Hindi News »Business» US President Trump Says Willing To Slap Tariffs On All 505bn Dollar Of Chinese Imports

ट्रेड वॉर: अमेरिका 35 लाख करोड़ रुपए के पूरे चाइनीज इंपोर्ट पर जल्द लगा सकता है ड्यूटी, ट्रम्प ने फिर दिए संकेत

छह जुलाई को दोनों देशों ने एक-दूसरे पर 2.34 लाख करोड़ रुपए के आयात पर शुल्क लगाया

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jul 20, 2018, 06:46 PM IST

ट्रेड वॉर: अमेरिका 35 लाख करोड़ रुपए के पूरे चाइनीज इंपोर्ट पर जल्द लगा सकता है ड्यूटी, ट्रम्प ने फिर दिए संकेत

- 20 दिन में अमेरिका ने दो बार चीन पर इंपोर्ट ड्यूटी लगाई

- चीन ने जवाबी कार्रवाई की तो अमेरिका ने डब्ल्यूटीओ में मुद्दा उठाया

वाॅशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने फिर संकेत दिए हैं कि वे जल्द ही चीन से इंपोर्ट होने वाले हर सामान पर आयात शुल्क लगा सकते हैं। एक इंटरव्यू में ट्रम्प ने कहा कि वे चीन पर 505 अरब डॉलर (35 लाख करोड़ रुपए) मूल्य के पूरे इंपोर्ट पर टैरिफ लगाने को तैयार हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति के इस बयान के बाद दोनों देशों के बीच ट्रेड वॉर और तेज होने की आशंका है। ट्रम्प ने कहा, "मैं राजनीति की वजह से नहीं बल्कि देश की भलाई के लिए इस तरह के कदम उठा रहा हूं। चीन लंबे समय से हमें नुकसान पहुंचा रहा है।" अमेरिकी राष्ट्रपति पहले भी कई बार कह चुके हैं कि चीन ने व्यापारिक नीतियां नहीं बदलीं तो उसके पूरे इंपोर्ट को टैरिफ के दायरे में लाया जाएगा।

इस महीने दो बार टैरिफ लगा चुका है अमेरिका : छह जुलाई को अमेरिका ने चीन पर 34 अरब डॉलर (2.34 लाख करोड़ रुपए) के इंपोर्ट पर 25% टैरिफ लागू किया। बदले में चीन ने भी इतना ही आयात शुल्क लगा दिया। इसके बाद 11 जुलाई को अमेरिका ने फिर से चीन से इंपोर्ट किए जाने वाले 200 अरब डॉलर (13.77 लाख करोड़ रुपए) के उत्पादों पर 10% इंपोर्ट ड्यूटी लगाने का ऐलान किया। सितंबर से यह शुल्क लागू होने की संभावना है। अमेरिका अगस्त के आखिरी हफ्ते तक उन सामानों की लिस्ट जारी कर सकता है जिन पर टैरिफ लगाया गया है। इसमें खाद्य सामग्री, मिनरल्स और हैंडबैग जैसे 6000 उत्पाद शामिल होंगे।

अमेरिका का इंपोर्ट चीन से 4 गुना ज्यादा : 2017 में अमेरिका ने चीन से कुल 35 लाख करोड़ रुपए (505 अरब डॉलर) का माल इंपोर्ट किया। चीन का इंपोर्ट सिर्फ 9 लाख करोड़ रुपए (129.9 अरब डॉलर) रहा। ऐसे में अगर चीन अमेरिका पर जवाबी कार्रवाई भी करता है तो भी नुकसान की भरपाई नहीं कर पाएगा। ट्रम्प चाहते हैं कि चीन अमेरिकी उत्पादों पर इंपोर्ट ड्यूटी घटाए और अमेरिकी टेक्नोलॉजी चुराना बंद करे। वे चीन पर बौद्धि‍क संपदा की चोरी करने और अमेरिका के व्‍यापार घाटे को बढ़ाने के आरोप लगाते रहे हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Business

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×