• Hindi News
  • No fake news
  • No Fake News: Fact Check On Viral Photo of Kashmir School Student After Abolishing Articles 370 And 35 A

फैक्ट चेक / जम्मू-कश्मीर के छात्र की सालभर पुरानी तस्वीर फिर वायरल, अभी का बताकर फैलाया जा रहा भ्रम



No Fake News: Fact Check On Viral Photo of Kashmir School Student After Abolishing Articles   370 And 35-A
X
No Fake News: Fact Check On Viral Photo of Kashmir School Student After Abolishing Articles   370 And 35-A

  • क्या वायरल : एक छात्र की फोटो। इसमें कुर्सी पर बैठे छात्र के सामने जवाब बंदूक ताने खड़ा नजर आ रहा है
  • क्या सच : यह तस्वीर एक साल पुरानी है। खुद इसे क्लिक करने वाले फोटो जर्नलिस्ट ने बताया कि इस फोटो को पिछले साल भी काफी वायरल किया गया था

Dainik Bhaskar

Aug 20, 2019, 11:22 AM IST

फैक्ट चेक डेस्क. जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद-370 को निष्प्रभावी किए जाने के बाद से ही सोशल मीडिया में एक तस्वीर वायरल हो रही है। इसमें एक स्कूल स्टूडेंट कुर्सी पर बैठा नजर आ रहा है और उसके सामने जवान खड़े नजर आ रहा है। इस तस्वीर को जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा छीनने वाले निर्णय के खिलाफ विरोध का प्रतीक बताया जा रहा है। दैनिक भास्कर मोबाइल ऐप के एक पाठक ने हमें यह फोटो सच जानने के लिए भेजी। पड़ताल में पता चला कि यह सालभर पुरानी फोटो है, जिसे गलत जानकारी के साथ अभी वायरल किया जा रहा है। 

 

क्या वायरल

  • एक स्कूल स्टूडेंट की तस्वीर।
  • इसे भारत और पाकिस्तान दोनों ही जगह शेयर किया जा रहा है। 

 

  • पाकिस्तान में लोग इसे ट्वीटर पर शेयर कर रहे हैं। साथ ही दावा कर रहे हैं कि यह तस्वीर कश्मीर में चल रहे मौजूदा तनाव के बीच की है। 


क्या है सच्चाई

  • पड़ताल में पता चला कि यह फोटो एक साल पुरानी है। इसे उत्तर कश्मीर में फोटो जर्नलिस्ट पीरजादा वसीम ने क्लिक किया था। 
  • बीबीसी को दिए इंटरव्यू में पीरजादा वसीम ने बताया कि उन्होंने ये तस्वीर 27 अगस्त 2018 को श्रीनगर के सोपोर कस्बे में क्लिक की थी। 
फोटो जर्नलिस्ट पीरजादा वसीम।

 

  • उस दौरान श्रीनगर के कुछ इलाकों में यह अफवाह फैलना शुरू हुई थी कि सुप्रीम कोर्ट 35-ए पर सुनवाई करने जा रहा है। इसी के बाद कुछ अलगाववादी संगठनों ने कश्मीर के कई हिस्सों को बंद करने का आह्वान कर दिया था और मार्च करने की चेतावनी दी थी। 
  • इस अफवाह के फैलने की पुष्टि तत्कालीन एडीजी पुलिस (सिक्योरिटी) मुनीर अहमद खान ने भी ट्वीट कर की थी। आप उनका ट्वीट देख सकते हैं।

 

  • पीरजादा ने बीबीसी को दिए इंटरव्यू में खुलासा किया कि 35-ए को हटाने की अफवाह फैलने के बाद पुलिस ने स्कूल-कॉलेज बंद करवा दिए थे। इस दौरान लोगों ने पत्थरबाजी भी की थी, जिसका जवाब सैनिकों ने पैलेट गन से दिया था। 
  • इसी दौरान लड़कों का एक समूह वहां से गुजर रहा था। इन्हीं लड़कों में से एक दुकान के बाहर रखी एक कुर्सी पर बैठ गया और चिल्लाने लगा कि अब चलाओ गोली, देखते हैं कितना दम है। 
  • उन्होंने बताया कि सैनिकों ने गोली चलाई थी लेकिन छर्रे लड़के को नहीं लगे थे। पीरजादा की यह तस्वीर 2018 में भी काफी वायरल की गई थी।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना