--Advertisement--

शास्त्रों से- गलती से भी अधूरे न छोड़े ये 4 काम, बढ़ सकती हैं परेशानियां

ऋण या उधार लिया गया पैसा किसी भी स्थिति में पूरा लौटा देना चाहिए

Danik Bhaskar | May 12, 2018, 04:06 PM IST

रिलिजन डेस्क। सुखी और समृद्धिशाली जीवन के लिए शास्त्रों में कई महत्वपूर्ण नियम बताए गए हैं। इन नियमों का पालन करने पर हमारा जीवन सुखी और समृद्धिशाली हो सकता है। गीताप्रेस गोरखपुर द्वारा प्रकाशित संक्षिप्त गरुड़ पुराण अंक के आचारकांड में नीतिसार अध्याय है। इस अध्याय में 4 काम ऐसे बताए गए हैं, जिन्हें अधूरा छोड़ना नुकसानदायक हो सकता है। जानिए ये 4 काम कौन-कौन से हैं, जिन्हें बीच में नहीं छोड़ना चाहिए...

1. ऋण का भुगतान

गरुड़ पुराण के अनुसार, ऋण या उधार लिया गया पैसा किसी भी स्थिति में पूरा लौटा देना चाहिए। अगर ऋण पूरा नहीं उतारा जाता है तो वह ब्याज के कारण फिर से बढ़ने लगता है। अगर किसी रिश्तेदार से ऋण लेकर उसे पूरा न चुकाया जाए तो रिश्तों में दरार पड़ने लगती है।

2. बीमारी का इलाज

अगर कोई व्यक्ति बीमार है तो उसे दवाइयों से और आवश्यक परहेज से रोग को जड़ से मिटा देना चाहिए। जो लोग पूरी तरह स्वस्थ न होते हुए भी दवाइयां लेना बंद कर देते हैं उन्हें बीमारी फिर से हो सकती है। बीमारी का वापस लौटना ज्यादा खतरनाक होता है। इसीलिए बीमारी खत्म होने तक सावधानी रखनी चाहिए।

3. आग बुझाना

यदि कहीं आग लग रही है तो आग को भी पूरी तरह बुझा देना चाहिए। क्योंकि छोटी-सी चिंगारी भी बड़ी आग में बदल सकती है, जान और माल को नुकसान पहुंचा सकती है।

4. शत्रुता

अगर आपका कोई शत्रु है और वह बार-बार परेशान कर रहा है तो उससे किसी भी तरह शत्रुता खत्म कर लेना चाहिए। वरना शत्रु हमेशा ही हमारा अहित करने की योजनाएं बनाते रहेंगे। शत्रुता का नाश करने पर ही जीवन से डर का नाश हो सकता है।

Related Stories