Hindi News »Lifestyle »Health And Beauty» Whey Protein Egg Gym Supplement Increase Acne And Pimples

पिंपल्स की परेशानी : व्हे-प्रोटीन, अंडे और जिम सप्लिमेंट लेने से होते हैं ऐक्ने, दिनभर में 10 गिलास पानी पीने से मिलेगी राहत

डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. सुरेन्द्र थालौर से जानते हैं एक्ने से बचने के लिए किन बातों का ध्यान रखना जरूरी है...

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Jul 07, 2018, 04:00 PM IST

पिंपल्स की परेशानी : व्हे-प्रोटीन, अंडे और जिम सप्लिमेंट लेने से होते हैं ऐक्ने, दिनभर में 10 गिलास पानी पीने से मिलेगी राहत

- स्टीरॉयड युक्त ब्यूटी प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल के कारण बढ़ रही पिंपल्स की समस्या
- ओरल रेटिनोइड्स, एंटीबायोटिक और हार्मोनल ट्रीटमेंट से इलाज किया जाता है

हेल्थ डेस्क.शरीर में टॉक्सिन्स और हॉर्मोन्स का लेवल बढ़ने से चेहरे के अलावा शरीर के अलग-अलग हिस्सों में ऐक्ने आना शुरू हो जाते हैं। टीनएजर में यह सामान्य प्रॉब्लम है, लेकिन इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। आजकल फिट और खूबसूरत दिखने की होड़ में युवा बिना डॉक्टर की सलाह लिए हुए स्टीरॉयड युक्त ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल कर रहे हैं। इससे भी चेहरे पर एक्ने, ब्लैकहेड, व्हाइटहेड, सिस्ट और नोड्यूल आना शुरू हो जाते हैं। ऐसी स्थिति में युवाओं में सेल्फ कांफिडेंस कम होने के साथ साथ उनमें हीन भावना आना शुरू हो जाती है। डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. सुरेन्द्र थालौर से जानते हैं एक्ने से बचने के लिए किन बातों का ध्यान रखना जरूरी है...

5 प्वॉइंट्स : क्या ध्यान रखें
1.
खासतौर पर जंक और तला हुआ फूड, अंडे, व्हेय-प्रोटीन और एंड्रोजन जैसे जिम सप्लीमेंट खाने से भी ऐक्ने की प्रॉब्लम बढ़ रही है। इसके अलावा पील्स, ऑयली मॉस्चराइजर, सनस्क्रीन का गलत तरीके से इस्तेमाल, लंबे समय तक मेकअप और स्ट्रेस के कारण भी एक्ने हो रहे हैं।
2. कई बार लड़कियों को पीरियड और हार्मोन के इम्बैलेंस होने की वजह से ऐसा होता है। एक्ने मुख्य तौर पर चेहरे, गाल और ठोड़ी को प्रभावित करते है। चेहरे के अलावा अपर चेस्ट अपर बैक और आर्म्स को भी ऐक्ने प्रभावित करते हैं।
3.ज्यादा ऑयली स्कैल्प लोगों में फुंसी और ड्रैंडफ होना सामान्य है। ऐक्ने होने पर उन्हें खींचना या हटाना नहीं चाहिए। इससे निशान और पिगमेंटेशन हो सकते हैं। इनका इलाज करना मुश्किल है।
4. स्किन को हेल्दी और फ्रेश रखने के लिए डाइट का भी महत्वपूर्ण रोल होता है इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर अखरोट सीड्स और ओमेगा रिच फिश शामिल करनी चाहिए।सूरज की तेज किरणों से स्किन को बचाएं।
5. वाटर बेस्ड मॉस्चराइजर लगाएं। स्किन पर नॉन-कॉमेडोजेनिक मॉस्चराइजर और सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें। डाइट में ताजा फल और सब्जियां जरूर खाएं दिन में 8 से 10 गिलास पानी पीकर बॉडी को हाइड्रेटेड रखे। लंबे समय तक स्किन पर मेकअप को ना लगा कर रखे।
ओरल मेडिसिन और एंटीबायोटिक से करते हैं इलाज
कई लोग ऐक्ने की वजह से शारीरिक और मानसिक रूप से परेशान हो जाते है। ऐसे में उन्हें तुरंत किसी स्किन स्पेशलिस्ट को दिखाना चाहिए। ऐक्ने का ओरल दवाओं और लोकल ट्रीटमेंट द्वारा इलाज किया जा रहा है। इसके अलावा सेलिसिलिक फेस-वॉश, क्लिंडामाइसिन और बेंजॉइल पैराक्साइड जैसे लोशन का इस्तेमाल कर सकते हैं। कुछ गंभीर मामलों में ओरल रेटिनोइड्स और एंटीबायोटिक दवाएं दी जाती हैं। ऐक्ने के निशान को ठीक करने के लिए पील्स आैर लेजर ट्रीटमेंट दिया जाता है। कैमिकल पील्स और हार्मोनल ट्रीटमेंट से भी इस समस्या को काफी हद तक ठीक किया जा सकता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Health and Beauty

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×