• Hindi News
  • No fake news
  • Fact check West bengal police arrested a wife for calling his husband Shri ram sinha's name aloud

फैक्ट चेक / बंगाल पुलिस ने पति को नाम से पुकारने वाली महिला को किया गिरफ्तार? दावा- पति का नाम था श्रीराम



Fact check- West bengal police arrested a wife for calling his husband Shri ram sinha's name aloud
X
Fact check- West bengal police arrested a wife for calling his husband Shri ram sinha's name aloud

  • क्या फेक : बाज़ार में अपने पति श्रीराम सिन्हा को आवाज लगाई तो बंगाल पुलिस ने पत्नी को गिरफ्तार किया
  • क्या सच : वायरल स्क्रीनशॉट व्यंग्य न्यूज पोर्टल द फॉक्सी की काल्पनिक खबर का है

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2019, 06:51 PM IST

फैक्ट चेक डेस्क. दैनिक भास्कर प्लस ऐप के पाठक ने हमें एक खबर का स्क्रीनशॉट भेजा और उसकी सच्चाई बताने के लिए कहा। खबर का शीर्षक है, 'बाजार में अपने पति श्रीराम सिन्हा को आवाज लगाई तो बंगाल पुलिस ने लिया पत्नी को हिरासत में।'
खबर के साथ एक तस्वीर लगी है, जिसमें कुछ महिला पुलिसकर्मी एक महिला को खींचती दिखाई दे रही हैं।

 

सोशल मीडिया पर भी यूजर्स स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिख रहे हैं, 'कलकत्ता में उपासना नामक महिला ने अपने पति श्रीराम को आवाज़ लगाई तो ममता की पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। सच में - विनाशकाले विपरीत बुद्धि।'

 

क्या वायरल

  • वायरल पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि बंगाल पुलिस ने उपासना नाम की एक महिला को सिर्फ इसलिए गिरफ्तार कर लिया क्योंकि उसने अपने पति को आवाज दी थी। पति का नाम श्रीराम सिन्हा था।
  • खबर में शीर्षक के नीचे 'फॉक्सी' लिखा दिखाई दे रहा है। यह उस वेबसाइट का नाम है जिस पर खबर पब्लिश की गई है।
     

 

क्यों फेक

  • द फॉक्सी नाम की वेबसाइट पर यह खबर 12 मई 2019 को पब्लिश की गई थी।
  • द फॉक्सी एक व्यंग्य न्यूज पोर्टल है। इसमें किसी भी समसामायिक मुद्दे को काल्पनिक कहानी से जोड़कर व्यंग्य लेख लिखे जाते हैं।
  • वेबसाइट में नीचे की ओर साफ लिखा हुआ है, 'द फॉक्सी एक व्यंग्य वेब पोर्टल है, जिसे पहले फॉल्टन्यूज के नाम से जाना जाता था। इस वेबसाइट पर प्रकाशित सामग्री कल्पना पर आधारित है। पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे द फॉक्सी के लेखों को वास्तविक और सत्य ना समझें।'
     
''

 

  • खबर के साथ इस्तेमाल की गई तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज टूल की मदद से सर्च करने पर पता चला कि तस्वीर बच्चों की तस्करी का विरोध कर रहे एक्टिविस्ट और पुलिस के बीच हुई झड़प की है।
  • हिंदुस्तान टाइम्स ने 1 मार्च 2017 को एक खबर पब्लिश की थी, जिसमें वायरल खबर वाली तस्वीर का इस्तेमाल किया था। 
     
''

 

  • पड़ताल से स्पष्ट है कि वायरल खबर और उसमें इस्तेमाल तस्वीर का आपस में कोई लेना-देना नहीं है। वायरल स्क्रीनशॉट व्यंग्य न्यूज पोर्टल द फॉक्सी द्वारा पब्लिश किए गए एक लेख का है, जिसका वास्तविकता से कोई लेना-देना नहीं है।
     
''

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना