रिलेशनशिप

--Advertisement--

बच्चे के शर्मीलेपन को दूर करने के लिए उनमें कॉन्फिडेंस लाना जरूरी

बच्चे के शर्मीलेपन को दूर करने के लिए उनमें कॉन्फिडेंस लाना जरूरी

मां-पिता ध्यान दें कि वह अपने बच्चों को कभी भी शर्मीला नहीं बोलें। मां-पिता ध्यान दें कि वह अपने बच्चों को कभी भी शर्मीला नहीं बोलें।
अगर अक्सर बच्चा आपके सवाल का सामने जवाब देने से कतराता है तो इसे नजरअंदाज न करें। जब बच्चा अपनी बात कहता है तो अपने इमोशंस भी एक्सप्रेस करता है। ऐसे में उसकी बात को तवज्जों दें।

Danik Bhaskar

Aug 20, 2018, 12:03 PM IST

यूटिलिटी डेस्क. कुछ बच्चे बचपन से शर्मीले स्वभाव के होते हैं। उनका शर्मीलापन तब सामने आता है जब घर आया कोई मेहमान उनसे कुछ बात करता है। शर्मीले बच्चे नॉर्मल सवालों के जबाव देने से भी कतराते हैं। माता-पिता की नजर में बच्चे कई जगहों  पर उनकी इंसल्ट करा देते हैं। जबकि माता-पिता ही अपने बच्चों की दिनचर्या और आदतों में कुछ बदलाव कर इस समस्या को दूर कर सकते हैं। पेरेंटिंग एक्सपर्ट डॉ. विनय मिश्रा से जानते हैं समस्या का समाधान...

 

शर्मीलेपन के 6 कारण

  • बच्चे की सोशल स्किल्स बहुत कम है तो वह शर्मीला व्यवहार अपनाएगा।
  • मां या बाप में से कोई एक शर्मीला हो तो वह कैरेक्टर बच्चों में अा जाता है।
  • पैरेंट्स या रिश्तेदार बच्चों की आलोचना करते हैं, तो वे शर्मीले हो जाते हैं।
  • पैरेंट्स बच्चों को कम टाइम देते हैं तो शाय नेचर डेवलप होने लगता है।
  • उनमें अपर्याप्तता की भावना रहती है। उनको लगता है बाकी मुझसे स्मार्ट हैं।
  • जो बच्चे अंधेरे, कुत्ते के भौंकने आदि से डरते हैं वह शर्मीले हो जाते हैं।
Click to listen..