• Jyotish
  • Vastu
  • vastu tips for plot, Vastu Defects, Vastu Measures, Vastu Defects, Vaastu Tips
--Advertisement--

इस दिशा में हो घर का मेन डोर तो हो सकता है धन लाभ और मिलते हैं शुभ फल

मकान बनाने के लिए प्लॉट चुनते समय कुछ बातों का विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए जैसे- प्लॉट का मुंह किस दिशा है आदि।

Danik Bhaskar | Apr 23, 2018, 05:00 PM IST

रिलिजन डेस्क. मकान बनाने के लिए प्लॉट चुनते समय कुछ बातों का विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए जैसे- प्लॉट का मुंह किस दिशा है आदि। प्लॉट के ईशान (उत्तर-पूर्व) दिशा में मार्ग हो तो भवन ईशानमुखी अर्थात ईशान्यभिमुख होता है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रफुल्ल भट्ट के अनुसार, इस प्रकार के प्लॉट बुद्धिमान संतान तथा शुभ फल देने वाला होता है। ईशान दिशा के स्वामी भगवान रुद्र (शिव) तथा प्रतिनिधि ग्रह बृहस्पति हैं। ईशान मुखी प्लॉट पर निर्माण करते समय इन वास्तु सिद्धांतों का पालन करना चाहिए-

1. ईशानमुखी प्लॉट ऐश्वर्य, लाभ, वंश वृद्धि, बुद्धिमान संतान व शुभ फल देने वाला है। ऐसे प्लॉट पर निर्माण करते समय ध्यान रखें कि ईशान कोण कटा व ढका हुआ न हो। प्रयास करें कि प्रत्येक कक्ष में ईशान कोण न घटे।
2. ईशानमुखी भवन में ईशान कोण सदैव नीचा रहना चाहिए। ऐसा करने से सुख-सम्पन्नता व ऐश्वर्य लाभ होगा।
3. ईशान कोण बंद न करें न कोई भारी वस्तु रखें। ईशान मुखी प्लॉट में आगे का भाग खाली रखें तो शुभ रहेगा।
4. भवन के चारों ओर की दीवार बनाएं तो ईशान दिशा या पूर्व, उत्तर की ओर ऊंची न रखें।
5. ईशान के हिस्से को साफ रखें, यहां कूड़ा-कचरा, गंदगी आदि न डालें। झाड़ू भी न रखें।
6. ईशान मुखी प्लॉट के सम्मुख नदी, नाला, तालाब, नहर तथा कुआं होना सुख, सम्पत्ति का प्रतीक है।
7. ईशान कोण में रसोई घर न रखें वरना घर में अशांति, कलह व धन हानि होने की संभावना रहती है।
8. घर का जल ईशान दिशा से बाहर निकालें। फर्श का ढलाव भी ईशान कोण की ओर रखें।