--Advertisement--

WhatsApp ने शुरू किया नया फीचर, ऐसे पता चलेगा आपको मिला कौन सा मैसेज फॉरवर्ड मैसेज है

रिपोर्ट्स के मुताबिक, पिछले एक साल में वॉट्सऐप के फर्जी मैसेज की वजह से 30 लोगों की हत्या हो चुकी है।

Dainik Bhaskar

Jul 11, 2018, 03:40 PM IST
WhatsApp rolls out Forwarded label to fight fake news and rumors

गैजेट डेस्क. इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप वॉट्सऐप ने फेक न्यूज और अफवाह रोकने के लिए नया फीचर रिलीज कर दिया है। इस फीचर के जरिए आने वाले मैसेज के बारे में पता चल सकेगा कि ये मैसेज सेंडर ने ही लिखा है या फिर इसे अफवाह फैलाने के मकसद से फॉरवर्ड किया गया है। इसके लिए मैसेज में 'फॉरवर्डेड' लेबल को जोड़ा गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये फीचर एंड्रॉयड और आईओएस दोनों प्लेटफॉर्म के लिए रोल आउट कर दिया गया है।

इससे फेक न्यूज का पता लगाने में मदद मिलेगी : वॉट्सऐप ने अपने ब्लॉग पोस्ट में कहा 'वॉट्सऐप अब आपको बता देगा कि जो मैसेज आपको भेजा गया है, वो फॉरवर्डेड है। ये फीचर आपको पर्सनल और ग्रुप चैट को आसान बना देगा। ये फीचर आपको ये पता लगाने में भी मदद करेगा कि जो मैसेज आपको आपके दोस्त या रिश्तेदार ने भेजा है, उसे उन्हीं ने लिखा है या फिर ये मैसेज किसी और ने उन्हें भेजा है।'

विज्ञापन के जरिए बताए फेक न्यूज से बचने के तरीके : वॉट्सऐप की तरफ से मंगलवार को देश के लगभग सभी बड़े अखबारों में एक फुल पेज विज्ञापन दिया गया था, जिसमें कंपनी ने यूजर्स को फेक न्यूज से बचने के तरीके बताए थे। विज्ञापन में कहा था कि वॉट्सऐप में आने वाले किसी भी मैसेज, वीडियो, फोटो पर भरोसा करने से पहले उसे अच्छी तरह से चेक जरूर करें, उसके बाद ही उसे आगे फॉरवर्ड करें।
- वहीं वॉट्सऐप के प्रवक्ता ने कहा कि 'हम भारत में एक एजुकेशन कैंपेन शुरू करने जा रहे हैं, जिसमें लोगों को फेक न्यूज और अफवाह पहचानने के तरीके बताए जाएंगे। हमारा पहला कदम अखबार में विज्ञापन देने का है, जो हिंदी, अंग्रेजी समेत कई क्षेत्रीय भाषाओं में दिया जाएगा।'

प्रीव्यू लिंक का फीचर भी लाने वाला है वॉट्सऐप : पिछले दिनों WABetainfo की रिपोर्ट में कहा गया था कि फेक न्यूज रोकने के लिए वॉट्सऐप 'प्रीव्यू लिंक' फीचर की टेस्टिंग कर रहा है। इस फीचर के जरिए जब भी मैसेज में कोई लिंक भेजी जाएगी, तो पहले उसका प्रीव्यू यूजर्स को दिखाई देगा। अगर मैसेज में किसी 'हार्मफुल लिंक' को दिखाया जाता है, तो वॉट्सऐप लाल रंग में 'संदेहास्पद लिंक' की चेतावनी देगा।
- ऐसी लिंक पर टैप करने पर डायरेक्ट लिंक नहीं खुलेगी बल्कि यूजर्स के सामने दो ऑप्शन आएंगे। पहले ऑप्शन में यूजर्स को बताया जाएगा कि ये लिंक हार्मफुल है और आप वापस जा सकते हैं जबकि दूसरे ऑप्शन में यूजर्स के सामने लिंक पर जाने का विकल्प होगा। हालांकि, इस फीचर के बारे में वॉट्सऐप की तरफ से अभी तक कुछ भी नहीं कहा गया है।

बीते 10 दिनों में वॉट्सऐप और फेक न्यूज को लेकर क्या-क्या हुआ?
- 1 जुलाई :
महाराष्ट्र के धुले जिले के राइनपाड़ा गांव में वॉट्सऐप मैसेज से एक अफवाह फैली कि 'अपने बच्चों को संभालकर रखें, कुछ लोग बच्चा चोरी करने के लिए घूम रहे हैं।' इस अफवाह के फैलने के कुछ देर बाद ही गांव के आसपास कुछ अनजान लोग घूम रहे थे, तभी गांव वालों ने बिना पूछताछ के उनकी पिटाई शुरू कर दी, जिससे 5 लोगों की मौत हो गई।
- 3 जुलाई : इस घटना के बाद आईटी मंत्रालय ने वॉट्सऐप को चेतावनी देते हुए मैसेज के जरिए फैलने वाली झूठी अफवाहों पर रोक लगाने के लिए तत्काल कार्रवाई करने के आदेश दिए। मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा वॉट्सऐप मैनेजमेंट के सामने नाराजगी जाहिर की। सरकार ने कहा कि 'लॉ एंड ऑर्डर मशीनरी अपना काम कर रही है, लेकिन वॉट्सऐप जैसे प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल अफवाहें फैलाने के लिए हो रहा है जो चिंता का विषय है।'
- 4 जुलाई : सरकार का जवाब देते हुए वॉट्सऐप ने भी एक बयान जारी किया। इस बयान में कंपनी ने लिखा 'भारत में मॉब लिंचिंग के बढ़ते मामले डराने वाले हैं और इसके लिए हम अपने प्लेटफॉर्म में सुधार करेंगे।' वॉट्सऐप ने ये भी कहा 'हम इस तरह की हिंसा को लेकर परेशान हैं और हमारा मानना है कि ये एक चुनौती है जिससे निपटने के लिए सरकार, सिविल सोसायटी और टेक्नोलॉजी कंपनियों को एकसाथ काम करने की जरुरत है।'
- 10 जुलाई : वॉट्सऐप ने देश के सभी बड़े अखबारों में एक फुल पेज विज्ञापन दिया। इस विज्ञापन में वॉट्सऐप ने 10 प्वॉइंट्स के जरिए फेक न्यूज से बचने के तरीके बताए।

X
WhatsApp rolls out Forwarded label to fight fake news and rumors
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..