पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जहां बांटी सबसे ज्यादा मच्छरदानी वहीं मलेरिया से महिला की हो गई मौत

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

रायगढ़। धरमजयगढ़ अस्पताल से रेफर होकर रायगढ़ के मेकाहारा आ रही महिला की रास्ते में ही मलेरिया से मौत हो गई। महिला का इलाज शनिवार से धरमजयगढ़ में चल रहा था। एक माह में मलेरिया से यह तीसरी मौत है। पिछले दिसंबर माह में मलेरिया विभाग ने जिले के धरमजयगढ़ में सबसे ज्यादा 70 हजार मच्छरदानियां बांटी है। बावजूद लोग बीमार हो रहे। 

 

- धरमजयगढ़ के खडग़ांव निवासी सरिता बंसोड़ शनिवार से धरमजयगढ़ के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती थी। यहां हालत खराब होने पर उसे मेकाहारा ले जाने कहा गया। रविवार की दोपहर महिला के गर्भ में पल रहा भ्रूण भी अपने आप गिर गया। सोमवार की दोपहर परिजन महिला को एंबुलेंस से मेकाहारा लेकर आ रहे थे।

- पूंजीपथरा के आसपास महिला की मौत हो गई। बावजूद इसके परिजन महिला के डेडबॉडी को लेकर अस्पताल पहुंच गए। मृतका के चाचा उजियार सिंह बंसोड़ ने कहा एंबुलेंस में एक साथ दो मरीज थे। इसलिए महिला के शव को अस्पताल लेकर आ गए, जहां डॉक्टरों ने शव का पीएम किया। 


मलेरिया से अब तक तीन मौत हो चुकी 
- गढ़ उमरिया के खैर डीपा निवासी नरेंद्र ओगरे (55) को बुखार होने पर मेकाहारा लाया गया। इलाज के दौरान डॉक्टरों ने मरीज के शरीर में मलेरिया की पुष्टि की। 7 जुलाई को मरीज ने दम तोड़ दिया। दूसरा मामला हमारे जिले का नहीं है, लेकिन मरीज की मौत मेकाहारा में हुई इसलिए उल्लेख किया जा रहा है।

- जांजगीर-चांपा जिले के मालखरौदा निवासी पूजा खूंटे (7) की तबियत बिगड़ने पर परिजन उसे मालखरौदा के सरकारी अस्पताल लेकर गए। डॉक्टरों ने वहीं पर मलेरिया की पुष्टि कर दी, इसके बाद उसे मेकाहारा रेफर किए। 28 जुलाई को बालिका ने दम तोड़ दिया। 


1.90 लाख मच्छरदानियां बांटी
- मलेरिया नियंत्रण के लिए विभाग ने अब तक 1 लाख 90 हजार मच्छरदानियों का वितरण जिले में कर चुका है जिसमें सबसे अधिक करीब 70 हजार मच्छरदानियों का वितरण केवल धरमजयगढ़ ब्लाक में ही बांटी गई है। इसके बाद लैलूंगा और घरघोड़ा ब्लाक के गांवों में मच्छरदानी दी गई। 

 

जागरूकता का अभाव 
- मलेरिया से पीड़ित ऐसे हैं जो पहले बाहर में रहते थे या गांव में रहकर मच्छरदानी का उपयोग नहीं करते। लोगों में जागरूकता का अभाव। मच्छरदानी का उपयोग करना चाहिए। हम दो स्टेप में डीडीटी का छिड़काव कर रहे हैं। - डॉ टीजी कुलवेदी, जिला मलेरिया अधिकारी 

खबरें और भी हैं...