पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • No fake news
  • Fact Check : Sharia Law Been Enforced In A Village In West Bengal ? Viral Message Conisist Of Half truth, Half lie

फेक vs फैक्ट:क्या पश्चिम बंगाल के एक गांव में शरिया कानून लागू कर दिया गया है ? वायरल मैसेज में बताया जा रहा आधा सच आधा झूठ

10 महीने पहले

क्या वायरल : सोशल मीडिया पर यह दावा किया जा रहा है कि पश्चिम बंगाल के एक गांव में शरिया कानून लागू हो गया है। मैसेज को सोशल मीडिया पर बड़ी संख्या में यूजर शेयर कर रहे हैं।

तीन दिन पहले पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले के एक गांव में प्रधान ने एक अजीब तरह का फतवा जारी किया था। जिसमें टीवी देखने, कैरम खेलने, मोबाइल चलाने, कम्प्यूटर चलाने और लॉटरी खरीदने को हराम बताते हुए इन सभी कामों पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। इस प्रतिबंध को न मानने वालों के लिए प्रधान ने जुर्माने तक का प्रावधान कर दिया था।

कट्‌टरपंथ से प्रेरित इस फतवे से जुड़ी खबरें आने के बाद सोशल मीडिया पर दावा किया जाने लगा कि इस गांव में अब शरिया लागू कर दिया गया है। इस दावे को शेयर करते हुए लोग पश्चिम बंगाल की ममता सरकार पर निशाना साध रहे हैं।

दावे से जुड़े ट्वीट

फेसबुक पर भी लोग इस दावे से जुड़े पोस्ट कर रहे हैं

फैक्ट चेक पड़ताल

  • तीन दिन पहले पश्चिम बंगाल के एक गांव में जारी किए गए फतवे से जुड़ी कई खबरें इंटरनेट पर हैं। लेकिन, शरिया कानून लागू होने का जिक्र किसी में नहीं है।
  • The Telegraph की वेबसाइट पर 18 अगस्त को छपी खबर में पूरी घटना का विस्तार से विवरण दिया गया है। खबर के अनुसार, कट्‌टरपंथ से प्रेरित यह फतवा ग्राम पंचायत की एक कमेटी ने जारी किया था। इस कमेटी में तीन सदस्य तृणमूल के और एक सदस्य कांग्रेस का था। इन चार लोगों ने ही फतवे से जुड़े पम्फलेट भी छपवाए। इस कमेटी के अध्यक्ष अजहरुल शेख ने कहा: युवाओं के हित में यह फतवा जारी किया गया था और इसे मानना अनिवार्य है
  • क्षेत्र के पुलिस अधीक्षक वाय रघुवंशी ने टेलीग्राफ से हुई बातचीत में कहा कि :मामले में कानूनी कार्रवाई की जाएगी। हालांकि, फतवा जारी करने वाली कमेटी के अध्यक्ष अजहरुल का दावा है कि पुलिस ने उनसे कोई संपर्क नहीं किया है।
  • पश्चिम बंगाल पुलिस ने 19 अगस्त को ट्वीट कर बताया कि मामले में कार्रवाई हो चुकी है। हालांकि यह स्पष्ट नहीं हो सका कि कार्रवाई क्या की गई है।

निष्कर्ष : पश्चिम बंगाल के एक गांव में फतवा जारी किया गया यह बात सही है। लेकिन, यहां शरिया कानून लागू होने वाला दावा झूठा है। फतवा जारी किए जाने के मामले में भी पुलिस कार्रवाई कर रही है।

खबरें और भी हैं...