पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Khagaria News Workers Are Facing Double Wounds Due To Corona39s Havoc

कोरोना के कहर से दोहरी मार झेल रहे हैं मजदूर

5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

करोना वायरस के खतरे को लेकर लॉकडाउन की खबर के बाद जिले के मजदूर दोहरी मार झेलने को विवश हैं। शहर के राजेंद्र चौक पर रोज कुछ मजदूर डरे-सहमे काम की तलाश में आते हैं और निराश लौट जाते हैं। गुरुवार को मजदूरों ने भास्कर को अपनी व्यथा सुनाई। राजमिस्त्री जगदंबी रजक ने कहा कि कोरोना के हल्ला के बाद सबसे ज्यादा समस्या मजदूरों के सामने खड़ी हो गई है। एक तरफ कोरोना के डर से जान पर बन आई है। दूसरी तरफ सरकार द्वारा लॉकडाउन करने के बाद परिवार को भूख का सामना करना पड़ रहा है। राजमिस्त्री मुनीलाल कहते हैं कि एक तरफ मजदूरों को काम नहीं मिलने से माली हालत खराब हो रही है, दूसरी तरफ राशन, सब्जी, फल के भाव आसमान छू रहे हैं। भला ऐसे में मजदूरों के साथ उनके परिवार के भोजन व दवा का इंतजाम कैसे होगा?

विपिन यादव कहते हैं कि कोरोना वायरस के आने से सबसे ज्यादा मजदूरों की हालत खराब है। घर में रहें तो भूखों मरेंगे और काम करने बाहर निकलते हैं तो प्रशासन के डंडे और कोरोना वायरस से मौत का भय सताता है। ऊपर से काम भी नहीं मिल रहा है। क्या करें कुछ समझ नहीं आ रहा है। अविनाश कुमार ने कहा कि सरकार को लॉकडाउन करने से पहले कम से कम मजदूर वर्ग के बारे में सोचना चाहिए था। भोजन और दवा की व्यवस्था आखिर कहां से होगी? गरीब संतुलित आहार के बिना पहले ही कमजोर होकर किसी तरह जीवन जी रहे थे। उस पर कोरोना वायरस आकर भूखे रहने को मजबूर कर दिया है। ऐसे में सरकार को मदद के लिए कदम बढ़ाने की आवश्यकता है। निरंजन कुमार ने कहा कि एक तो वाहन बंद कर दिए गए हैं। ऊपर से घर से निकलने पर दंड दिया जा रहा है। घर बैठते हैं तो परिवार का भूखा चेहरा देखा नहीं जाता है। काम ढूंढने के लिए बाजार पहुंचते हैं, लेकिन यहां भी पुलिस की मार खाकर लौटना पड़ रहा है। पप्पू यादव कहते हैं कि मजदूर के लिए आगे कुआं, पीछे खाई वाली कहावत चरितार्थ हो रही है।

राजेंद्र चौक पर रोजगार की तलाश में बैठे दैनिक मजदूर।

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि के लिए ग्रह गोचर बेहतरीन परिस्थितियां तैयार कर रहा है। आप अपने अंदर अद्भुत ऊर्जा व आत्मविश्वास महसूस करेंगे। तथा आपकी कार्य क्षमता में भी इजाफा होगा। युवा वर्ग को भी कोई मन मुताबिक क...

और पढ़ें