फैक्ट चेक / पीएम मोदी से किए गए वादे के अनुसार शेख सुल्तान ने बनवाया अबू धाबी का पहला हिंदू मंदिर

Dainik Bhaskar

May 19, 2019, 06:05 PM IST



Fact check- Abudhabi's First Hindu Temple is Ready as promised to pm narendra modi
X
Fact check- Abudhabi's First Hindu Temple is Ready as promised to pm narendra modi

  • क्या फेक : पीएम मोदी से किए वादे के अनुसार सुल्तान शेख मोहम्मद ने आबू धाबी में बनवाया पहला हिंदू मंदिर
  • क्या सच : वायरल वीडियो 3 साल पहले आबू धाबी में मोरारजी बापू द्वारा रामकथा वाचन का है, आबू धाबी में बनने वाले पहले हिंदू मंदिर की नींव पिछले महीने ही रखी गई है

फैक्ट चेक डेस्क. सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। दावा किया जा रहा है कि सुल्तान शेख मोहम्मद ने पीएम नरेन्द्र मोदी से किए वादे के अनुसार अबू धाबी में पहला हिंदू मंदिर बनवाया है।

 

वीडियो के साथ सोशल मीडिया यूजर लिख रहे हैं, 'सुल्तान शेख मोहम्मद ने अबू धाबी में प्रधानमंत्री मोदी से अपने वादे के अनुसार पहला हिंदू मंदिर बनवाया। सुल्तान की पत्नी बेगम सिर पर पवित्र रामायण की प्रति लेकर मंदिर की ओर जा रही हैं और साथ में सुल्तान शेख मोहम्मद और मोरारी बापू भी दिखाई दे रहे हैं।'

 

क्या वायरल
रश्मिन दवे नामक यूजर के ट्विटर अकाउंट से यह ट्वीट शेयर किया गया है। वीडियो को फेसबुक और वॉट्सऐप पर भी शेयर किया जा रहा है। ज्यादातर सोशल मीडिया यूजर्स द्वारा शेयर किए गए वीडियो की आवाज से छेड़छाड़ की गई है। 
 


क्यों फेक

  • वायरल वीडियो सितंबर 2016 में कथावाचक मोरारजी बापू के रामकथा वाचन के समय का है। जिगनेश त्रिवेदी नाम के यूट्यूब चैनल पर ओरिजनल वीडियो 23 सितंबर 2016 को अपलोड किया गया था।


 

 

  • साल 2018 में इसी आयोजन को लेकर कई फेक न्यूज शेयर की गई थी। सुल्तान द्वारा जय श्री राम का नारा लगाने और सुल्तान की पत्नी द्वारा रामायण सिर पर रखने की फेक न्यूज की पड़ताल में एबीपी न्यूज को दिए गए इंटरव्यू में मोरारी बापू ने बताया था कि सुल्तान की पत्नी ने अपने सर पर रामायण नहीं उठाई थी। वीडियो में काले कपड़ों में सर पर रामायण रखे हुए दिखाई दे रही युवती आयोजकों के परिवार की थी।


 

 

  • अबू धाबी में बनने वाले पहले हिंदू मंदिर का शिलान्यास 20 अप्रैल 2019 को किया गया है। इसे बनने में अभी काफी वक्त लगने की संभावना है।
''


साफ है कि वायरल वीडियो 3 साल पुराना है और उसके साथ किया गया दावा भी गलत है।
 

''

 

COMMENT