फैक्ट चेक / मूवी से ली गई फोटो को बताया जा रहा महात्मा गांधी की हत्या के दौरान का दुर्लभ चित्र



X

  • क्या वायरल : एक फोटो। दावा है कि यह गांधीजी की हत्या के दौरान का दुर्लभ चित्र है
  • क्या सच : फोटो 1963 में आई मूवी का है, न की गांधीजी की हत्या के दौरान का

Dainik Bhaskar

Oct 07, 2019, 05:30 PM IST

फैक्ट चेक डेस्क. इन दिनों देश राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मना रहा है। इसी के बीच गांधीजी से जुड़ी कई फर्जी तस्वीरें भी सोशल मीडिया में वायरल की जा रही हैं। ऐसी ही उनकी हत्या से जुड़ी एक फर्जी तस्वीर भी वायरल हो रही है। एक पाठक ने हमें यह तस्वीर पुष्टि के लिए भेजी। पड़ताल में पता चला कि वायरल इमेज झूठी है। 

 

क्या वायरल

 

सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीर।

 

  • एक तस्वीर। इसमें एक व्यक्ति जमीन पर नीचे लेटा नजर आ रहा है, साथ में एक अन्य व्यक्ति बैठा है। वहीं कुछ दूरी पर एक शख्स नजर आ रहा है, जिसे दो लोगों ने पकड़ रखा है। 
  • इस फोटो के साथ में दिए गए कैप्शन में लिखा है कि ' महात्मा गांधीजी की हत्या की एक दुर्लभ तस्वीर। महात्मा गांधी की हत्या करने वाले हिंदू चरमपंथी आरएसएस वर्कर नाथूराम गोडसे को दो हिंदूओं ने पकड़ा हुआ है, गांधीजी का पार्थिव शरीर जमीन पर रखा है आरएसएस को भारतीय अधिकारियों द्वारा प्रतिबंधित कर दिया गया था'। 

क्या है सच्चाई

  • इस पोस्ट के कमेंट सेक्शन में ही कई यूजर्स ने इस फोटो को मूवी का बताया है। 
  • पड़ताल में पता चला कि इस फोटो को सोशल मीडिया यूजर्स द्वारा कई बार शेयर किया जा चुका है। 
  • रिवर्स सर्च से पता चला कि यह फोटो फिल्म नाइन आउर्स टू रामा की है। यह वर्ष 1963 की मूवी है, जो मार्क रॉबसन द्वारा निर्देशित की गई थी। मूवी की लिंक उपलब्ध है। 
  • इस मूवी में हॉर्स्ट बुचोलज ने गोडसे की भूमिका निभाई थी। 
  • वायरल पिक्चर में नजर आ रहे शख्स का फोटो देखकर पता चलता है कि यह हॉर्स्ट बुचोलज ही हैं। 
मूवी का चित्र।

 

  • इससे स्पष्ट होता है कि वायरल फोटो मूवी की है न की गांधीजी की हत्या के दौरान की।
  • 30 जनवरी 1948 को नईदिल्ली के बिरला हाउस में गांधीजी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। अब इस जगह को गांधी स्मृति के नाम से जाना जाता है। इसी जगह पर उन्होंने अपनी जिंदगी के आखिरी 144 दिन बिताए।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना