पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अमेरिका ने चीन पर दो महीने में दूसरी बार आयात शुल्क लगाया, इस बार 1.09 लाख करोड़ रुपए के इंपोर्ट पर 25% टैरिफ

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

- अमेरिका ने 6 जुलाई को 2.34 लाख करोड़ रुपए के चीन से होने वाले आयात पर शुल्क लागू किया था

- चीन ने पिछले हफ्ते 4.11 लाख करोड़ के अमेरिकी इंपोर्ट पर टैरिफ लगाने की धमकी दी थी

 

वाशिंगटन. अमेरिका ने मंगलवार को चीन से होने वाले 16 अरब डॉलर (1.09 लाख करोड़ रुपए) मूल्य के आयात पर शुल्क लगाने का ऐलान किया। डोनाल्ड ट्रम्प प्रशासन ने 279 वस्तुओं की लिस्ट जारी की जिन पर 25% आयात शुल्क लगाया जाएगा। इनमें मोटरसाइकिल, स्पीडोमीटर, एंटीना और दूसरे इलेक्ट्रॉनिक उपकरण शामिल हैं। नए टैरिफ 23 अगस्त से लागू होंगे। 

चीन के शेयर बाजार में गिरावट : अमेरिका के इस ऐलान के बाद बुधवार को चीन के शेयर बाजार में गिरावट आई। शंघाई कंपोजिट इंडेक्स 0.5% नीचे आ गया। सीएसआई-300 इंडेक्स में भी 0.6% गिरावट दर्ज की गई। ट्रेड वॉर की वजह से इस साल चीन के स्टॉक मार्केट को काफी नुकसान हुआ है। पिछले हफ्ते चीन को पीछे छोड़ जापान दुनिया का दूसरा बड़ा शेयर बाजार बन गया।

अमेरिका ने पिछले महीने भी शुल्क लगाया था : 6 जुलाई को अमेरिका ने चीन से आयात होने वाले 34 अरब डॉलर (2.34 लाख करोड़ रुपए) के सामान पर 25% टैरिफ लागू किया था। बदले में चीन ने भी इतना ही आयात शुल्क लगा दिया। पिछले बुधवार को ट्रम्प प्रशासन ने अपने अधिकारियों को निर्देश दिए कि चीन से होने वाले 200 अरब डॉलर (13.70 लाख करोड़ रुपए) के सालाना आयात पर टैरिफ 10% से बढ़ाकर 25% करने पर विचार करें। इसके दो दिन बाद पिछले शुक्रवार को चीन ने भी 60 अरब डॉलर (4.11 लाख करोड़ रुपए) के अमेरिकी आयात पर 25% तक टैरिफ लगाने की चेतावनी दी। अमेरिका के कारोबारी ट्रेड वॉर का विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि इससे सामान महंगा होगा और उपभोक्ताओं पर भार पड़ेगा।  

अमेरिका का आयात चीन से चार गुना ज्यादा : 2017 में अमेरिका ने चीन से कुल 505 अरब डॉलर (35 लाख करोड़ रुपए) का सामान आयात किया था। चीन का आयात सिर्फ 129.9 अरब डॉलर (नौ लाख करोड़ रुपए) रहा। ट्रम्प चाहते हैं कि चीन अमेरिकी उत्पादों पर आयात शुल्क घटाए और अमेरिकी टेक्नोलॉजी चुराना बंद करे। वे चीन पर बौद्धि‍क संपदा की चोरी करने और अमेरिका के व्‍यापार घाटे को बढ़ाने के आरोप लगाते रहे हैं। अमेरिका और चीन दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देश हैं। इस साल मार्च से दोनों के बीच व्यापारिक रिश्तों में तनाव शुरु हुआ। ट्रम्प कई बार यह धमकी दे चुके हैं कि जरूरत पड़ने पर वे चीन से होने वाले पूरे आयात को इंपोर्ट ड्यूटी के दायरे में लाने से पीछे नहीं हटेंगे। 

खबरें और भी हैं...