकी तुलना पीसा की मीनार से करते नजर आते हैं। ये मंदिर छह महीने तक पानी में डूबा रहता है।
दिलचस्प है मंदिर का इतिहास
मंदिर का इतिहास भी बेहद दिलचस्प बताया जाता है। पुजारी राजकुमार पांडे के मुताबिक, मंदिर इतना प्राचीन है कि इसका सही वर्णन इतिहास में कहीं नहीं मिलता है। बताया जाता है कि 15वीं और 16वीं शताब्दी के मध्य कई राजा,रानियां काशी रहने के लिए आए थे। इसमें से जब राजामान सिंह काशी रहने आए, तो उन्होंने कई हवेलियां ,कोठियां और मंदिर बनारस में बनवाएं। उनकी मां भी यहीं रहा करती थीं। उस समय उनका सेवक भी अपनी मां को काशी को लेकर आया था।
मां को मंदिर लेकर आया सेवक
सिंधिया घाट पर राजा के सेवक ने राजस्थान समेत देश के कई शिल्पकारों को बुलाकर मां के नाम से महादेव का मंदिर बनवाना शुरू किया। मंदिर कितने दिनों में बना इसका उल्लेख कहीं नहीं है। मंदिर बनने के बाद वो मां को लेकर वहां गया और बोला कि तेरे दूध का कर्ज उतार दिया है। मां ने मंदिर के अंदर विराजमान महादेव को बाहर से प्रणाम किया और जाने लगी। बेटे ने कहा कि मंदिर के अंदर चलकर दर्शन कर लो। तब मां ने जवाब दिया कि बेटा पीछे मुड़कर मंदिर को देखो, वो जमीन में एक तरफ धंस गया है। कहा जाता है तब से लेकर आज तक ये मंदिर ऐसे ही एक तरफ झुका हुआ है।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, छह महीने पानी में डूबा रहता है मंदिर...
छह महीने पानी में डूबा रहता है ये मंदिर। छह महीने पानी में डूबा रहता है ये मंदिर।
छह महीने पानी में डूबा रहता है मंदिर
तीर्थ पुरोहित रमाशंकर मिश्रा ने एक और दिलचस्प बात बताई कि मंदिर छह महीने से ज्यादा गंगा में डूबा रहता है। गर्भ गृह में पानी भरा रहता है। बाढ़ के दिनों में 40 फीट से ऊंचे इस मंदिर के शिखर तक पानी पहुंच जाता है। विधि-विधान से मंदिर में पूजन भी नहीं हो पाता है। बाढ़ के बाद मंदिर के अंदर सिल्ट जमा हो जाता है। मंदिर टेढ़ा होने के बावजूद ये आज भी कैसे खड़ा है, इसका रहस्य कोई नहीं जानता है। बताया जाता है कि सेवक की मां का नाम रत्ना था, इसलिए मंदिर का नाम रत्नेश्वर महादेव पड़ गया। 
 
क्या कहते हैं विदेशी पर्यटक
अमेरिकन पर्यटक मेंजिलों ने बताया कि काशी अद्भुत नगरी है। इतने मंदिर और कहीं देखने को नहीं मिलते हैं। ये मंदिर टेढ़ा है और महीनों पानी भरे रहने के बावजूद भी इसे कुछ नहीं हुआ है। ये महादेव का चमत्कार ही है। वहीं फ्रांस से आए जुपिटर के मुताबिक, ये मंदिर इंडियन साइंसटिस्टों के लिए रिसर्च का एक बेहतरीन सब्जेक्ट है। पर्यटन के लिहाज से ये मंदिर धरोहर बन सकता है। स्थानीय निवासी कल्लू ने बताया कि मंदिर एक मां के श्राप की वजह से टेढ़ा हो गया था, इसलिए इसे मातृऋण मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। विदेशी पर्यटक इसकी तुलना पीसा की मीनार से करते हैं।
 
क्या कहते हैं आर्किटेक्चर
वहीं, आर्किटेक्चर संजय वर्मा ने बताया कि जिस समय बाढ़ नहीं रही होगी उस समय पूरा मंदिर बनकर तैयार हुआ होगा। मंदिर की नींव उस समय बनाई गई होगी जब गंगा का पानी काफी नीचे रहा होगा। नींव से जब पत्थर एडजस्ट किए गए होंगे तो हो सकता है कि कहीं गैपिंग रह गई हो। इसी वजह से ये मंदिर एक तरफ झुक गया। दूसरे आर्किटेक्चर मनोज बदलानी के मुताबिक, ये शंकर की नगरी का चमत्कार है। मंदिर पीछे की तरफ काफी झुका हुआ है। जब तक पूरी नींव को देखा नहीं जाएगा कुछ भी कह पाना मुश्किल है।
 
आगे की स्लाइड्स में देखिए, मंदिर की कुछ और फोटोज...
ratneshwar mahadev mandir looks alike leaning tower of pisa in varanasi
ratneshwar mahadev mandir looks alike leaning tower of pisa in varanasi
ratneshwar mahadev mandir looks alike leaning tower of pisa in varanasi
ratneshwar mahadev mandir looks alike leaning tower of pisa in varanasi
ratneshwar mahadev mandir looks alike leaning tower of pisa in varanasi
ratneshwar mahadev mandir looks alike leaning tower of pisa in varanasi
X
पीसा की मीनार की तरह एक तरफ झुका हुआ है ये मंदिर।पीसा की मीनार की तरह एक तरफ झुका हुआ है ये मंदिर।
छह महीने पानी में डूबा रहता है ये मंदिर।छह महीने पानी में डूबा रहता है ये मंदिर।
ratneshwar mahadev mandir looks alike leaning tower of pisa in varanasi
ratneshwar mahadev mandir looks alike leaning tower of pisa in varanasi
ratneshwar mahadev mandir looks alike leaning tower of pisa in varanasi
ratneshwar mahadev mandir looks alike leaning tower of pisa in varanasi
ratneshwar mahadev mandir looks alike leaning tower of pisa in varanasi
ratneshwar mahadev mandir looks alike leaning tower of pisa in varanasi
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..