--Advertisement--

फीफा वर्ल्ड कप के कारण देश में बढ़ी फुटबॉल देखने वालों की संख्या; शुरुआती 58 मैच के दौरान टीवी पर 19.41 करोड़ इम्प्रेशनः बार्क

बार्क देश के लिए टीवी के दर्शकों से संबंधित साप्ताहिक डेटा जारी करने वाला एक गैर-लाभकारी निकाय

Dainik Bhaskar

Jul 23, 2018, 01:57 AM IST
21वां फुटबॉल विश्व कप 14 जून से 15 ज 21वां फुटबॉल विश्व कप 14 जून से 15 ज
  • पिछले 3 साल में खेल के इवेंट देखने वालों की संख्या 24% फीसदी बढ़ी
  • भारत में हुए 2017 अंडर-17 विश्व कप को देश के 4.7 करोड़ लोगों ने देखा

नई दिल्ली. भारतीय टेलीविजन दर्शकों के बीच अब भी क्रिकेट सबसे ज्यादा लोकप्रिय है, लेकिन रूस में हुए 21वें फीफा विश्व कप के कारण देश में फुटबॉल देखने वालों की संख्या में भी खासा इजाफा हुआ है। यह तब है जब भारत फुटबॉल विश्व कप का हिस्सा नहीं था। ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) की मानें तो देश में साल-दर-साल खेल देखने वाले दर्शकों की संख्या बढ़ रही है। 2016 में टेलीविजन देखने वाले कुल लोगों में से 2.8 फीसदी ही खेल या उससे जुड़े कार्यक्रम देखते थे। 2017 में यह संख्या 3.2 फीसदी हो गई, जबकि 2018 में यह आंकड़ा 3.48 फीसदी पर पहुंच गया।
बार्क के अनुसार, टीवी पर देखे जाने वाले खेल कार्यक्रमों में 64 फीसदी हिस्सा क्रिकेट का होता है, जबकि बाकी में अन्य खेल। हालांकि फीफा वर्ल्ड कप, बर्कलेज प्रीमियर लीग, ला लिगा, बुंदेसलिगा और अन्य प्रमुख खेलों के प्रति भी भारतीय दर्शकों का रुझान काफी बढ़ा है। बार्क ने बताया कि फुटबॉल विश्व कप के शुरुआती 58 मैच के दौारन टीवी पर 19.41 करोड़ इम्प्रेशन हुए। वहीं भारत-इंग्लैंड क्रिकेट टीम के बीच शुरुआती सिर्फ दो टी-20 मुकाबलों में यह आंकड़ा 2 करोड़ 7 लाख रहा। इम्प्रेशन नियत दर्शकों की वह संख्या है, जिन्होंने औसतन एक मिनट तक 'इवेंट' को देखा।

जून में क्रिकेट के मुकाबले 15 फीसदी ज्यादा फुटबॉल देखा गया
साल के 23वें से 25वें सप्ताह के बीच यानी जून 2018 में क्रिकेट और फुटबॉल दोनों के इवेंट हुए। क्रिकेट में भारत की आयरलैंड और इंग्लैंड के साथ सीरीज, जबकि फुटबॉल में हीरो इंटरकॉन्टिनेंटल कप और फीफा वर्ल्ड कप के मुकाबले हुए। इस दौरान टीवी पर खेल कार्यक्रमों में 30 फीसदी फुटबॉल, जबकि 15 फीसदी क्रिकेट देखा गया। भारत में स्पोर्ट्स ब्रॉडकास्टिंग कारोबार से जुड़े प्रमुख कंपनियों में से एक सोनी पिक्चर्स नेटवर्क (एसपीएन) के मुख्य राजस्व अधिकारी (वितरण) और स्पोर्ट्स के हेड राजेश कौल का कहना है कि 2017 फीफा अंडर-17 वर्ल्ड कप के बाद से देश में फुटबॉल के दर्शकों की संख्या तेजी से बढ़ी है।

अंडर-17 फीफा वर्ल्ड कप के बाद से बढ़ी फुटबॉल दर्शकों की क्षमता
कौल ने बताया, "2017 में भारत में हुआ अंडर-17 फुटबॉल विश्व कप, देश में फीफा का पहला कार्यक्रम था। भारत में फुटबॉल के दर्शकों की संख्या बढ़ाने में उस इवेंट का बहुत सकारात्मक योगदान रहा। टूर्नामेंट मील का पत्थर साबित हुआ, क्योंकि वह अपने इतिहास में सबसे ज्यादा दर्शकों की उपस्थिति वाला टूर्नामेंट बन गया।" कौल के अनुसार, "फीफा अंडर-17 वर्ल्ड कप के कुल दर्शकों में से 35 फीसदी से ज्यादा गैर पारंपरिक फुटबॉल क्षेत्रों से थे। कुल मिलाकर भारत में 4.7 करोड़ लोगों ने अंडर-17 फुटबॉल विश्व कप को देखा था। 2018 फीफा वर्ल्ड कप में यह आंकड़ा और बहुत ज्यादा हो गया।" फीफा वर्ल्ड कप का प्रसारण सोनी टेन 2, सोनी टेन 3 और सोनी ईएसपीन चैनलों पर किया गया था। फुटबॉल फीवर बढ़ाने के लिए प्रसारणकर्ता चैनल ने 'मेरीदूसरीकंट्री' अभियान भी चलाया था।

पसंदीदा टीमों के कारण भारतीयों ने देखा विश्व कप
कौल ने कहा कि यद्यपि भारत ने विश्व कप में भाग नहीं लिया, लेकिन टूर्नामेंट में देश के दर्शकों की कई पसंदीदा टीमें उसमें भाग ले रही थीं। भारतीय दर्शकों के लिए मैच देखने का अनुकूल समय होने के कारण एसपीएन ने मैचों का प्रसारण हिंदी, मलयालम, बंगाली, तमिल और तेलुगु में भी किया। बार्क के डेटा के अनुसार, 14 जून (24वां सप्ताह) को फुटबॉल विश्व कप की शुरुआत हुई थी। इसके पहले के 4 सप्ताह (20 से 23) और 24वें से 27वें सप्ताह के बीच तुलना करने पर पाया गया कि हिंदी के सामान्य मनोरंजन चैनल (जीईसी) की दर्शक क्षमता में 2 फीसदी की डिग्रोथ हुई है। ऐसा इसलिए क्योंकि फुटबॉल विश्व कप के अधिकांश मैच हिंदी जीईसी के प्राइमटाइम के समय नहीं खेले गए।

X
21वां फुटबॉल विश्व कप 14 जून से 15 ज21वां फुटबॉल विश्व कप 14 जून से 15 ज
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..