• Hindi News
  • Bihar
  • Begusarai
  • Begusarai News why lockdown and social distancing are important they will now explain in the village the panchayat public representative

लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग क्यों है जरूरी ये अब गांव में समझाएंगे पंचायत जनप्रतिनिधि

Begusarai News - बरौनी प्रखंड के मल्हीपुर दक्षिणी पंचायत में मुखिया रंजीत कुमार की अध्यक्षता में पंचायत के सभी जनप्रतिनिधियों,...

Mar 27, 2020, 06:30 AM IST
Begusarai News - why lockdown and social distancing are important they will now explain in the village the panchayat public representative

बरौनी प्रखंड के मल्हीपुर दक्षिणी पंचायत में मुखिया रंजीत कुमार की अध्यक्षता में पंचायत के सभी जनप्रतिनिधियों, आंगनवाड़ी सेविकाओं, आशा सदस्यों की एक बैठक की गई। बैठक में मुखिया रंजीत कुमार ने कहा कि सभी जनप्रतिनिधि अपने वार्ड स्तर पर लोगों को घर में रहने के लिए जागरुक करें। साथ ही अगर कोई लोग बाहर के प्रदेश से गांव में आता है तो इसकी सूचना प्रखंड प्रशासन को अविलंब दें। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से बचाव का एक ही उपाय है कि हम सभी सदस्यों का घर पर ही ठहरना। वहीं उप मुखिया कुमार राजा ने भी लोगों को इसके प्रति जागरुक किया। बैठक को सरपंच जापान राय, कार्यपालक सहायक सुमित कुमार, वार्ड सदस्य विक्रम कुमार, अजय कुमार, बद्री महतो, राजकुमार निषाद, राजो निषाद, सोना देवी, गीता देवी, आशा बहू श्यामा कुमारी सहित अन्य उपस्थित थे। वहीं दूसरी ओर पिपरादेवस पंचायत के जनप्रतिनिधियों की बैठक श्रीराम पुस्तकालय में मुखिया बबलू साव की अध्यक्षता में की गई। बैठक में करोना वायरस की जानकारी दी गई। मुखिया श्री साव ने कहा कि घर-घर जाकर जो प्रदेश से आए हुए हैं उनका नाम लिखकर जानकारी पीएचसी बरौनी को दी जाए। साथ ही आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका को घर-घर जाकर साबुन से हाथ धोने में इस्तेमाल करें और 2 मीटर की दूरी बनाकर रखें। बैठक में उपमुखिया प्रवीण, वार्ड सदस्य परशुराम, समाजसेवी मुकेश, सरिता देवी, मनोज पासवान, मनोज यादव, आंगनवाड़ी सदस्य मीनु, राधा, जीवन, नूतन, राखी कुमारी सहित अन्य उपस्थित थे।

कोरोनावायरस की रोकथाम के लिए पंचायतों में हुई बैठक

भगवानपुर | प्रखंड के सभी पंचायतों में गुरुवार को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए मुखिया की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई। बैठक में लॉकडाउन का पालन करवाने का अनुरोध सभी लोगों से किया गया। दूसरे राज्य से आने वाले लोगों का पता कर उसे पंचायत में निर्धारित आवासन केंद्र व पीएचसी पर जांच के लिए पहुंचाने को कहा गया। साथ ही सोशल डिस्टेंस बना कर रहने, प्रशासन द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करने आदि पर विस्तार से चर्चा की गई। मौके पर जोकिया के मुखिया अशोक राय, मेहदौली के सुरेश पासवान, लखनपुर के देवानंद पासवान, पंचायत सचिव जितेंद्र कुमार सिंह व जवाहरलाल पोद्दार, वार्ड कमिश्नर, आशा कार्यकर्ता, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता आदि मौजूद थे।

पंचायत जनप्रतिनिधियों ने कोरोनावायरस की रोकथाम को ले की जागरुकता बैठक, वार्ड सदस्य, पंच, आशाकर्मी व आंगनवाड़ी सेविका को दिए गए आवश्यक निर्देश

सिटी रिपोर्टर | नावकोठी

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से उत्पन्न स्थिति से निबटने के लिए पंचायत स्तरीय कर्मियों एवं जनप्रतिनिधियों की गुरुवार को आहुत की गई। लॉकडाउन के दौरान प्रखंड के विभिन्न पंचायत के पंचायत भवनों में कोरोना वायरस के रोकथाम एवं जागरुकता की बैठक में वार्ड सदस्य, पंच, आशा कर्मी, आंगनवाड़ी सेविका सहित पंचायत सचिव, रोजगार सेवक, विकास मित्र सहित अन्य कर्मियों ने हिस्सा लिया। बैठक में कोरोना वायरस के प्रति जन जागरुकता फैलाने, अपने परिवेश की साफ-सफाई करने, मंदिर मस्जिद में पूजा अर्चना के दौरान दूरी बनाने, लॉकडाउन के तहत घरों में रहने, हाथ साबुन से धोने, बाहर से आने वाले लोगों की सूचना पीएचसी के चिकित्सकों को देते हुए पंचायत स्तरीय आइसोलेशन वार्ड में वैकल्पिक व्यवस्था करने का निर्णय लिया गया। इस दौरान प्रखंड के महेशवाड़ा में मुखिया महावीर महतो, पहसारा पश्चिम के मुखिया नीतू देवी, पहसारा पूर्वी पंचायत में मुखिया दिनेश यादव, रजाकपुर में रिंकु देवी, डफरपुर में मुखिया सुनैना देवी, हसनपुर बागर में विजय कुमार पासवान, विष्णुपुर में प्रभा देवी ने अध्यक्षता में की।

कोलकाता से आए लोगों को ग्रामीणों ने गांव में प्रवेश से रोका, 18 परदेशियों को स्कूल में ठहराया

सिटी रिपोर्टर। बछवाड़ा।

जहां समूचे भारत में कोरोना कहर के प्रकोप से बचने के लिए आमलोग अपने-अपने घरों में दुबके हैं, वहीं सुदूर गांव-देहात के लोग भी इसके संक्रमण से बचने के लिए एड़ी-चोटी एक कर दिया है। कोरोना इफेक्ट के प्रति सक्रियता दिखाते हुए बेगूसराय व समस्तीपुर के सीमा पर बसे गांव रसीदपुर में परदेश से लौटे 18 लोगों को गांव में प्रवेश पर रोक लगा दी है। यह वाक्या उस समय हुआ जब बुधवार की देर रात कोलकाता से लौटे 18 लोगों से भरा ट्रक गांव के चौक पर रूका। आसपास बसे सजग ग्रामीणों के कान खडे़ हो गए। कुछ लोग जब बाहर निकल कर देखा तो बहुत सारे परदेशी को लौटा देख, परदेसियों को वहीं रूकने को कहा। इसपर पहले तो कुछ देर तक परदेसियों व ग्रामीणों के बीच कुछ देर तक कहासुनी होती रही। इन्हीं कहासुनी के शोरशराबे को सुन अन्य ग्रामीण भी इकट्ठे हो गए और गांव में प्रवेश पर रोक लगा दिया। तत्पश्चात प्रशासनिक अधिकारियों को संदिग्ध परदेसियों के आने की सूचना दी। मगर अधिकारी नहीं पहुंचे। गुरुवार की सुबह ग्रामीणों ने वरीय पदाधिकारी को फोन किया उसके बाद पीएचसी के डॉ जिवछ साह रसीदपुर गांव के चकदिलार स्कूल पहुंचकर लोगों का बिना किसी प्रकार की जांच किए सभी परदेशी का नाम लिख वापस चले गए। डॉक्टर ने कोई खास दिलचस्पी नहीं दिखाई। इसके बाद भी ग्रामीणों ने हार नहीं मानीं। संक्रमण के प्रति जागरुकता दिखाते हुए उक्त कुल 18 परदेसियों को प्राथमिक विद्यालय चकदिलार में तत्काल शिफ्ट कर दिया है। जहां ग्रामीण स्तर पर रहन-सहन व भोजन की व्यवस्था की जा रही है। हलांकि संदिग्ध परदेसियों के लिए प्रशासनिक तौर पर मध्य विद्यालय रसीदपुर के आइसोलेशन सेंटर के रूप में स्थापित किया गया है। मगर ग्रामीणों की सजगता से स्वस्थापित आइसोलेशन सेंटर के आगे प्रशासनिक तैयारी फीका साबित हो रहा है। बीडीओ डॉ विमल कुमार ने बताया कि प्रदेश से आने वाले लोगो के लिए मध्य विद्यालय रसीदपुर में आइसोलेशन रूम बनाया गया है। पंचायत के मुखिया उसे वहीं ठहराएंगे।

आजकल 80 % मामले साधारण फ्लू के होते हैं

जिले के कुछ युवा चिकित्सक, प्रशासनिक अधिकारी, पुलिस अधिकारी, मीडिया को जोड़ा गया है। इस ग्रुप के माध्यम से पहले जिले की हालत, सरकारी व्यवस्था तथा आमजनों की मनोदशा का अध्ययन किया गया है। इसके बाद हमलोगों ने डीएम के साथ इस संबंध में मीटिंग की है। अब हमने कोरोना की जंग लड़ेंगे हम हैंस टैग से हर किसी की जिम्मेदारी तय कर दी है। डाक्टर निशांत ने बताया कि जिस रफ्तार से कोरोना का संक्रमण बढ़ रहा है उस हिसाब से हमारे पास सुविधा और संसाधन नहीं है। कोरोना को लेकर आमलोगों में अफवाह भी है। आजकल 80 प्रतिशत मामले साधारण फ्लू के होते हैं, 80 में से 60 प्रतिशत तीन दिनों में खुद ठीक हो जाते हैं, लेकिन 20 प्रतिशत मामले ही सीरियस होते है, जिसमें से आधे यानि 10 प्रतिशत केस ही कोरोना हो सकते हैं। स्थिति बिगड़ने पर ये 10 प्रतिशत मामले ही हम डॉक्टरों के लिए चिंता का विषय है। क्योंकि इसी औसत के हिसाब से जो मरीज होंगे उस हिसाब से जिले में हमारे पास संसाधन नहीं है। ऐसी में स्थिति में हालात को संभालने की तैयारी हमलोगों ने अभी से ही शुरु कर दी है। उन्होंनें बताया कि फिलहाल जिले में तीन सौ आईसीयू का होना आवश्यक है, लेकिन सरकारी स्तर पर यह सुविधा उपलब्ध नहीं है, जबकि प्राइवेट में भी महज 30 आईसीयू ही हैं। इसके अतिरिक्त वेंटिलेटर सहित अन्य इक्यूपमेंट भी सरकारी स्तर पर उपलब्ध नहीं हैं। डॉ निशांत ने कहा है कि आम दिनों में समाज सेवा करने वालों के लिए यह सबसे बेहतर समय है। यहीं वो वक्त है जब समाज और लोगों को इस वायरस से बचाने का प्रयास कर असली समाज सेवा कर सकते हैं। बेगूसराय का डॉक्टर समाज इस वायरस से जिंदगी बचाने की जंग में उतरने को तैयार है, कोरोना की जंग लड़कर हम जीतेंगे। कोरोना से खुद से बचने की सलाह देते हुए डॉ निशांत ने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग का अक्षरशः पालन कर ही कोरोना के खिलाफ जंग जीती जा सकती है। डॉ राहुल कहते हैं कि मंझौल में जय मंगला क्लिनिक में 10 बेड का आइसोलेशन वार्ड तैयार है।

युवा चिकित्सकों की टीम ने की तैयारी, बोले- जिले में कोरोना की जंग लड़ेंगे हम

सिटी रिपोर्टर। बेगूसराय

कोरोना संक्रमण से जंग लड़ने के लिए डाक्टरों की टीम ने कमर कस ली है। छोटे-छोटे जगहों पर भी आइसोलेशन वार्ड बनाने की प्रक्रिया शुरु कर दी गई है। स्थिति बिगड़ने पर इन आइसोलेशन वार्डों का इस्तेमाल किया जा सकेगा। चिकित्सकों का कहना है कि सब कुछ सरकारी व्यवस्था के भरोसे ही नहीं छोड़ा जा सकता है हमें अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने के लिए कुछ अपने स्तर से भी व्यवस्था करनी होगी। जिले के कुछ युवा चिकित्सकों की टीम ने क्रिटिकल कंडीशन में मरीजों को आइसोलेट करने के लिए क्लिनिक की व्यवस्था सुधारनी भी शुरु कर दी है। लगभग 10 दिन पहले जिले के युवा चिकित्सकों ने एक व्हाट्स ग्रुप बनाया है जिसके माध्यम से जिले की स्थिति पर लगातार नजर रखी जा रही है। इतना ही नहीं ग्रुप में देश के कई नामी अस्पतालों के बड़े चिकित्सकों को शामिल कर उनसे राय मशविरा की जा रही है। ग्रुप के माध्यम से नए-नए रिसर्चरों पर जहां विमर्श किया जा रहा है वहीं पैनिक स्थिति में शहर को कैसे संभाला जा सकता है उसकी संभावना पर भी विचार की जा रही है।

शहर को संभालने की मुहिम की शुरुआत भी हो चुकी है। आईएमए के सचिव डॉ निशांत रंजन ने पहल करते हुए शहर के बड़े चिकित्सकों को ग्रुप से जोड़ा है। डॉ निशांत रंजन बताते हैं कि जिले में कोरोना की जंग को हराने के लिए सभी चिकित्सक मानसिक, शारीरिक रुप से तैयार हैं। सरकार और जिला प्रशासन अपने स्तर पर काम रही है, लेकिन अब हमारा भी कर्तव्य बनता है कि संकट की इस बेला में हम सरकार और अपने शहरियों की मदद करें। इसके लिए हमने व्हाट्स ग्रुप तैयार किया है।

पंचायत प्रतिनिधियों ने की बैठक, कोरोनावायरस से बचाव और लॉकडाउन का अनुपालन कराएंगे

सिटी रिपोर्टर | गढ़पुरा

कोरोना वायरस और लॉकडाउन के प्रति लोगों के बीच जागरुकता अभियान चलाए जाने को लेकर सरकारी आदेश के आलोक में गुरुवार को विभिन्न पंचायतों में निर्धारित किए गए जगह पर आवश्यक बैठक पंचायत जनप्रतिनिधियों द्वारा की गई। बैठक में पंचायत के मुखिया, सरपंच, वार्ड सदस्य, पंच, आंगनवाड़ी सेविका, आशा, पंचायत स्थित जिस विद्यालय में आइसोलेशन केंद्र बनाए गए हैं, उसके एचएम व अन्य शामिल थे। कोरोना वायरस से बचाव के लिए अपनाए जाने वाले सुरक्षा कोड व लॉकडाउन का अनुपालन करते हुए अपने-अपने घरों में रहने के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए खुद को जिम्मेदारी लेने का निर्णय लिया गया। बैठक में शामिल लोगों से कहा गया कि अपने-अपने वार्ड, पोषक क्षेत्र, पड़ोस के लोगों को जागरुक करते हुए लॉक डाउन का निश्चित रूप से पालन करते हुए घर में ही रहने, बेवजह बाहर नहीं निकलने, कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए नियमित अंतराल पर साबुन से 20 सेकेंड तक अच्छी तरह हाथ धोने, छींकते या खांसते समय अपने मुंह और नाक रूमाल या गमछे से अवश्य ढकने तथा इन कपड़ों को रोज अच्छे से साफ करने, भीड़ वाली जगहों पर नहीं जाने तथा सामाजिक दूरी बनाकर रखने, खांसने या छींकने वाले व्यक्तियों से कम-से-कम 1 मीटर की दूरी बनाकर रखने, बार-बार नाक, मुंह व आंख नहीं छूने, साफ-सफाई रखने, ताजा भोजन करने, एक-दूसरे से हाथ नहीं मिलाने, गंदे कपड़े नहीं पहनने आदि की बात बताया जाए। वहीं यदि कोई व्यक्ति पिछले 14 दिनों में विदेशिया या दूसरे राज्यों से वापस आए हैं तो उसके बारे में स्थानीय जनप्रतिनिधि को सूचित करने, ऐसे लोगों को तुरंत जांच करवाने, डॉक्टर द्वारा बताए गए सलाह को मानने, पंचायत में बनाए गए आइसोलेशन केंद्र में रहने, 14 दिनों तक परिवार, दोस्तों व अन्य लोगों से दूरी बनाए रखने की भी बात बता कर लोगों को जागरुक करने को कहा गया। बैठक के दौरान एक-दूसरे से दूरी बनाए रखने का पूरा ख्याल रखा गया।

सोशल डिस्टेंिसंग का पालन कराने को ले जनप्रतिनिधि लोगों को करेंगे जागरुक

छौड़ाही | कोरोना वायरस के बचाव तथा जन जागरुकता के लिए बिहार सरकार के आदेशानुसार गुरुवार को प्रखंड के सभी दसों पंचायत के पंचायत भवन पर एक बैठक आयोजित की गई। बैठक में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए सभी जनप्रतिनिधि, आशा, आंगनवाड़ी सेविका आदि को वैश्विक महामारी के संबंध में लोगों में लॉकडाउन का पालन करने को लेकर चर्चा की गई। मुखिया की अध्यक्षता में सभी ग्राम पंचायतों में यह निर्णय लिया गया कि सभी लोग कोरोना वायरस के मद्देनजर घोषित 21 दिनों के लॉकडाउन की अवधि में लोगों को अनावश्यक रूप से घर से निकलने पर मना करेंगे, हर आधे घंटे में सेनेटाइजर अथवा साबुन से हाथ धोने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करेंगे। साथ ही दूसरों को भी इसके प्रति सजग करेंगे। सभी पंचायत भवनों पर मुखिया ने कहा कि कोरोना वायरस मानव जाति के लिए भयंकर महामारी के रूप में सामने आ गई है। जिसके चेन को हमसब अलग-थलग तथा घर में रहकर ही तोड़ सकते हैं। मानव जीवन की रक्षा के लिए जितना हो सकेगा हमसभी को दृढ संकल्प के साथ आगे आना होगा और कोरोना वायरस को दूर भगाने के लिए लॉक डाउन का पालन करना होगा। बैठक में खासकर सोशल डिस्टेंसिंग पर फोकस किया गया।

286 परदेशी को खोदावंदपुर प्रखंड में किया गया होम क्वारान्टीन

खोदावंदपुर | प्रखंड क्षेत्र में बाहर से अपने घर लौटे 286 लोगों को अपने-अपने घरों में होम कोरोनटाइन में रखा गया है। जिनकी निगरानी का जिम्मा पोषक क्षेत्र की आशा आंगनबाड़ी सेविका को दिया गया है। उक्त जानकारी गुरुवार को बीडीओ अनुरंजन कुमार ने दी। उन्होंने बताया कि प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न पंचायतों में संबंधित पंचायतों के मुखिया की अध्यक्षता में गुरुवार को बैठक कर आशा और आंगनवाड़ी सेविकाओं को दिया गया है। साथ ही आशा और अंगनवाड़ी सेविकाओं को यह भी बताया गया है कि अपने क्षेत्र में परदेश से लौटने वाले लोगों का भी ध्यान उन्हें रखना है। इसकी जानकारी मिलते ही परदेश से वापस लौटने वाले लोगों की सूचना पोषक क्षेत्र से संबंधित मुखिया को अविलम्ब देना है। लॉकडाउन जन जागरुकता के बावत बीडीओ ने कहा कि सभी पंचायतों में पंचायत के मुखिया ध्वनि विस्तारक यंत्र के जरिए अपने-अपने क्षेत्र में तीन दिनों तक प्रचार-प्रसार करेंगे। साथ ही परदेश से लौटने वाले परदेशी जिसका घर होम कोरोनटाइन के लायक नहीं होगा, उसके लिए अलग से सरकारी विद्यालयों में आइसोलेशन वार्ड बनाकर ठहराया जाएगा। बतातें चले कि गुरुवार को मेघौल पंचायत के मुखिया पुरुषोत्तम सिंह, खोदावंदपुर के मुखिया शोभा देवी, फफौत के मुखिया किरण देवी, बरियारपुर पश्चमी पंचायत के मुखिया प्रेमलता देवी, बाड़ा पंचायत के मुखिया बेबी देवी, दौलतपुर पंचायत के मुखिया सुरेंद्र पासवान एवं सागी पंचायत के मुखिया अनिता देवी की अध्यक्षता में संबंधित पंचायतों में बैठक की गई।

कोरोनावायरस की रोकथाम को ले पंचायतों में बैठक कर दिए निर्देश

वीरपुर | कोरोना वायरस की रोकथाम को ले गुरुवार को वीरपुर प्रखंड के सभी 8 पंचायतों में आपातकालीन बैठक संबंधित मुखिया की अध्यक्षता में आयोजित की गई। वीरपुर पश्चिम पंचायत की बैठक ऐतिहासिक बसहा स्थान के प्रांगण में आयोजित की गई। इस अवसर पर मुखिया पंकज कुमार सिंह ने सोशल डिस्टेंस का ख्याल रखने, कोरोना वायरस से बचाव के लिए पंचायत के विभिन्न टोलों में जागरुक करने, बाहर से आने वाले लोगों की सूची जमा करने तथा उनका हेल्थ चेकअप करवाने की अपील की गई। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के लॉक डाउन की अपील को शत प्रतिशत लागू कर इस महामारी से अपने समाज को बचाया जा सकता है।

मौके पर ये लोग थे मौजूद

मौके पर सरपंच कृष्णनंदन सिंह, उपमुखिया सुशील कुमार, पंचायत सचिव प्रवीर कुमार सिंह, जेई अखिलेश कुमार सिंह, किशन कुमार पंडित, अभिषेक कुमार समेत सभी वार्ड सदस्य, पंच आदि उपस्थित थे। बैठक में सोशल डिस्टेंस का ख्याल रखा गया था। इधर नौला पंचायत में अनीता देवी, गेन्हरपुर में रामशंकर दास, भवानंदपुर में मो. मेराज अंसारी, वीरपुर पूर्वी में श्रुति गुप्ता, पर्रा में लालबहादुर शर्मा की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई जिसमें वार्ड सदस्य, पंच, आंगनवाड़ी सेविका, आशा कार्यकर्ता समेत कई जनप्रतिनिधि व पदाधिकारी उपस्थित थे।

ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना जागरुकता की कमान अब जनप्रतिनिधियों के हाथों में

बछवाड़ा | कोरोना जैसे संक्रमित बीमारी से बचाव को लेकर सरकार के निर्देश पर प्रखंड क्षेत्र के सभी 18 पंचायत स्थित विद्यालय के प्रांगण में एक बैठक की गई। बैठक के दौरान पंचायत के मुखिया, पंचायत सचिव, सरपंच, पंचायत समिति सदस्य,वार्ड सदस्य, आंगनवाड़ी सेविका, एएनएम, आशाकर्मी की बैठक की गई। बैठक में बीडीओ डॉ विमल कुमार ने कहा कि प्रदेश से आने वाले लोगों पर कड़ी नजर रखी जाय और स्वास्थ्य विभाग के कंट्रोल नंबर पर सूचित किया जाय। उन्होंने बताया कि प्रदेश से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को पंचायत स्थित विद्यालय को आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। उसी में स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में रखा जाएगा। उन्होंने बताया कि पंचायत के मुखिया द्वारा तीन दिन तक लगातार पूरे पंचायत में ध्वनि विस्तारक यंत्र द्वारा लोगों को जागरुक करने का काम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधि व सेविका, आशाकर्मी का दायित्व बनता है कि वो अपने-अपने पोषक क्षेत्र के लोगां के बीच जागरुकता अभियान चलाकर कोरोना जैसे संक्रमण से बचाव करने के तरीके से अवगत कराए। रानी दो पंचायत के मुखिया दीपांकर कुमार ने कहा कि जनप्रतिनिधियों को कहा कि अपने-अपने क्षेत्र के लोगों को जागरुकता के माध्यम से राशन दुकान, सब्जी दुकान आदि जगहों पर एक दुसरे से दूरी बनाकर रहे। वहीं लोगां को अपने-अपने घरों में रहने, एक-दूसरे से एक मीटर की दूरी बनाकर रहने, हाथों को हमेशा साबुन से साफ करने एवं मास्क पहनकर रहने की सलाह दी। उन्होंने बताया कि राशन दुकान एवं किराने की दुकान में किसी प्रकार की कालाबाजारी होने पर पुलिस प्रशासन समेत दिए गए कंट्रोल नम्बर पर शिकायत करें। बैठक के सहकारिता पदाधिकारी कमलेश कुमार, पीआरएस रणवीर कुमार, रामसरोवर शर्मा, जीपीएस पुरुषोतम कुमार, मुखिया शंकर साह, सरपंच बिनोद साह समेत पंचायत के सभी वार्ड और पंच मौजूद थे।

वीरपुर पश्चिम पंचायत के बसहा स्थान में आयोजित बैठक में उपस्थित लोग।

अगर कोई बाहर के प्रदेश से गांव में आता है तो इसकी सूचना प्रखंड जनप्रनिधि प्रशासन को अविलंब दें, इसके बारे में भी बताया

|12

कोरोना से बचाव को ले घर-घर जाकर लोगों को करेंगे जागरूक

पटना, शुक्रवार, 27 मार्च, 2020

घर में रहने और सोशल डिस्टेंसिंग का सौ फीसदी पालन करने को ले जनप्रतिनिधियों ने की अपील, बैठक में लिया निर्णय


फोटो 17 बेगूसराय- सदर अस्पताल में जांच के लिए आए लोग कर रहे हैं सोशल डिस्टेंस को मेंटेन

मल्हीपुर दक्षिण पंचायत सरकार भवन में बैठक में शामिल जनप्रतिनिधि और पंचायत कर्मी।

फोटो 05 मटिहानी- ग्राम पंचायत में बैठक करते जनप्रतिनिधि व कर्मी

Begusarai News - why lockdown and social distancing are important they will now explain in the village the panchayat public representative
Begusarai News - why lockdown and social distancing are important they will now explain in the village the panchayat public representative
Begusarai News - why lockdown and social distancing are important they will now explain in the village the panchayat public representative
X
Begusarai News - why lockdown and social distancing are important they will now explain in the village the panchayat public representative
Begusarai News - why lockdown and social distancing are important they will now explain in the village the panchayat public representative
Begusarai News - why lockdown and social distancing are important they will now explain in the village the panchayat public representative
Begusarai News - why lockdown and social distancing are important they will now explain in the village the panchayat public representative

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना