सोशल सच /एक पाकिस्तानी ने चुरा लिए थे नदी में नहाते कश्यप ऋषि के कपड़े, पर यह सिर्फ एक मजाक की बात थी

Dainik Bhaskar

Oct 04, 2018, 05:32 PM IST


a pakistani stoled a cloths of rishi kashyap in kashmir reality check
इजरायल का उदाहरण इजरायल का उदाहरण
अमेरिका का उदाहरण अमेरिका का उदाहरण
फिलिस्तीन का उदाहरण फिलिस्तीन का उदाहरण
X
a pakistani stoled a cloths of rishi kashyap in kashmir reality check
इजरायल का उदाहरणइजरायल का उदाहरण
अमेरिका का उदाहरणअमेरिका का उदाहरण
फिलिस्तीन का उदाहरणफिलिस्तीन का उदाहरण

नो फेक न्यूज डेस्क. सोशल मीडिया पर अक्सर एक मैसेज वायरल होता रहता है, जिसमें कश्मीर मुद्दे पर यूएन असेंबली में भारतीय प्रतिनिधि की तरफ से दिए गए भाषण का जिक्र रहता है। इस मैसेज में दावा किया जाता है कि भारतीय प्रतिनिधि ने कश्मीर मसले पर पाकिस्तान को ऐसा जवाब दिया कि वहां मौजूद सभी लोग हंसने लगे।

 

हालांकि, हमारी पड़ताल में सामने आया कि सोशल मीडिया पर जो मैसेज वायरल हो रहा है, वो सिर्फ ह्यूमर क्रिएट करने के लिए बनाया गया है और ऐसा कभी हुआ ही नहीं। इसके साथ ही अलग-अलग देशों में भी इसी तरह का मैसेज अलग-अलग रूप में वायरल होता रहता है।

  • क्या लिखा है वायरल मैसेज में?

    क्या लिखा है वायरल मैसेज में?

    हाल ही में यूएन असेंबली में भाषण और राजनीति का ऐसा उदाहरण देखने को मिला, जिसने विश्व समुदाय को हंसने का मौका दिया।

     

    भारत के एक प्रतिनिधि ने अपने भाषण में कहा: 'मेरे भाषण की शुरुआत करने से पहले मैं आपको कश्मीर के ऋषि कश्यप के बारे में कुछ बताना चाहता हूं, जिनके नाम पर कश्मीर का नाम रखा गया।

    एक बार उन्हें एक खूबसूरत झील दिखाई दी तो उन्होंने सोचा कि यहां नहाने का अच्छा मौका है।

    उन्होंने अपने कपड़े उतारे और उन्हें रखकर पानी में उतर गए। जब वो नहाकर बाहर निकले तो उन्होंने देखा कि वहां उनके कपड़े नहीं थे। दरअसल, एक पाकिस्तानी ने उनके कपड़े चुरा लिए थे।'

    इस पर असेंबली में मौजूद पाकिस्तानी प्रतिनिधि ने जोर से चिल्लाते हुए कहा 'तुम किस बारे में बात कर रहे हो? उस समय पाकिस्तानी नहीं थे?'

    इसके बाद भारतीय प्रतिनिधि ने मुस्कुराते हुए कहा 'अब हमने सब साफ कर दिया है। मैं अपना भाषण शुरू करूंगा और वे (पाकिस्तान) कहते हैं कि कश्मीर उनका हिस्सा है।'

    इसके बाद सभी लोग हंसने लगे।

  • पड़ताल : क्यों सिर्फ एक मजाक है ये मैसेज?

    • इस वायरल मैसेज की पड़ताल करने के लिए हमने इसके बारे में गूगल पर सर्च किया, लेकिन हमें कहीं भी ऐसी लिंक नहीं मिली, जिसमें इस मैसेज की सच्चाई साबित हो सके। 
    • सर्चिंग के दौरान हमें एक फैक्ट-चेकिंग वेबसाइट Snopes.com की लिंक मिली, जिसमें इस मैसेज के बारे में एक रिपोर्ट छपी थी। वेबसाइट ने ये रिपोर्ट अगस्त 2008 में लगाई थी। जिसका मतलब हुआ कि ये मैसेज आज से कम से कम 10 साल पुराना तो है।
    • Snopes ने अपनी रिपोर्ट में इसी तरह के मैसेज के अलग-अलग उदाहरण दिए हैं और बताया है कि अलग-अलग देशों में ये मैसेज अलग-अलग रूप में वायरल होता रहता है। इसमें एक उदाहरण इजरायल का, दूसरा फिलिस्तीन का और तीसरा अमेरिका का है। एक उदाहरण भारत का भी है, जिसके बारे में हमने बताया।

    इजरायल का उदाहरण

     

     

    फिलिस्तीन का उदाहरण

     

     

    अमेरिका का उदाहरण

     

COMMENT