--Advertisement--

पूजा के लिए 3 तरह के बर्तन होते हैं अशुभ, इनका इस्तेमाल करने से बचना चाहिए

Dainik Bhaskar

Jun 21, 2018, 07:19 PM IST

अगर पूजा-पाठ में शुभ बर्तनों का उपयोग किया जाता है तो भगवान की कृपा जल्दी मिल सकती है।

which types of utensils we can use in worship, how to pray, worship method

रिलिजन डेस्क। पूजा में इस्तेमाल किए जाने वाले बर्तनों के लिए हमें सावधानी रखनी चाहिए। कुछ ऐसी धातुएं हैं, जिनके बर्तन पूजा-पाठ में वर्जित माने जाते हैं। वर्जित बर्तनों से पूजा करने पर मनोकामनाएं अधूरी रह सकती हैं। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार प्राचीन ग्रंथ मनु स्मृति में शुभ-अशुभ धातुओं के बारे में बताया गया है। इस ग्रंथ में 3 ऐसी धातुओं के बारे में बताया गया है, जिनका उपयोग पूजा में नहीं करना चाहिए।

मनु स्मृति में लिखा है-

निलेप कांचनं भांडमभिरेव विशुद्धयपि।

अब्जमश्ममयंचैव राजतं चानुपस्कृतम्।।

इस श्लोक के अनुसार हमें एल्युमिनियम, लोहा और अप्राकृतिक धातुओं का उपयोग पूजा में नहीं करना चाहिए। पूजा में मिट्टी, तांबा, पीतल, चांदी, सोने के बर्तन उपयोग करना चाहिए।

> एल्युमिनियम के बर्तन का उपयोग पूजा में नहीं करना चाहिए, क्योंकि इस धातु को रगड़ने पर इसकी कालिख निलकने लगती है।

> लोहे के बने बर्तन हवा और पानी के संपर्क में आने से खराब होने लगते हैं। लोहे में जंग लग जाती है।

> पं. शर्मा के अनुसार स्टील अप्राकृतिक धातु है। इस कारण इसका उपयोग पूजा में नहीं करना चाहिए।

जानिए किन धातुओं के बर्तन होते हैं शुभ

> पूजा-पाठ में शंख, पत्थर, मिट्टी, सोना और चांदी के बर्तन शुभ होते हैं, क्योंकि ये सभी धातुएं केवल पानी से ही शुद्ध हो जाती है।

> सोना, चांदी महंगी धातुएं इनके बर्तन खरीद पाना सभी के लिए संभव नहीं है। ऐसे में घर के मंदिर में तांबा और पीलत के बर्तनों का उपयोग किया जा सकता है। ये धातुएं भी पवित्र मानी गई हैं।

X
which types of utensils we can use in worship, how to pray, worship method
Astrology

Recommended

Click to listen..