नो फेक न्यूज / आर्मी चीफ बिपिन रावत ने कहा- अगर नेता बनना है तो पहले 5 साल देश की सेवा को दो, पर ये सरासर झूठ है

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2019, 06:28 PM IST


army chief bipin rawat fake quote shared again on social media
X
army chief bipin rawat fake quote shared again on social media
  • comment

  • आर्मी चीफ बिपिन रावत का झूठा बयान एक बार फिर वायरल, सितंबर 2018 में भी यही पोस्ट वायरल हुआ था
  • दावा है कि आर्मी चीफ ने कहा, नेता बनने से पहले आर्मी में रहेंगे तो देश का 80% कचरा साफ हो जाएगा
  • पर सितंबर 2018 में आर्मी ने खुद बयान जारी कर इस पोस्ट को झूठा बताया था

नो फेक न्यूज डेस्क. सोशल मीडिया पर अक्सर देश की बड़ी-बड़ी शख्सियतों को लेकर झूठे बयान वायरल होते रहते हैं। इसी तरह का एक बयान इन दिनों आर्मी चीफ बिपिन रावत का भी हो रहा है। दरअसल, सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रही है जिसमें दावा किया जा रहा है कि आर्मी चीफ का कहना है कि, अगर किसी को नेता बनना है तो उसे पहले 5 साल आर्मी में काम करना होगा। 


हालांकि, सच्चाई तो ये है कि आर्मी चीफ बिपिन रावत ने कभी इस तरह का बयान नहीं दिया। यही पोस्ट सोशल मीडिया पर पिछले साल सितंबर में भी वायरल हुई थी, जिसके बाद आर्मी ने बयान जारी कर इसे झूठा और फर्जी बताया था।

 

no fake news
 

दावा- ऐसा हुआ तो 80% कचरा साफ हो जाएगा
वॉट्सऐप पर हमें एक यूजर ने इस पोस्ट की सच्चाई जानने के लिए भेजा। इस पोस्ट में लिखा है, "आर्मी चीफ बिपिन रावत जी ने कहा अगर नेता बनना है तो 5 साल पहले देश की सेवा के लिए आर्मी में होना अनिवार्य कर दिया जाए। यकीन मानिए देश का 80% कचरा अपने आप ही साफ हो जाएगा। इनके बातों से कितने लोग सहमत हैं।"


आर्मी ने खुद कहा था, ये बयान तथ्यहीन और गलत है
आर्मी चीफ बिपिन रावत के झूठे बयान वाला यही पोस्ट सितंबर 2018 में भी वायरल हुआ था। उस वक्त भारतीय सेना के आधिकारिक फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल पर इस पोस्ट को लेकर एक बयान जारी किया गया था, जिसमें इसे झूठा बताया गया था। भारतीय सेना ने बयान जारी कर कहा था, "सोशल मीडिया पर सेना अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत द्वारा जारी किया हुआ एक झूठा बयान कुछ असामाजिक तत्वों ने फैलाने का प्रयास किया है। ये बयान तथ्यहीन और गलत है। कृपया इसे आगे न फैलाएं।"

 

 

 

 

no fake news

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें