• Dharm
  • Upasana
  • ये आसान सरस्वती मंत्र बच्चों को बनाएं पढ़ाई में तेज तर्रार

ये आसान सरस्वती मंत्र बच्चों को बनाएं पढ़ाई में तेज-तर्रार

बसंत पंचमी (28 जनवरी) पर इन आसान सरस्वती मंत्रों को बोलने से बच्चे पढ़ाई में अव्वल बने रहते हैं..

धर्म डेस्क. उज्जैन

Jan 25, 2012, 08:55 AM IST
ये आसान सरस्वती मंत्र बच्चों को बनाएं पढ़ाई में तेज-तर्रार

शास्त्रों में विद्या को धन माना गया है। क्योंकि विद्या ही इंसान को संस्कार, मर्यादा, गुणों से जोड़कर उसके चरित्र, व्यवहार या कर्म को भी साधती है। जिससे इंसान कुशल व दक्ष बनकर जीवन को सफल बना सकता है।
यही कारण है कि हर माता-पिता भी संतान का जीवन या भविष्य संवारने के लिये चाहते हैं कि वह अधिक से अधिक विद्या अर्जित कर जीवन के लक्ष्यों को बिना कठिनाई के प्राप्त कर सके। किंतु अक्सर यह भी देखा जाता है कि बढ़ती उम्र के साथ खासतौर पर शिक्षा प्राप्ति के दौरान परिवार के वातावरण, बातचीत या रहन-सहन की नकारात्मक बातों या फिर किसी प्राकृतिक दोष के प्रभाव से पैदा मानसिक कमजोरी के कारण पढ़ाई में मन नहीं लगना या याददाश्त की कमी जैसी समस्याएं बच्चे की प्रगति व उन्नति में बाधक बनने लगती है।
बच्चों के ऐसे मानसिक दोषों को दूर करने के उपायों में पारिवारिक माहौल में सुधार या उपचारों के अलावा धार्मिक दृष्टि से विद्या व ज्ञान की देवी माता सरस्वती का ध्यान बहुत ही सरल व प्रभावी माना गया है। जिसके लिए कुछ छोटे-छोटे सरस्वती मंत्रों का स्मरण बच्चों से करवाने का महत्व बताया गया है।
हिन्दू पंचांग के माघ शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि यानी बसंत पंचमी (28 जनवरी) को स्नान के बाद खासतौर पर बच्चों के हाथों से माता सरस्वती की मूर्ति को सफेद फूल, अक्षत चढ़वाएं। सफेद मिठाई का भोग लगवाकर धूप, दीप प्रज्जवलित कर पूजा करवाएं और इन मंत्रों को भी बुलवाएं या फिर स्वयं संतान की प्रखर बुद्धि की कामना से बोलें -
ॐ महाविद्यायै नम:
ॐ वाग्देव्यै नम:
ॐ ज्ञानमुद्रायै नम:
- मंत्र स्मरण के बाद देवी की आरती कर हथेलियों से दीपज्योति की ऊर्जा ग्रहण कर बच्चों के सिर पर स्पर्श कराएं। देवी को अर्पित प्रसाद बच्चों को खिलाएं।



X
ये आसान सरस्वती मंत्र बच्चों को बनाएं पढ़ाई में तेज-तर्रार
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना