--Advertisement--

World Population Day: 1804 में दुनिया की आबादी सौ करोड़ थी, दोगुना होने में सवा सौ साल लगे

91 साल में चार गुना बढ़कर 763 करोड़ हो गई दुनिया की आबादी

Danik Bhaskar | Jul 11, 2018, 02:13 PM IST

लाइफस्टाइल डेस्क. धरती पर 1804 में सौ करोड़ लोग थे। अमेरिकन नेचुरल हिस्ट्री के मुताबिक सौ करोड़ होने में 2 लाख साल लगे। पर अगले सौ करोड़ 130 साल में, उससे अगले 33 साल में, फिर 14 साल और फिर अगले 100 करोड़ 15 साल में पूरे हो गए। अब ग्रोथ रेट घट रही है। मौजूदा दर से आबादी दोगुनी होने में 200 साल लगेंगे।

क्यों मनाया जाता है वर्ल्ड पॉपुलेशन डे
11 जुलाई 1989 को दुनिया की आबादी 500 करोड़ हुई थी। यूएन ने जनसंख्या के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए इस दिन को वर्ल्ड पॉपुलेशन डे घोषित किया।

असर : ग्रोथ रेट 0.7% घटी
1989 में ग्रोथ रेट 1.79% थी। अब 1.09% है। यानी पॉपुलेशन डे शुरू होने के बाद ग्रोथ रेट 0.7% घटी है। यूएन कह रहा 2050 तक यह दर 0.56% होगी।
इस बार की थीम फैमिली प्लानिंग
1968 के तेहरान सम्मेलन में फैमिली प्लानिंग को मानवाधिकारों का दर्जा मिला। अब इसके 50 वर्ष होने पर वर्ल्ड पॉपुलेशन डे की थीम फैमिली प्लानिंग रखी गई है।
30 साल बाद आबादी 900 करोड़ होगी
भारत 2025 में चीन को पीछे छोड़ते हुए दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जाएगा।

दुनिया के 763 करोड़ लोगों में से 58% सिर्फ 10 देशों में

देश आबादी करोड़ में %
चीन 141 18.54%
भारत 135 17.74%
अमेरिका 33 4.28%
इंडोनेशिया 27 3.50%
ब्राजील 21 2.76%
पाकिस्तान 20 2.63%
नाइजीरिया 19 2.57%
बांग्लादेश 17 2.18%
रूस 14 1.89%
मैक्सिको 13 1.71%


आज यह आबादी कर क्या रही है...

  • 197 करोड़ 15 साल से छोटे
  • 170 करोड़ सर्विस सेक्टर में
  • 149 करोड़ खेती कर रहे
  • 89 करोड़ कारखानों में
  • 58 करोड़ 64 साल से ज्यादा
  • 51 करोड़ बेरोजगार
  • 46 करोड़ उद्यमी